Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

मंगलवार, 23 जुलाई 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

हरियाणा में भाजपा की विधानसभा में 4-5 सीटें भी नहीं आएंगी : दुष्यंत चौटाला

सांसद धर्मबीर ने चौधरी देवीलाल को खुले दिलो दिमाग  का नेता बताया था। धर्मबीर ने इस बयान के राजनीतिक मायने निकालने से इनकार किया है।

Haryana assembly, Dushyant Chautala, MP Dharmbir, Bhiwani Mahendragarh Lok Sabha seat, Tosham assembly seat, naya haryana, नया हरियाणा

5 जुलाई 2018



नया हरियाणा

जनता टीवी पर शशि रंजन ने सांसद धर्मबीर सिंह का इंटरव्यू लिया था. जिसमें सांसद धर्मबीर के इनेलो बाबत नरम रवैये के राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं. शशि रंजन ने भी इशारों-इशारों में कह भी दिया और हरियाणा के नातओं में उन्हें मौसम वैज्ञानिक की पदवी भी दे दी. आमजन में यह मिथ भी है कि जिधर जीत दिखती है धर्मबीर उधर ही चले जाते हैं. अब वो किधर जाएंगे, यह तो उन्हें ही मालूम होगा, पर संभावनाएं इनेलो में जाने की लग रही हैं. 

सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि सांसद धर्मबीर इनेलो परिवार के पुराने सदस्य हैं, जिन्होंने देवीलाल की अंगुली पकड़कर राजनीति  सीखी है। हालांकि उन्होंने कहा कि इनेलो में किसी को शामिल  करने का फैसला ओमप्रकाश चौटाला ही करेंगे।
दुष्यंत के भाजपा सांसद धर्मबीर के प्रति नरम रुख से राजनीतिक गलियारों में चर्चाएं हैं। 3 दिन पहले एक न्यूज चैनल पर साक्षात्कार के दौरान सांसद धर्मबीर ने चौधरी देवीलाल को खुले दिलो दिमाग  का नेता बताया था। धर्मबीर ने इस बयान के राजनीतिक मायने निकालने से इनकार किया है।
बुधवार को पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक से पहले पत्रकारों से बातचीत में दुष्यंत ने कहा कि इस बार हरियाणा में भाजपा की विधानसभा में 4-5 सीटें भी नहीं आएंगी। उन्होंने कहा कि आने वाले चुनावों में बड़े-बड़े राजनेता इनेलो में शामिल होंगे।
दुष्यंत ने लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि इसके लिए इनलो-बसपा गठबंधन तैयार है। भाजपा मंत्रियों द्वारा चुनाव में 60 से 70 सीटें जीतने के दावे पर दुष्यंत ने पलटवार किया और कहा कि इस बार चुनाव में केंद्र से ज्यादा हरियाणा में बुरी हार होगी।
दुष्यंत ने एसवाईएल की मांग को लेकर 17 जुलाई को होने वाले जेल भरो आंदोलन के लिए कार्यक्रताओं की जिम्मेवारी लगाई। आंदोलन के लिए   पूर्व विधायक पूर्णचंद डाबड़ा को तोशाम, विधायक परमिंद्र ढूल को बवानी खेड़ा, चरखी दादरी के जिला अध्यक्ष नरेश द्वारका  को लोहारू, पूर्व सांसद रणबीर गंगवा को भिवानी का प्रभारी बनाया गया है।

सियासी मायने नहीं  
सांसद धर्मबीर ने कहा कि उनके देवीलाल के  बारे में दी गई प्रतिक्रिया के राजनीतिक मायने नहीं हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने देवीलाल, और राव इंद्रजीत पर व्यक्तिगत विचार व्यक्त किए थे।


बाकी समाचार