Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

मंगलवार, 13 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

सांसद धर्मबीर ने प्रधानमंत्री मोदी से की मांग, गेहूं का एमएसपी 5750 रु हो

धर्मबीर सिंह ने प्रदेश के किसानों की दयनीय हालत व किसानों के सुझावों को लेकर देश के प्रधानमंत्री,नीति आयोग ,कृषि आयोग व केंद्रीय कृषिमंत्री को चिट्ठी लिखी है.

MP Dharmir  Prime Minister Modi, naya haryana, नया हरियाणा

22 जून 2018

नया हरियाणा

भिवानी-महेंद्रगढ़ लोकसभा सांसद चौधरी धर्मबीर सिंह ने प्रदेश के किसानों की दयनीय हालत व किसानों के सुझावों को लेकर देश के प्रधानमंत्री,नीति आयोग ,कृषि आयोग व केंद्रीय कृषिमंत्री को चिट्ठी लिख कर तरीका सुझाया है कि दिन-प्रति दिन किसान खेती से मुँह मौड़ रहा है. किसान का बेटा आज खेती से दूर हटते हुए ठेके व डेलीवेज की नौकरी की तरफ भाग रहा है। यह देश -प्रदेश के लिए बड़ी चिंता का विषय है। सांसद ने कहा कि उन्होंने भिवानी महेंद्रगढ़ लोकसभा क्षेत्र की सभी विधानसभाओं में किसानों व आम आदमी की फीडबैक और सुझाव लिए हैं। जिसमें किसानों के प्रति भी सुझाव आए है। जिसमें खेती किसानों के लिए घाटे का सौदा बन रही है और किसान खेती से दूर भाग रहे हैं। 

<?= MP Dharmir  Prime Minister Modi; ?>, naya haryana, नया हरियाणा

 सांसद धर्मबीर सिंह ने कहा कि नितिन गडकरी ने बजट में 2022 तक किसान की आमदनी दो गुना करने की घोषणा की थी । उसे जल्द लागू करे तो किसानों को लाभ मिलेगा. सांसद ने कहा कि उन्होंने 10 हजार किसानों से सुझाव लेकर एक निचोड़ निकाला है। इन सुझावों को लेकर उन्होंने प्रधानमंत्री को अपनी सुझाव व तरीके भरी चिट्ठी लिखी है कि किसान को खेती से उपज फसल में आमदनी कम है और खर्च अधिक है। इसलिए किसान का बेटा अपने परिवार के पालन पोषण के लिए आज खेती से मोह तोड़कर डेलीवेज की नौकरी की तरफ भाग रहा है। उन्होंने कहा कि जो हमारी घोषणा है कि 2022 तक किसान को डेढ गुणा रेट मिलेगा. यदि उसे जल्द लागू किया जाए तो ही किसान खेती से जुड़ा रहेगा और तभी किसान की दयनीय हालत सुधर सकती है। उन्होंने कहा कि किसानों से मिले सुझाव व तरीके उन्होंने चिट्ठी में प्रधानमंत्री के पास भेजे है कि समर्थन मूल्य के लिए यह तरीका अपनाना पड़ेगा।जिससे किसान को भी लाभ मिलेगा।  

किसान का पूरा परिवार फसल को तैयार करने में वर्ष भर खेत में काम करता है ,यदि उन सभी की मेहनत,खेती में होने वाले खर्च,खाद,बीज ,भाड़ा सभी को देखा जाए तो उसे खेती से वो लाभ नहीं मिलता जो उसे मिलना चाहिए। इसलिए किसान के लिए खेती घाटा का सौदा बनती जा रही है। उन्होंने कहा कि उन्होंने अपनी चिट्ठी में किसान की हर बात अंकित की है।


बाकी समाचार