Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शुक्रवार, 14 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हिंदू कितना बदनाम होगा

पांच साल पहले हर दिन इस्लाम, मुसलमान इस वैश्विक हल्ले में घिरा हुआ था कि ये कैसे हैं और आज दुनिया में चर्चा है कि ये हिंदू कैसे हैं!

Narendra Modi, Modi Government, Mob Lynching, Hindu Muslims, Cow slaughter, नरेंद्र मोदी, मोदी सरकार, मॉब लिंचिंग, हिंदू मुस्लिम, गौ हत्या, naya haryana, नया हरियाणा

26 जुलाई 2018

हरि शंकर व्यास

हिंदूओं का राज और बदनाम कौन? हिंदू!  हां, पांच साल पहले हर दिन इस्लाम, मुसलमान इस वैश्विक हल्ले में घिरा हुआ था कि ये कैसे हैं और आज दुनिया में चर्चा है कि ये हिंदू कैसे हैं! कैसा देश है जहां भीड़ पीट-पीट कर लोगों को मारती है! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अभी केन्या, दक्षिण अफ्रीका की यात्रा पर हैं। और जान ले वहां के विदेश मंत्रालयों ने मोदी से मुलाकात की तैयारी में अपने नेताओं के लिए जो ब्रीफ बनाई होगी उसमें खबरों-घटनाओं के हवाले लिखा होगा कि नरेंद्र मोदी उस देश, सरकार के मुखिया हैं जहां भीड़ लोगों को मारती है। गोरक्षा के नाम पर गौरक्षक पीट-पीट कर हत्या करते हंै।  संभव है हिंदूवादी इस सबकों दुनिया का पक्षपाती नजरिया, सेकुलरों का, हिंदू विरोधियों का नजरिया माने। कई हिंदू यह मूर्ख सोच भी लिए हुए होंगे कि इससे हिंदुओं की मर्दानगी जाहिर हो रही है और इससे नरेंद्र मोदी का डंका बजा हुआ है! वे वैश्विक हीरो हैं। सो  गौरक्षा और मॉब लिंचिंग पर दुनिया में हिंदू बदनाम नहीं है बल्कि बतौर कौम हिंदुओं की 56 इंची छाती में यह श्रीवद्वी है!

क्या सचमुच? सवाल इसलिए है क्योंकि संघ परिवार, भाजपा, मोदी सरकार याकि हिंदू जनजागरण की आकांक्षी जमात में किसी में भी शर्म से डुबने जैसा यह बोध नहीं दिखलाई दिया है कि जो हुआ है या हो रहा है वह हिंदुओं की बदनामी वाली बात है। कभी कठुआ जैसी शर्म तो कभी मॉब लिचिंग। बावजूद इसके संघ के इंद्रेशकुमार, भाजपा के विनय कटियार, मंत्री गिरिराज किशोर, अर्जुन मेघवाल से ले कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मौन या मुखर प्रतिक्रिया में शर्म, ग्लानि की वह भाव-भंगिमा नहीं झलकी दिखी कि जो हो रहा है उससे हम हिंदू कलंकित हो रहे हंै। इससे संघ, भाजपा के राजनैतिक दर्शन, हिंदू हित की प्रतिष्ठा नहीं बढ़ रही है बल्कि दुनिया भर में मैसेज बन रहा है कि ये हिंदू कैसे जाहिर, काहिल, मूर्ख है जो अपने ही देश में, अपनी ही सरकार में कानून के राज को जंगल राज में बदल डाल रहे हैं।

हां, 2014 और उससे पहले अपना मानना था, अपने को उम्मीद थी कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने का अर्थ होगा कानून के राज का बहुसंख्यक हिंदुओं की आंकाक्षाओं के अनुसार बदलना और बनना। यदि हिंदू की धर्म भावना, आस्था गोहत्या पर पाबंदी चाहती है तो गोहत्या पाबंदी का अखिल भारतीय कानून बनेगा। यदि समाज की समरसता के लिए समान नागरिक संहिता की जरूरत है तो उसका कानून बनेगा। यदि एक देश, एक जन, एक संविधान की भारत की तासीर है तो जम्मू-कश्मीर की धारा 377 पर फैसला होगा! ऐसी दस तरह की बातंे थी जो देश, विदेश व आजाद भारत के 70 साल के अनुभव पर संविधान और कानून में सुधार, संशोधनों की जरूरत को बनाए हुए थी। तभी मोदी को अभूतपूर्व हिंदू जनादेश मिला। कोई माने या न माने अपना मानना है कि इसमें सर्वाधिक आसान गोहत्या पाबंदी पर केंद्र सरकार का कानून बनवा सकना था। खुद नरेंद्र मोदी ने 2014 के चुनाव प्रचार में दस बार पिंक क्रांति के हवाले गोहत्या और बीफ के मुद्दे पर बोल-बोल कर भरोसा बनवाया था कि उनकी सरकार आई तो गोहत्या रूकाने का अखिल भारतीय कानून बनाएगी। 

