Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

मंगलवार, 20 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हरियाणा भाजपा के सात में से दो सांसदों ने करवाई अपनी पार्टी रजिस्ट्रड : दुष्यंत चौटाला

कुछ दिन पूर्व कुरुक्षेत्र के सांसद राजकुमार सैनी ने भी अलग पार्टी बनाई है.

Rao Inderjit Singh, Rajkumar Saini, Dushyant Chautala, naya haryana, नया हरियाणा

13 जुलाई 2018

नया हरियाणा

हिसार से इनेलो के सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी से जनता ही नहीं, बल्कि भाजपा के सांसद भी दुखी है। जिसके चलते भाजपा के सात सांसदों में से दो सांसदों राव इंद्रजीत सिंह व राजकुमार सैनी ने अपनी पार्टियों के रजिस्ट्रेशन करवा लिए है। जल्द ही 5 अन्य सांसद भी ऐसा ही करेंगे। यह बात उन्होंने आज भिवानी जिला के गांव बामला में पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कही। वे यहां 17 जुलाई को एसवाईएल के मुद्दे पर भिवानी में इनेलो द्वारा किए जाने वाले जेलभरो आंदोलन का न्यौता देने पहुंचे थे। 
इस मौके पर सांसद ने सरकारी विभागों के प्राईवेटाईजेशन के मुददे पर भाजपा को घेरते हुए कहा कि सरकार अपने चुनिंदा लोगों को कांट्रेक्ट देकर उन्हे लाभ पहुंचाने का प्रयास कर रही है। जिसके चलते शिक्षा विभाग, पुलिस व रोडवेज का निजीकरण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्राईवेट कंपनियों द्वारा ठेके पर भर्ती किए जाने पर भारी अनियमित्ता है। बगैर किसी विज्ञापन व सैलेक्शन प्रोसीजर के कांट्रेक्ट पर भर्ती का काम किया जा रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा 2500 कार्यकर्ताओं को एडजेस्ट किए जाने के मुद्दे पर इनेलो सांसद ने कहा कि मुख्यमंत्री एक तरफ तो 2500 कार्यकर्ताओं को एडजेस्ट किए जाने की बात करते हैं तथा दूसरी तरफ पारदर्शिता से भर्ती किए जाने की बात करते है। वे ऐसा सुर्खियों में रहने के लिए कर रहे है। एसवाईएल के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि आज सुप्रीम कोर्ट में एसवाईएल के निर्माण को लेकर कोई भी याचिका विचारणीय नहीं है। सरकार जान-बूझकर एसवाईएल के मुद्दे को लटका रही है। उन्होंने साफ किया कि पैरामिलट्री फोर्स लगाकर एसवाईएल का निर्माण किया जाना चाहिए। 
 हरियाणा सरकार द्वारा महिलाओं से बलात्कार के आरोपियों का लाईसेंस व सरकारी नौकरियों में जाने का रास्ता बंद किए जाने के कानून के बारे में पूछे जाने पर दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जो भी अलग कानून बनाया जाए, वह सीआरपीसी व आईपीसी को ध्यान में रखकर बनाया जाना चाहिए। यदि मुख्यमंत्री इस मामले में वास्तव में गंभीर है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलकर पूरे देश के स्तर पर ऐसा कानून बनाए, ताकि लोगों को इसका लाभ हो सकें। 


बाकी समाचार