Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शुक्रवार, 16 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

पर्दे में जनता दरबार लगाकर जनता से छुपने की बजाए, जनता का सामना करे मुख्यमंत्री : गीता भुक्कल

पूर्व शिक्षा मंत्री ने मनोहर लाल के पर्दें में लगे जनता दरबार को लेकर खूब तंज कसे.

Geeta Bhukkal, Manohar Lal, Janata Darbar, Open Court, Curtain Durbar, naya haryana, नया हरियाणा

2 जुलाई 2018

नया हरियाणा

अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार अपने आंदोलन को तेज गति देने के लिए सोमवार को सभी विभागों के कर्मचारियों ने झज्जर शहर में जोरदार प्रदर्शन किया. कर्मचारी लगातार अपनी मांगों को लेकर सड़को पर भाजपा सरकार के खिलाफ नारे लगा कर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. कर्मचारी झज्जर श्री राम पार्क में इकट्ठे होकर पूर्व शिक्षा मंत्री गीता भुक्क्ल के निवास पर भाजपा सरकार  खिलाफ नारे लगाते पहुंचे और अपनी मांगों का एक मांग पत्र भी सौंपा.

 पूर्व शिक्षा मंत्री ने भाजपा सरकार के कर्मचारियों के खिलाफ झूठे वायदे किए उनसे अवगत कराया. कहा कि जल्द कर्मचारियों की मांगों को पूरा नहीं किया तो आंदोलन करने को मजबूर होंगे कर्मचारी.  इस दौरान सैकड़ों की संख्या में एकत्रित हुए इन कर्मचारियों ने अपनी मांगों के लिए सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. और सरकार को चेताया कि सरकार जिस तरह से उनके आंदोलन का विफल करने में जुटी हुई है. वह विफल होने वाला नहीं है। आप को बता दें कि इस से पहले कर्मचारी  जेल भरो आंदोलन के तहत गिरफ्तारियां दे चुके हैं. अस्थाई कर्मचारियों को नियमित करने, ठेकेदारी प्रथा को समाप्त करने व कर्मचारियोंं के खिलाफ पिछले दिनों दिए गए हाईकोर्ट के फैसले को निष्प्रभावी करने की मांग कर रहे थे। इन्हीं मांगों को लेकर सर्व कर्मचारी संघ के बैनर तले सैकड़ों की तादाद में इन कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया.

  पूर्व शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल ने मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के पर्दे में खुले दरबार लगाने पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, पर्दे में तो महिलाएं रहती हैं, जो अपने आपको असुरक्षित महसूस करती हैं. लेकिन पुरूष मुख्यमंत्री को पहली बार पर्दे में देखा गया. उन्होंने मुख्यमंत्री से  सवाल करते हुए कहा क्या मुख्यमंत्री अपने आपको राजा-महाराजा समझते हैं? हरियाणा के इतिहास में कभी ऐसा नहीं हुआ कि कोई खुला दरबार पर्दे में लगा हो.  मुख्यमंत्री जी को पर्दे में रहने की बजाए, लोगों की समस्याए सुननी चाहिए. मुख्यमंत्री राजा-महाराजा नहीं बल्कि जनता के चुने हुए नुमाईदें हैं।  जनता से छुपने की बजाए, जनता का सामना करे मुख्यमंत्री.


बाकी समाचार