Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

रविवार, 22 जुलाई 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु व नगरपालिका के कर्मचारियों के प्रयासों से नारनौंद नगरपालिका ने रचा इतिहास!

हरियाणा में वैसे तो 52 नगरपालिकाएं है लेकिन एक भी नगरपालिका हरियाणा में ISO से प्रमाणित नहीं थी. नारनौंद ने रचा यह इतिहास.

Narnaund municipality,  finance minister Capt Abhimanyu, municipal employees, 52 Haryana Municipalities, Narendra suhag ME, naya haryana, नया हरियाणा

30 जून 2018

नया हरियाणा

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों को अपनी नगरपालिकाओं, नगर परिषद व नगर निगम परिषद को ISO से प्रमाणित करवाने के आदेश दिए हुए है लेकिन इस पर हरियाणा में कोई अमल अभी तक देखने को नहीं मिला है। हरियाणा में वैसे तो 52 नगरपालिकाएं है लेकिन एक भी नगरपालिका हरियाणा में ISO से प्रमाणित नहीं है लेकिन नारनौंद नगरपालिका ने आई एस ओ से प्रमाणित होकर पूरे हरियाणा में इतिहास बनाया है। सरकार ने लाख कोशिश की थी लेकिन एक भी नगरपालिका ISO से प्रमाणित नहीं हो पाई थी। लेकिन नारनौंद नगरपालिका के कर्मचारियों की मेहनत की बदौलत हरियाणा में पहली आईएसओ प्रमाणित नगर पालिका होकर हरियाणा में इतिहास कायम किया है। मुंबई से आई एक टीम ने 2 दिन तक नारनौंद नगरपालिका का निरीक्षण किया और सभी मानको पर खरा उतरने पर आईएसओ से प्रमाणित करने की अनुमति दी। वित्त कैप्टन अभिमन्यु व नगरपालिका के कर्मचारियों के प्रयासों से नारनौंद ने इतिहास बनाने का काम किया है।

कस्बे नारनौंद की नगरपालिका में एक वर्ष पहले एमई नरेन्द्र सुहाग ने अपना कार्यभार संभाला तो नगरपालिका में कोई भी काम करने का तरीका सही नहीं मिला तो उन्होंने उसी दिन से नगरपालिका को मार्डन नगरपालिका व स्मार्ट सिटी पर लाने के प्रयास शुरू कर दिए। एक वर्ष बाद उनके सपने को पंख लग गए। अब नारनौंद नगरपालिका को आईएसओ प्रमाण पत्र मिल गया और यहां पर काम करने वाले कर्मचारियों के तौर तरीकों में बहुत बड़ा बदलाव आ गया। ये नगरपालिका प्रदेश की पहली नगरपालिका होगी जोकि आईएसओ 9001,14001 व 18000 की गुणवता, प्रबंधन प्रणालियों के मानकों से अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन द्वारा मान्यता प्राप्त होगी। 

पुराने तौर तरीकों पर ही नारनौंद नगरपालिका में काम होते थे। लेकिन एमई नरेन्द्र सुहाग ने कार्यभार संभालते ही एक वर्ष के अंदर ही बड़े बदलाव किए। उन्होंने सबसे पहले नगरपालिका की बेबसाईट बनाई और शिकायत के लिए एक टोल फ्री नंबर भी शुरू किया गया। वहीं नगरपालिका परिसर में ही शिकायत कक्ष भी बनाया गया और नारनौंद को फ्री वाईफाई का तौहफा दिया। उनका सपना था कि नारनौंद नगरपालिका को वो आईएसओ का प्रमाण पत्र दिलवाएं। इसके लिए उन्होंने इसकी प्रक्रिया 6 महीने पहले शुरू कर दी। इसके लिए उन्होंने नगरपालिका द्वारा किए जाने वाले कार्यो में गुणवत्ता, रिकार्ड का रख रखाव, सफाई कर्मचारियों को सफाई करने का सही तरीका बताना व स्वच्छता के लिए संदेश देना, ऑन लाईन सर्विस की शुरूआत इत्यादि अनेक दर्जनों काम किए। वर्ष 2014 में स्थानीय निकाय के डायरेक्टर ने सभी नगरपालिकाओं, नगरपरिषद को आदेश दिए थे कि वो आईएसओ 9001 को लागू करें। लेकिन चार वर्ष बीत जाने के बाद भी एक भी नगरपालिका व परिषद ने पहल नहीं की। नारनौंद नगरपालिका आईएसओ 9001, आईएसओ 14001 व ओएचएसएएस 18000 का अंतर्राष्ट्रीय मानवीकरण संगठन द्वारा मान्यता प्राप्त हो गई है। इसका मुख्य उद्देश्य है कि पैसों को बचाकर कार्यो में गुणवता लाते हुए कार्य करना एवं प्रदूषण व लागत नियंत्रण करना है। 

 एमई नरेन्द्र सुहाग ने बताया कि नगरपालिका का ध्येय नियामक और मानक आवश्यकताओं को पूरा करके हमारी सेवाओं के निरंतर सुधार के माध्यम ग्राहक संतुष्टि में वृद्धि करना है। ये नगरपालिका पूरे प्रदेश में पहली आईएसओ प्रमाण पत्र वाली नगरपालिका होगी। उन्होंने कहा कि इसमें वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु का विशेष योगदान है।


बाकी समाचार