Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शुक्रवार, 21 सितंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

ओपी धनखड़ बादली छोड़ दादरी से लड़ेंगे चुनाव

दादरी हरियाणा का नवगठित 22वां जिला है.

OP Dhankar, Dadari assembly, Battli assembly, haryana assembly election 2019, Haryana GK, Dadri district, Dadri subhasil, Dadri tehsil, Dadri division, naya haryana, नया हरियाणा

18 जुलाई 2018

नया हरियाणा

हरियाणा की भाजपा सरकार द्वारा 18 अक्टूबर 2016 को दादरी को जिला बनाने के लिए कैबीनेट में पास किया और 4 दिसंबर 2016 को केंद्र सरकार से स्वीकृति मिली.  नवगठित दादरी जिला हरियाणा का 22वां जिला है. दादरी, बाढ़डा और बौंदकला इसके तीन उपमंडल हैं. पौरणिक ग्रंथ महाभारत में दादरी का वर्णन है और ऐतिहासिक स्थल दादरी का नामकरण संस्कृत के दादुर(मेंढक) के नाम पर हुआ . क्योंकि दादरी से लेकर गांव रावलधी, मीर्च, सौंफ, कासनी तक एक बड़ी झील थी. इसमें काफी संख्या में मेंढक थे. चरखी दादरी जिले में बाढ़डा और दादरी दो विधानसभा हैं. जिनमें कुल 174 गांव हैं.
2014 में झज्जर जिले की बादली विधानसभा सीट से जीतकर मंत्री बने ओपी धनखड़ 2009 का चुनाव दादरी विधानसभा सीट से लड़े थे. उस समय ओपी धनखड़ किसान मोर्चा के अध्यक्ष भी थे. उन्हें 1 हजार से भी कम वोट आए थे. शायद इस बुरी हार या यूं कहिए भयंकर जमानत जब्त होने के कारण उन्होंने 2014 में मोदी लहर होने के बावजूद चुनाव लड़ना उचित नहीं समझा. पर अब दादरी को जिला बनवाने का श्रेय लेने और कपास(नरमा) के एमएसपी बढ़ाए जाने से उनकी उम्मीदें दादरी विधानसभा में बढ़ती हुई लग रही हैं. इन्हीं सब आधारों को देखते हुए राजनीतिक गलियारों में ये चर्चाएं हैं कि दादरी विधानसभा सीट से ओपी धनखड़ चुनाव लड़ेंगे. 
हरियाणा में दादरी विधान सभा सीट चुनावों में कांटे की टक्कर के लिए जानी जाती है, क्योंकि यहां मुकाबला नजदीकी रहता है. इस कारण से इस सीट को लेकर सभी की आंखे और कान खड़े रहते हैं. 1991 में हविपा के धर्मपाल सिंह मात्र 80 वोटों से जीते थे.2000 में एनसीपी के  जगजीत सिंह 777 वोटों से जीते थे. 2009 में हजकां के सतपाल सांगवान 145 वोटों से जीते थे. 2014 में इनेलो के राजदीप फोगाट करीब 1700 वोटों से जीते थे.
दादरी विधानसभा सीट 1967 से 1977 तक रिजर्व सीट थी. 1977 के बाद सामान्य सीट हो जाने के बाद यहां जाट जीतते आए हैं. 1967 में कांग्रेस के गणपत राय ने एसएसपी पार्टी के हरनाम सिंह को हराया था. 1968 में कांग्रेस के गणपत राय ने एसएसपी के हरनाम को हराया. 1972 में एनसीओ पार्टी से गणपत राय ने कांग्रेस के हरनाम को हराया.1977 में जनता पार्टी के हुकुम सिंह ने निर्दलीय गणपत राय को हराया. 1982 में दोबारा हुकुम सिंह से लोकदल पार्टी से लड़कर कांग्रेस के जगजीत सिंह को हराया.  1987 में तीसरी बार हुकुम सिंह ने लोकदल से लड़ते हुए कांग्रेस के रिशाल सिंह को. हुकुम सिंह लोकदल की सरकार में मुख्यमंत्री भी बने थे.  
1991 में हविपा के धर्मपाल सिंह ने कांग्रेस के जगजीत सिंह को हराया.1996 में हविपा के सतपाल सांगवान ने कांग्रेस के जगजीत सिंह को हराया. 2000 में एनसीपी से लड़ते हुए जगजीत सिंह ने इनेलो की शकुनतला को हराया. 2005 में कांग्रेस के निरपेंद्र ने निर्दलीय सतपाल को हराया. 2009 में हरियाणा जनहित कांग्रेस के सतपाल सिंह ने इनेलो के राजदीप को हराया.2014 में इनेलो के राजदीप को 43400 वोट मिले थे. भाजपा के सोमवीर को 41,790 वोट मिले. हरियाणा जनहित कांग्रेस के सुरेंद्र सिंह को 23140 वोट मिले. कांग्रेस के सतपाल सांगवान को 15690 वोट मिले.  
ओपी धनखड़ भिवानी में 11 साल जियोग्राफी के लेक्चरर भी रह चुके हैं. आरएसएस के पुराने कार्यकर्ता रहे हैं. किसानों के मुद्दों पर लगातार सक्रिय रहते हैं. बल्कि एमएसपी बढ़ाए जाने की खबर के बाद तो उन्होंने ढोल की ताल पर नाचते हुए खुशी जाहिर की थी. वर्तमान समीकरणों को देखते हुए ओपी धनखड़ का दादरी से चुनाव लड़ना राजनीति के लिहाज से सही फैसला होगा.
हरियाणा सरकार में ओपी धनखड़ यानि ओम प्रकाश धनखड़ कैबिनेट मंत्री हैं और उनके पास कृषि मंत्रालय का जिम्मा है।

धनखड़ को पास नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट 'स्टैचू ऑफ यूनिटी' के लिए गठित आइरन कलेक्शन कॉर्पोरेशन कमेटी का राष्ट्रीय संयोजक बनाया गया है।बीजेपी किसान मोर्चा के दो बार धनकड़ अध्यक्ष बन चुके हैं। यह कार्यभार उनके पास  2011-13 और 2013-15 के लिए था। वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में धनखड़ ने तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा के बेटे दीपेंदर सिंह हुड्ड के खिलाफ रोहतक से चुनाव लड़ा था और दूसरे स्थान पर रहे थे। और 2014 में हरियाणा विधानसभा के लिए हुए चुनाव में बादली विधानसभा सीट से उन्होंने जीत दर्ज की और फिर सरकार में मंत्री बने।


बाकी समाचार