Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

सोमवार , 20 अगस्त 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

भाजपा में मचा घमासान : असीम गोयल ने अनिल विज को सुनाई खरी-खरी

अनिल विज पर बड़े आरोप लगाते हुए कहा कि वो उनके हल्के के काम नहीं होने दे रहे हैं.

Asim Goyal, Anil Vij, naya haryana, नया हरियाणा

23 जुलाई 2018

नया हरियाणा

भाजपा के विधायकों और मंत्रियों के मतभेद अब खुलकर सामने आने लगे हैं। विकास कार्यों में रुकावट के बहाने अम्बाला सिटी के विधायक असीम गोयल और कैबिनेट मंत्री अम्बाला कैंट के विधायक अनिल विज के बीच ठन गयी है। जहां असीम ने अनिल विज पर उनके विधानसभा क्षेत्र में बनने वाले 300 बेड के अस्पताल और स्टेडियम के  विकास कार्यों की अनदेखी करने के आरोप लगाए हैं तो वहीं विज ने असीम पर ही कामों को रोकने के आरोप लगाये हैं। विज ने कहा कि असीम गलत पते पर चिट्ठी डाल रहे हैं। इन प्रोजेक्ट्स पर जो कुछ हो सकता है वो किया जा रहा है। 
विकास कार्यों के मुद्दे पर अम्बाला सिटी के विधायक असीम गोयल और कैबिनेट मंत्री अनिल विज के बीच ठन गई है। असीम ने स्वास्थ्य एवं खेल मंत्री अनिल विज पर अपने हल्के के दो बड़े प्रोजेक्ट्स की अनदेखी और नाइंसाफी करने के आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री के दरबार में अपनी बात रखी है। अम्बाला में पत्रकारों से बातचीत करते हुए असीम गोयल ने कहा कि वह मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से निवेदन करके अम्बाला सिटी के नागरिक अस्पताल के लिए 300 बेड और सेक्टर 10 के स्टेडियम के जीर्णोद्धार  करवाये जाने की सौगात लेकर आये थे। मई 2016 में मुख्यमंत्री ने इन दोनों प्रोजेक्ट्स को हरी झंडी दी थी। अम्बाला सिटी सिविल अस्पताल 200 से 300 बेड का होना था, परन्तु ये फ़ाइल स्वास्थ्य मंत्री के कार्यालय में अटकी पड़ी है। असीम ने कहा कि मेरा मुखिया का कर्तव्य होता है कि पूरे परिवार को पूरे कुटुंब को सन्तुष्ट करके स्वयं भोजन करना चाहिए। ये तो पहली बार देखा है कि मुखिया ने पूरा भोजन अपने पात्र में डाल लिया और लोगों के लिए खाली पात्र छोड़ दिया। सीएम के पास करने बावजूद स्वास्थ्य मंत्री इस पर कुछ नहीं किया। पूरे हरियाणा में वो अपने कैंट अस्पताल जैसा कोई और अस्पताल दिखा दें। मेरे हल्के का हक क्यों दबाकर बैठे हैं.
ये बयान किसी विपक्षी विधायक के नहीं बल्कि सरकार में ही भाजपा विधायक के हैं। विधायक का गुस्सा अपनी ही सरकार के मंत्री पर फूटा है। असीम गोयल ने कहा कि वो अपने इन दोनों प्रोजेक्ट्स के लिए कई बार अनिल विज से मिल चुके हैं पता नहीं क्यों मंत्री ने इन दोनों प्रोजेक्ट्स पर अम्बाला सिटी के साथ वो नाइंसाफी कर रहे हैं। हुडा विभाग से ये खेल विभाग को ट्रांसफर होना है उस फ़ाइल पर भी अड़ंगा लगा हुआ है। स्टेडियम जर्जर हो रहा है उसमें केवल