मगर क्या हुआ? गोहत्या रोकने के लिए उन्होने अपनी सरकार से संसद में कानून नहीं बनवाया लेकिन भक्तों और समर्थकों में यह माहौल बनवा डाला कि सरकार को नहीं बल्कि हिंदू भीड़ को गौरक्षक बन कर उन्हे ठोकना है, उन्हे मारना है जिन पर शक हो कि ये बीफ खाते है या गायों की तस्करी कर रहे हैं।

जाहिर है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने राज का यह इतिहास बनवाया है कि गोरक्षा के लिए कानून स्थापित नहीं किया मगर गाय के नाम पर जंगल राज जरूर बनवा दिया!  मोदी राज ने हिंदू को वह बना डाला जो खैबर के दर्ऱे में कट्टर जिहादी मुसलमान करता मिलेगा। देश के संविधान के तहत हुए चुनाव से जनता ने जनादेश दिया, हिंदू भावना व आस्था को मान्यता मिली, उसकी राजनैतिक ताकत बनी और उससे कानून बनना था मगर उलटे हिंदू को चार सालों में गंवार, मूर्ख व मॉब लिंचिंग वाला बनवा दिया!

यह हिंदू के साथ मोदी-शाह का नंबर एक विश्वासघात है। यह मोदी राज का वह घतकर्म, पाप है जिसमें हिंदू दुनिया में मॉब लिंचिंग करता दिख रहा है। हम भी इस्लाम और कट्टरपंथी मुस्लिम जिहादियों जैसे गए-गुजरे माने जाने लगे है। श्रीनगर में मसजिद के बाहर पंडित लेबल पर पुलिस अफसर की मुस्लिम लिंचिग और अलवर में पहलू खान या रक़बर ख़ान को पीट-पीट कर मार देने की हिंदू लिंचिग में क्या फर्क है!

क्या इसे कथित हिंदु राज की गौरवगाथा व हिंदुओं का जागना माना जाए या जाहिल, मूर्ख और शैतान बनना? जो हुआ है, जो हो रहा है वह हिंदूओं की दुनिया में बदनामी है। मैं यहां अप्रासगिंक मिसाल दे रहा हूं, मगर हकीकत बतलाने वाली है इसलिए जाने कि डोनाल्ड ट्रंप ने राज संभालते ही कानून बना कर आंतकी देशों के मुसलमानों का अमेरिका में आना रोका। उन्होने इस्लाम से नफरत करने वाले कट्टरवादी गौरो में यह हवा नहीं बनवाई कि यमन का मुसलमान दिखे तो शक करो। मारो। फ्रांस में महिलाओं के बुर्के पर कानून बना कर प्रतिबंध लगा। डेनमार्क ने कानून से मसजिद निर्माण पर पाबंदी लगाई। योरोप में मुस्लिम विद्वेष और घृणा की कई तरह की बाते हुई और है मगर किसी नेता, मंत्री ने लोगों को उकसाते हुए ऐसे डॉयल़ॉग नहीं मारे कि यदि लोग बीफ खाना छोड़ दें तो रुक जाएंगी मॉब लिंचिंग की घटनाएं। या यह कि जैसे-जैसे पीएम मोदी की लोकप्रियता बढ़ेगी, वैसे वैसे मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ती जाएंगी। या यह कि मुसलमान हिंदूओं की भावना समझे! 

लाख टके का सवाल है कि नरेंद्र मोदी की सरकार ने क्यों नहीं हिंदू की भावना समझी? य़दि समझी होती तो केंद्र सरकार गोवध को जुर्म करार देने का क्या अखिल भारतीय कानून नहीं बना डालती? जिस भावना पर सरकार बनी उसके लिए सरकार और उसके मंत्रियों ने कानून नहीं बनाया और हिंदूओं को उकसा रहे है, हौसलाबुलंदी किए हुए है कि अपनी भावना में चाहे जिस पर शक करों। उसे ठोकों और मारों!   

इसलिए क्योंकि ठोकने, मारने से भावनाओं की सुनामी आती है, बरबादी होती है जबकि कानून में सबकुछ बंधा होता है, सुधरा होता है, समझा होता है! ध्यान रहे यहां  बात दंगे, धर्मयुद्व, हिंसा-प्रतिहिंसा की नहीं है बल्कि शक और बेवजह के फितूर पर भावना के भभकने की है।  

और जान लिया जाए नरेंद्र मोदी व अमित शाह का अब अस्तित्व तभी है जब भावनाओं के ऐसे भभके बने रहे।  2019 का लोकसभा चुनाव ज्यों-ज्यों नजदीक आएगा त्यों-त्यों भावनाओं के इन भभकों पर सुनामी बनाने के दस तरह के जुगाड़ होंगे। तभी आने वाले दिन हम हिंदुओं के लिए बहुत विकट है। हमें दुनिया में अभी बहुत बदनाम होना है। न मॉब लिंचिग रूकेगी और न दुनिया में यह घिन बनती रूकनी है कि उफ! हिंदू ऐसे भी होते हैं!

सोचे, ऐसी घिन हिंदूओं को ले कर कब बनी थी? और क्यों न इसे मोदी सरकार का हिंदुओं को बदनाम बनाने वाला घतकर्म, पाप माना जाए?

नया इंडिया से साभार


बाकी समाचार