Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

मंगलवार, 16 अक्टूबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

मानेसर जमीन घोटाले में भूपेंद्र हुड्डा समेत 34 आरोपी CBI कोर्ट पहुंचे

इस मामले में जल्द ही आरोप तय होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं.

34 accused, Bhupinder singh Hooda,  CBI courtpamchkula, Manesar land scam, naya haryana, नया हरियाणा

19 जुलाई 2018

नया हरियाणा

मानेसर जमीन अधिग्रहण घोटाले के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पंचकूला स्थित हरियाणा की विशेष सीबीआई कोर्ट पहुंचे हैं। हुड्डा सहित सभी 34 आरोपी पंचकूला की स्पेशल सीबीआई कोर्ट में पेश हुए हैं। आज की सुनवाई के दौरान भी चालान की चेकिंग जारी रहेगी। चालान की चेकिंग के बाद ही सभी आरोपियों को सौंपी जा सकती है। चालान की कॉपी और जल्दी ही आरोप तय हो सकते हैं। इस मामले में अभी तक चालान की स्क्रूटनी जारी की गई है।

हुड्डा के साथ उनके समर्थक व पूर्व वित्त मंत्री हरमोहिंदर सिंह चट्ठा सहित कई पूर्व विधायक भी मौजूद हैं। गौरतलब है कि मानेसर जमीन घोटाले में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा सहित 34 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट फाइल की गई थी। अब इस मामले में पंचकूला की सीबीआई कोर्ट के स्पेशल जज कपिल राठी की कोर्ट में सुनवाई चल रही है। जिसमे हुडडा के अलावा एम एल तायल, छतर सिंह , एस एस ढिल्लों , पूर्व डीटीपी जसवंत सहित कई बिल्डरों के खिलाफ चार्ज शीट में नाम आया है।

सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा के पूर्व सीएम हुड्डा को तगड़ा झटका देते हुए मानेसर में भूमि अधिग्रहण के आदेश को रद्द करते हुए हरियाणा की हुड्डा सरकार के 24 अगस्त 2007 और 29 जनवरी 2010 के आदेश रद्द कर दिए हैं। जस्टिस एके गोयल और जस्टिस यूयू ललित की अध्यक्षता वाली पीठ ने मानेसर में 688 एकड़ जमीन के अधिग्रहण को पलटने के निर्णय को गलत मंशा से लिया फैसला बताया है और अधिग्रहण से जुड़े तत्कालीन सरकार के फैसले को सत्ता का दुरुपयोग बताते हुए रद्द कर दिया है। इस फैसले से डीएलएफ व एबीडब्लयू आनंद राज कंपनियों के पास प्रोजेक्ट का जिम्मा था।

मानेसर जमीन घोटाले को लेकर सीबीआइ ने हुड्डा सहित 34 के खिलाफ 17 सितंबर 2015 को मामला दर्ज किया था। इस मामले में ईडी ने भी हुड्डा के खिलाफ सितंबर 2016 में मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था। ईडी ने हुड्डा और अन्य के खिलाफ सीबीआइ की एफआइआर के आधार पर आपराधिक मामला दर्ज किया था। कांग्रेस लगातार इस कारर्वाई को सियासी रंजिश का नाम दे रही है। इस मामले में आरोप है कि अगस्‍त 2014 में निजी बिल्डरों ने हरियाणा सरकार के अज्ञात जनसेवकों के साथ मिलीभगत कर गुड़गांव जिले में मानसेर, नौरंगपुर और लखनौला गांवों के किसानों और भूस्वामियों को अधिग्रहण का भय दिखाकर उनकी करीब 400 एकड़ जमीन औने-पौने दाम पर खरीद ली थी।

कांग्रेस की तत्कालीन हुड्डा सरकार के कार्यकाल के दौरान करीब 900 एकड़ जमीन का अधिग्रहण कर उसे बिल्डर्स को औने-पौने दाम पर बेचने का आरोप है।


बाकी समाचार