Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शनिवार, 22 सितंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

इनेलो के जेल भरो आंदोलन पर सोशल मीडिया रिएक्शन : कोरी ड्रामेबाजी है

सोशल मीडिया के दौर में जनता के रिएक्शन राजनीतिक दलों और नीतियों को लेकर आते रहते हैं.

inld, jail bharo aandolan, abhay singh, chautala, SocialMediaDay, naya haryana, नया हरियाणा

30 जून 2018

नया हरियाणा

#socialmediaday सोशल मीडिया दिवस पर-

इनेलो के जेल भरो आंदोलन को लेकर सोशल मीडिया पर अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं आती रहती हैं. इसी क्रम में आज यह प्रतिक्रिया सोशल मीडिया पर चल रही है. प्रसिद्ध कार्टूनिस्ट राजेंद्र वर्मा खूबडू की कलम से निकला है-

कितनी विवशता, कितनी छटपटाहट, कितनी आतुरता है कुर्सी पर कब्जा करने की।भले ही इनेलो+ बसपा ने परस्पर दुपट्टे गांठ बांधकर थोथी शक्ति का प्रदर्शन कर दिया है किंतु इनेलो को अंदर ही अंदर गठबंधन के बावजूद पराजित होने का एक अस्पष्ट सा भय खाए जा रहा है।घर से बाहर लगे बिजली मोटरों को उखाड़ फेंकने का एलान एक बुज़दिली एलान है। गठबंधन की बौखलाहट का स्प्ट परिचय है।एक पारदर्शिता लाने वाले सामाजिक रूप से प्रशंसनीय कदम का निजी लाभार्थी निंदनीय कदम है। ऐसे ऐलानों से गठबंधन कमजोर नजर आ रहा है। यानि सीधे-सीधे बिजली चोरी का समर्थन।
ग्रामीण क्षेत्र हो या शहरी, दोनों जगह बिजली उपभोक्ताओं का एक वर्ग ऐसा भी है जो विधिवत रूपेण बिल अदायगी करता है और बहुत बड़ा वर्ग ' घुंडी प्रिय ' भी है। क्या यह ऐलान उपभोक्ताओं के पहले वर्ग को प्रभावित कर पाएगा?...कदापि नहीं।एसवाईएल व इस प्रकार के मीठे प्रलोभनी मुद्दों के " आलिंगन " का परित्याग करके पुष्ट सामाजिक मुद्दों से गलबहियाँ करनी ही होगी।

<?= inld, jail bharo aandolan, abhay singh, chautala, SocialMediaDay; ?>, naya haryana, नया हरियाणा

जेल भरो आंदोलन को लेकर सख्त कानून बनाए जाने की दरकार है ताकि इसका मजाक न बनाया जाए. हर राजनीतिक दल द्वारा जेल भरो आंदोलन का मजाक बना दिया जाता है, वह चाहे कांग्रे हो, भाजपा हो या इनेलो हो.

जेल भरो आंदोलनकारियों के लिए शीघ्र ही ये नियम लागू होने चाहिएं---
1। कम से कम 1 महीना रहना पड़ेगा।
2 आम कैदियों वाला खाना मिलेगा।
3 कुछ परिश्रम के काम सौंपे जांए।
4 इस दौरान किसी से भी मिलने न दिया जाए।
विशेष: पार्टी कोई भी हो।
समर्थक संख्या कम होती चली जाएगी।
##इब तो इसा हो रया सै जणूं सुसराड़ म घी-बूरा सूड़ कै आ गे।

<?= inld, jail bharo aandolan, abhay singh, chautala, SocialMediaDay; ?>, naya haryana, नया हरियाणा

<?= inld, jail bharo aandolan, abhay singh, chautala, SocialMediaDay; ?>, naya haryana, नया हरियाणा


बाकी समाचार