सिंथेटिक ट्रैक बनना है। आल वेदर स्विमिंग पूल बनना है। मुख्यमंत्री ने इसे हुडा से स्पोर्ट्स विभाग में ट्रांसफर भी कर दिया परन्तु मंत्री ने इसे भी लेने से मना कर दिया है। असीम ने कहा कि यदि विज अपना दिल बड़ा करें उनको यदि मुझसे कोई दिक्कत है तो मुझसे बात करें । मेरे हल्के के प्रोजेक्ट्स को रोकना कोई ताकत की निशानी नहीं है। असीम ने कहा कि मंत्री केवल अपने हल्के के काम करने के लिए नहीं बनता उनका दायित्व है कि वो पूरे हरियाणा को एक नजर से देखें। विज ने अपने हल्के का स्टेडियम वर्ल्ड क्लास बनवा लिया है जिस पर मुझे कोई आपत्ति नहीं है बल्कि ये अच्छी बात है। बस इतना आग्रह है कि वह सभी हलकों को एक नजर से देखें। 
असीम ने अम्बाला सिटी के सेक्टर 10 के स्टेडियम पर थोड़े ही पैसे लगने हैं जिसकी कमी की वजह से यह दिन ब दिन जर्जर हो रहा है। परन्तु यह भी डिले हो रहा है। असीम ने अम्बाला कैंट सिविल अस्पताल का उदाहरण देते हुए कहा कि उनके अपने प्रोजेक्ट्स की ड्राइंग भी बन जाती है, नक्शा भी बन जाता है और काम भी पूरा हो जाता है। यहां सवा दो साल में ड्रॉइंग भी नहीं बन पाती। मंत्री को इस मामले में इस कदर अपनी जिद बीच में नही लानी चाहिए। 
स्वास्थ्य एवं खेल मंत्री से जब असीम गोयल के आरोपों पर बात की गई तो उन्होंने इस पर अपना रुख साफ करते हुए विधायक जी के ज्ञान पर ही सवाल खड़े कर दिए। पत्रकारों से बातचीत करते हुए अनिल विज ने कहा कि मैंने स्वास्थ्य मंत्री बनने के बाद जो सबसे पहला काम किया है वो अम्बाला सिटी के नागरिक अस्पताल को 300 बेड का मंजूर करने का किया है। अब ये वहां पर अड़े हुए हैं कि 200 बेड का तो अस्पताल है ही 100 बेड का एक और अस्पताल बना दिया जाए। ये फ़ाइल मुख्यमंत्री के पास गई थी उन्होंने आदेश दिए हैं कि इस 200 बेड के अस्पताल को ही अपग्रेड करके 300 बेड का कर दिया जाए। परन्तु ये अड़े हुए हैं कि नया अस्पताल बनाया जाए। ऐसा नहीं होता। इनकी नामसाझी की वजह से ही ये रुका हुआ है। हमने इस पर काम करने के आदेश दिए हुए हैं जिस पर काम जारी है। हमारे पास अधिकारी आये थे जिन्होंने अपनी रिपोर्ट भी हमें दी थी। ये ही उसे बनने नहीं दे रहे ये ही उसे रोक रहे हैं।
स्टेडियम पर प्रतिक्रिया के बहाने विज ने असीम गोयल के तजुर्बे पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि असीम नए विधायक हैं। ये स्टेडियम हुडा के अधीन है जहां जो कुछ करना है वो हुडा करेगा वहां खेल विभाग ने कुछ नहीं करना। ये हुडा की बजाए हमें अप्रोच कर रहे हैं। हुडा से कहकर ये स्टेडियम खेल विभाग को ट्रांसफर करवा दें फिर हम बनवा देंगे हमें कोई एतराज नहीं है। लेकिन हुडा ने इसे ट्रांसफर करने से मना कर दिया है। ये हुडा को तो कुछ कह नहीं रहे। विधायक जी अपनी चिट्ठी गलत पते पर डाल रहे है। उनको जानकारी नहीं है जो कुछ हो सकता है वो हम कर रहे हैं।
 


बाकी समाचार