Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

मंगलवार, 20 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

पिंक सिटी के नाम से मशहूर फतेहाबाद पर किया था तैमूरलंग ने कत्लेआम

फतेहाबाद में सभी दलों का बराबर दबदबा रहा है.

pink city of haryana fatehabad, naya haryana, नया हरियाणा

11 जुलाई 2018

नया हरियाणा

सरकारी इमारतों पर गुलाबी रंग। ग्रीन बेल्ट की दीवारें गुलाबी। नगर पालिका की दुकानों का भी गुलाबी रंग। यानी शहर में प्रवेश करते ही गुलाबी ही गुलाबी रंग नजर आता था।इसी से शहर की पहचान पिंक सिटी के रूप में बनी थी। फतेहाबाद हरियाणा के पश्चिमी भाग में है, जबकि इसके पूर्व में जींद, दक्षिण में हिसार जिला व राजस्थान राज्य है. पश्चिम में सिरसा जिला और उत्तर में पंजाब राज्य का मानसा जिला स्थित है. 15 जुलाई 1997 फतेहाबाद का बड्डे मनाया जाता है, क्योंकि इसी दिन हिसार से अलग होकर फतेहाबाद नया जिला बना था.
फतेहाबाद के फतेहाबाद, टोहाना और रतिया तीन उपमंडल व तहसील हैं. भूना, भट्टूकलां, कूलां, जाखल 4 उपतहसील हैं. यहां सूती धागे का बड़ा उद्योग है. यहां का लिंगानुपात 902 है, जबकि साक्षरता 67.92 प्रतिशत है. 6 साल से कम उम्र का लिंगानुपात यहां 833 है. जो कि चिंतनीय है.
राजनीति
2014 के चुनाव में इनेलो के बलवान सिंह दौलतपुरिया ने हजकां के दूडा राम को हराया था. राजनीति के जानकारों का मानना है कि इस शहरी सीट पर ज्यादातर चुनावों में पंजाबी उम्मीदवारों का दबदबा रहा है. पिछले नतीजों के आधार पर कहा जा सकता है कि यहां किसी एक दल का दबदबा नहीं रहा है. फतेहाबाद विधानसभा सीट पर 1951 से अब तक कुल 6 बार उपचुनाव हो चुके हैं जिनमें से 3 हरियाणा बनने के बाद हुए हैं.
1967-76    जी राय    (कांग्रेस)22830 ने एम राम (निर्दलीय) को    9660 हराया. 1968    76 में पोखर राम (कांग्रेस)24029 ने लीला कृष्ण(निर्दलीय)17963 को हराया. 1972-76 पोखर राम(कांग्रेस)    30925 ने गोविंद राय(निर्दलीय) 23366 हराया. 1977-78    हरफूल सिंह(जेएनपी)    13863 ने लीला कृष्ण(निर्दलीय) को 13726 हराया.
1982-87 गोविंद राय(कांग्रेस)29118 ने हरमिंद्र सिंह (लोकदल)    20112 को हराया.
1987-91 में बलबीर सिंह चौधरी(भाजपा) ने43479 पृथ्वी सिंह(सीपीएम) को14864 हराया. 1991    में कांग्रेस के लीला कृष्ण24883 ने पृथ्वी सिंह गोरखपुरिया(सीपीएम) को 19675 हराया.1996 में हरमिंद्र सिंह(हविपा) ने 36199 लीला कृष्ण(कांग्रेस) 18078 को हराया. 2000 लीला कृष्ण(इनेलो) ने  44112 कांग्रेस के जय नारायण को 23133 हराया.
2005 कांग्रेस के दुरा राम ने61011 स्वतंत्र बाला चौधरी (इनेलो)    50386 को हराया. 2009    में निर्दलीय प्रहलाद सिंह गिल्लन खेरा ने 48637 कांग्रेस के दुरा राम को    45835 हराया.
इतिहास
फतेहाबाद 17 नवंबर,1398 में प्रसिद्ध आक्रमणकारी तैमूरलंग ने फतेहाबाद में कत्लेआम किया था. फतेहाबाद का अस्तित्व सम्राट अशोक के काल से है. प्राचीन समय में इस क्षेत्र में भील जाति के लोग रहते थे और यह क्षेत्र उदयानगरी के नाम से जाना जाता था. फिरोजशाह तुगलक का शाही काफिला मुल्तान से दिल्ली (सिरसा मार्ग से) जाते हुए यहां रूका था. 
23 अगस्त 1351 को फिरोजशाह तुगलक के घर पुत्र का जन्म हुआ था. पुत्र जन्म की खुशी व अपनी फतह पर यहां एक नगर बसाया. जिसका नाम फतेहाबाद रखा और नवजात शिशु का नाम फतह खां रखा.
पहले यह रानिया रिसायत का हिस्सा था. परंतु 1784 के बाद खान बहादुर खां भट्टी ने फतेहाबाद को मुख्यालय बनाकर फतेहाबाद को नई रियासत के रूप स्थापना की थी. हाँसी के तत्कालीन अधिकारी मिर्जा इलियास बेग ने 1805 में फतेहाबाद पर आक्रमण किया. 3 दिसंबर 1810 को कर्नल एडम ने फिर फतेहाबाद पर हमला  किया और और इस बार अंग्रेज भट्टियों को हराने में कामयाब हो गए. फतेहाबाद को हिसार डिवीजन में मिला दिया.
फतेहाबाद में मुसलमानों द्वारा बनाए जाने वाले चमड़े के कुप्पे, तराजू के पलड़े, मश्क, कुएं से पानी खींचने वाली चड़स की समूचे उत्तरी भारत में भारी मांग थी. 1963 में प्रथम कॉटन मिल की स्थापना हुई.
फतेहाबाद में ब्लड बैंक बनना प्रस्तावित है. भाखड़ा नहर द्वारा फतेहाबाद में सिंचाई होती है.
महत्त्वपूर्ण स्थल
40 हाफिज का मकबरा और संत मीर शाह की मजार फतेहाबाद में स्थित है. फतेहाबाद का किला और लाट, फतेहाबाद की मस्जिद, मीरशाह की मजार.
 


बाकी समाचार