Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

बुधवार, 21 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

कैप्टन साहब इब ढिल्ले ना पड़ियो, जांच सही चाल री सै : आरोपी

सीबीआई की चार्जशीट में ज्यादातर आरोपियों के संबंध भूपेंद्र हुड्डा से हैं.

Capt Abhimanyu, Jat Reservation, accused Gaurav Hooda, Ashok Balhara, Sachin Dahiya, Yashpal Malik, Bhupendra Hooda, CBI,, naya haryana, नया हरियाणा

16 जुलाई 2018

नया हरियाणा

वित्त मंत्री कैप्टेन अभिमन्यु के घर हुई आगजनी के मामला में आज पंचकूला की सीबीआई कोर्ट में सुनवाई हुई. 51 आरोपियों में से करीब 40 आरोपी सुनवाई में पहुंचे। इनमें से 34 आरोपी जमानत पर हैं।

इन आरोपियों ने आज रोहतक से पंचकुला कोर्ट में जाते वक्त फेसबुक लाइव के माध्यम से अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि उन्हें सीबीआई की जांच पर पूरा भरोसा है। सीबीआई की जांच अब सही दिशा में चल रही है। असली अपराधियों के नाम अब आने शुरू हुए हैं। हमें पूरा यकीन है कि सीबीआई की जांच में असली अपराधियों को सजा होगी और निर्दोश बरी होंगे। सीबीआई जल्द ही दूध का दूध और पानी का पानी करे देगी. उन्हें इसका यकीन हो गया है, क्योंकि अब असली दोषियों के नाम आने लगे हैं।
गौरतलब है की सीबीआई जांच में 11 नए नाम जुड़े हैं. जिनमें कृष्णमूर्ति हुड्डा के बेटे गौरव हुड्डा, बीबी बत्रा के पीए सचिन दहिया और जाट आरक्षण संघर्ष समिति और यशपाल मलिक के नजदीकी अशोक बल्हारा का नाम शामिल हुआ है. फेसबुक लाइव के माध्यम से इन्होंने जाट समाज को संदेश देते हुए कहा कि यशपाल मलिक और अशोक बल्हारा जाट समाज को ठगने का काम कर रहे हैं और इन्होंने जो पैसा जेल में बंद लड़कों के नाम पर लिया है, उसका इन्होंने दुरुपयोग किया है और किसी को एक पैसे की मदद नहीं दी है. इन्होने अशोक बल्हारा बाबत कहा कि आपने जो साजिश रची थी, उसकी सजा आपको मिल रही है. तंज कसते हुए कहा कि रोहतक जेल में  राष्ट्रीय महासचिव की खूब सेवा करी जाएगी. जाट समाज को बरबाद करने के लिए आप लोगों ने जो साजिश की है. उसका परिणाम भुगतना पड़ेगा. लोगों ने दिहाड़ी करके कमाए पैसे दिए थे. कितनी लड़कियां विधवा हो गई, कितनी ही माओ ने अपने बालक खो दिए. समाज को बांटने के वाले असली जिम्मेदार बलहारा और मलिक जैसे लोग हैं. 
एक आरोपी ने लाइव के दौरान कहा- यशपाल मलिक मध्यप्रदेश में 250 एकड़ में यूनिवर्सिटी बना रहे हो. वहां भाजपा की सरकार है. अशोक बल्हारा ने उतराखंड में 20 एकड़ जमीन खरीदी है वहां भी भाजपा की सरकार है. ये बताओ की इतना पैसा कहां से आया ये. इतना करोड़पति कहां से हो गए हो तुम. पहले नहीं खरीदी तुमने. फारच्यूनर कहां से खरीद ली.
दरअसल यशपाल मलिक और उनके साथियों ने जाट समाज के करोड़ों रू का गबन किया है. जिसको लेकर लगातार सवाल उठते रहे हैं और सवाल करने वालों को कभी सरकारी कहा जाता है तो कभी सरकार के एजेंट. 
जाट संस्था तब बनानी चाहिए थी जब पहले केस भुगत रहे साथियों की सारी तरह से मदद हो जाती है. पर यशपाल मलिक और उनके साथ जुड़े अशोक बल्हारा आदि ने हमारा साथ नहीं दिया. हमारे नाम पर पैसा इकट्ठा किया. शहीद हुए भाइयों के परिवार वालों को पैसा और नौकरी मिल गई. घायलों को पैसा मिल गया. बहुत अच्छी बात. पर जिन पर केस चल रहा है उनकी कोई मदद नहीं कर रहा है. भाइयों की कोई मदद नहीं हो रही.
एक आरोपी ने कहा- आगे चलकर यशपाल मलिक साहब आपका भी नाम आयेगा. रिकार्डिंग में किते-ना किते साजिश म नाम पावैगा. आपने बल्हारा फंसवा दिया. 70 परसेंट लोगों ने तो इनको लात मार दी सै. सही आदमी जाणे बंद होंगे सै. सही माणसा नै चंदा देणा बंद कर दिया. पूरे हरियाणा नै बेच कै जावैगा यो. कोए एक बी मुकदमा नहीं उठ लिया. हमारे आड़ै चौधरी भतेरे सै. तू आड़े तै चला ज्या. अरै तम कैप्टन साहब नै बुलाते. किमे तै माफीनामा होता. हम बी बच्चे थे. तन्नै आपस म कितै गठजोड़ होण नहीं दिया. आपणी राजनीतिक रोटियां सेंकता रहा. आपणी संस्था को ढोंग चलाता रहया. कैप्टन साहब तै तन्नै कदे खुल कै बात नहीं करी. देखो भाई, कैप्टन साहब मुकदमा चाहे उठाते या ना उठाते. एक बार वो बुलाने चाहिए थे.जाट भाई है हमारा. अगर कैप्टन साहब मुकदमा नहीं उठाते तो जाट समाज जो मर्जी सजा दे दे है. वो मुकदमा बगैर जाए कैसे उठावैगा. उससे कोई मिल्या नहीं. दो-चार बरिया तो आदमी गुस्सा होया करै. सब बच्चों की तरफ से कैप्टन साहब के पास दूत बणकै जाणा चाहिए था. उसके धौरै गया नहीं वो क्याह के मुकदमें ठावैगा भाई. उसनै कौम का गद्दार बतावै थे. कौम का गद्दार क्यूकर हो ग्या. आगले का घर जल रहया है भाई. अर उसकी जांच सही चाल री सै. कोए बात ना सै भाई भोले बालका का टोर्चर हो ग्या. पर असली गुनाहगार तो इब थ्याण ल्यागे सै. या बी कैप्टन साहब शांति ए सै. इब ठीला नै पड़िए, इब तो जो असली गद्दार है सबनै भीतर करवा दिए.


बाकी समाचार