Web
Analytics Made Easy - StatCounter
Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

गुरूवार, 19 अप्रैल 2018

पहला पन्‍ना English देश वीडियो राजनीति अपना हरियाणा शख्सियत समाज और संस्कृति आपकी बात लोकप्रिय Faking Views समीक्षा

'मिस वर्ल्ड' मानुषी के गांव में मना जश्न, खुशी में बूढ़ों ने भी किया डांस

एमबीबीएस स्टूडेंट मानुषी बहादुरगढ़ के बामनौली गांव की रहने वाली हैं लेकिन अब उनका परिवार दिल्ली में रहता है. मानुषी की इस जीत के बाद उसके गांव के युवाओं के साथ-साथ बड़े बुजुर्ग भी जमकर नाचे। गांव में लोगों ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाई और खुशी का इजहार किया।

मानुषी छिल्लर, मिस वर्ल्ड, manushi chhillar, miss world , naya haryana, नया हरियाणा

20 नवंबर 2017

नया हरियाणा

हरियाणा की मानुषी छिल्लर द्वारा मिस वर्ल्ड- 2017 का खिताब जीतने के बाद उसके पैतृक गांव में भी जमकर जश्न मनाया जा रहा है। गांव वाले ढोल पर नाचे और लड्डू बांटे। रोहतक में भी मानुषी के नाना के घर में बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है। एमबीबीएस स्टूडेंट मानुषी बहादुरगढ़ के बामनौली गांव की रहने वाली हैं लेकिन अब उनका परिवार दिल्ली में रहता है. मानुषी की इस जीत के बाद उसके गांव के युवाओं के साथ-साथ बड़े बुजुर्ग भी जमकर नाचे। गांव में लोगों ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाई और खुशी का इजहार किया। महिलाओं ने भी मंगल गीत गाए और मानुषी की इस जीत पर खुशी जाहिर की। गांव के सभी बड़े बुजुर्ग मानुषी के पैतृक मकान के सामने इकट्ठे हुए और बधाई दी। 

<?= मानुषी छिल्लर, मिस वर्ल्ड, manushi chhillar, miss world ; ?>, naya haryana, नया हरियाणा

मानुषी का परिवार करीब 17 साल पहले गांव छोड़कर दिल्ली रहने लगा था। गांव में अभी भी उनका आना जाना है। मानुषी के दादा ने यहां एक शिव मंदिर भी बनवा रखा है। मानुषी की जीत के लिए यहां हवन यज्ञ भी किया गया था।  रोहतक में मानुषी के नाना के घर में भी खुशी मनाई गई। वहां भी उसके नाना-नानी,मामा-मामी ने मिठाई बांटी। मानुषी की नानी सावित्री ने रात में ही फोन पर उसे बधाई दी। मानुषी के पैतृक गांव में रात को भी पटाखे फोड़े गए। ग्रामीण डॉक्टर करण सिंह का कहना है कि उनकी बेटी ने पूरे विश्व में गांव का नाम रोशन किया है। उनका मानना है कि मानुषी से प्रेरणा लेकर उनके गांव की और भी बेटियां आगे आएंगी। गांव में उसके दादा मुंशी राम भरत सिंह ने वर्ष 1967 में एक मंदिर बनवाया था और महाशिवरात्रि के मौके पर वह अपने माता-पिता और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ इस मंदिर में पूजा अर्चना करने आती है।


बाकी समाचार