Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

गुरूवार, 20 सितंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

किसानों के विरोध के चलते हरियाणा में नहीं हुई मोदी की रैली: अभय चौटाला

इनेलो ने आज गुड़गांव में जेल भरो आंदोलन किया.

Prime Minister Modi, Haryana  farmers, Abhay Chautala, naya haryana, नया हरियाणा

10 जुलाई 2018

नया हरियाणा

स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू ना कर केवल 200 रूपये किसान की फसल पर समर्थन मूल्य बढ़ाकर झूठी वाहवाही लूटने का काम प्रदेश की सरकार व उसके मंत्री कर रहे हैं, जबकि हरियाणा के किसान के साथ जो भद्दा मजाक भाजपाइयों ने किया है, उसके लिए उन्हें कभी प्रदेश का किसान और कमेरा वर्ग माफ नहीं करेगा। अभय चौटाला ने कहा कि अगर सरकार को ये अपनी उपलब्धि लगती है तो विधानसभा का एक दिन का सैशन बुलाए, हम इनकी पोल विधानसभा में भी खोलने का काम करेगें।

पत्रकारों को गुरूग्राम में जेल भरो आंदोलन में गिरफ्तारियां देने के बाद संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी किसानों को समर्थन मूल्य 200 रूपये बढ़ाने को लेकर मलोट में रैली करने जा रहे हैं जबकि अगर प्रधानमंत्री हरियाणा में रैली करते तो उन्हें इसका विरोध झेलना पड़ता क्योंकि हरियाणा के किसानों को जिस प्रकार से लूटने का काम भाजपा ने किया है,उसे हरियाणा का किसान कभी भूल नहीं सकता है।

उन्होंने कहा कि भाजपा के नेताओं को पता है कि अगर वो प्रधानमंत्री की रैली हरियाणा में करवाते तो उन्हें विरोध का सामना करना पड़ता क्योकि जिस प्रकार से हरियाणा के किसान को कभी नमी के नाम और कभी फसल ना खरीदकर किसान को आर्थिक रूप से कमजोर करने का काम भाजपा सरकार ने किया है,उसका विरोध अवश्य उन्हें झेलना पड़ता।उन्होने कहा कि समर्थन मूल्य 200 रूपये बढ़ाकर भाजपाई ढोल बजाकर नाचने का काम कर रहे है, जबकि सच्चाई ये है कि उन्होने किसान को कमजोर करने का काम किया है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने वर्ष 2016-17 में जो केन्द्र सरकार को न्यूनतम समर्थन मूल्य के लिए सिफारिशें भेजी थी उनमें धान का रेट 2074,गेहूं का रेट 2219,बाजरे का रेट 1530 रूपये,कपास का 5250 रूपये घोषित करने की बात कही थी। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार 2017-18 में सरकार ने धान का रेट 2657,गेहूं का रेट 2050,बाजरे का 2070,कपास का रेट 5750 रूपये घोषित किया था लेकिन धान पर 1750,ज्वार पर 2430,मक्का पर 1700 और कपास पर 5150 रूपये दे रहे है।उन्होने कहा कि भाजपा सरकार जहां किसानों को कमजोर बनाने का काम कर रही है वही जहां किसानों को 50 फीसदी ज्यादा देने की बात करती थी वही केवल 200 रूपये समर्थन मूल्य बढ़ाकर किसान को बेईज्जत करने का काम किया है।उन्होने कहा कि सरकार द्वारा जो 200 रूपये बढ़ाए गए है वो तो जब किसान बाजार में अपनी फसल बेचने आएगा तो उसे नमी के नाम पर लूटकर सरकार द्वारा पूरे कर लिये जाएगें।अभय चौटाला ने कहा कि भाजपा सरकार ने हमेशा ही किसान और कमेरे वर्ग को लूटा है और टाटा,बिरला,अंबानी-अडानी को और ज्यादा अमीर बनाने के लिए उनके कर्जे माफ कर उन्हें नए कर्ज देने का भी काम किया है।उन्होने कहा कि अगर भाजपा को ये लगता है कि किसान की फसल का समर्थन मूल्य 200 रूपये बढ़ाना भाजपा की बहुत बड़ी उपलब्धि है तो वो एक दिन का विशेष सत्र विधानसभा का बुलाए ताकि इनेलो उनकी पोल जो गांव-गांव जाकर खोलने का काम कर रही है वो विधानसभा में भी उनकी पोल खोल सके।

हुडडा एक दिन रथ पर आते है,उसके बाद 20 दिन मनाते है छुटिटयां पत्रकारवार्ता के दौरान एक पत्रकार द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा द्वारा इनेलो पर लगाए गए आरोप का जवाब देते हुए अभय चौटाला ने कहा कि अगर उन्हें ये लगता है कि इनेलो घडिय़ाली आंसू एसवाईएल के नाम पर बहा रही है तो एक दिन वो भी हमारे साथ आंसू बहाकर तो दिखाए।उन्होन कहा कि इनेलो 50 डिग्री तापमान में भयंकर गर्मी के अंदर जिस तरह से सउ़कों पर उतरकर किसानों के हितों की लड़ाई लउ़ रही है,उस लड़ाई में एक दिन तो हुडडा आए,उन्हें पता चल जाएगा।उन्होने कहा कि हुडडा तो एक दिन रथ पर सवार होते है और उसके बाद 20 दिन छुटिटयां मनाने चले जाते हे।उन्होने कहा कि हुडडा ने अपने दस साल के कार्यकाल में एसवाईएल नहर के निर्माण को लेकर क्या कदम उठाएं?


बाकी समाचार