Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 20 जून 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

बाराती नहीं, दूल्हा बनने की तैयारी करो हनुमान बेनीवाल!

उन्होंने कहा कि तीसरे मोर्चे के बजाय कांग्रेस और भाजपा के खिलाफ दूसरा मोर्चा तैयार कीजिए.

Do not Baratati, prepare to be a bride, Hanuman Beniwal, Rajasthan Politics, Vasundhara Raje,, naya haryana, नया हरियाणा

13 जून 2018



राकेश सांगवान

मेरी हनुमान बेनीवाल से पहली और अबतक की आख़री मुलाक़ात दिसम्बर 2015 , में हुई थी । वो मुलाक़ात मैंने Vimal Choudhary के कहने पर की थी । यूनियनिस्ट मिशन को शुरू हुए अभी साल भी नहीं हुआ था , विमल और मेरी मुलाक़ात फ़ेसबूक और मिशन के माध्यम से ही हुई थी , उन दिनों मैं जयपुर में था तो विमल बोला कि भाईसाहब , हनुमान जी से मुलाक़ात करके देखो शायद हमारे विचार मेल खा जाए । हनुमान जी का बेटा बीमार था तो वो पहली मुलाक़ात हॉस्पिटल में ही हुई थी । मुलाक़ात लम्बी थी तो सभी बातें यहाँ साँझा नहीं कर पाउँगा , मुलाक़ात में कुछ अहम विषयों पर चर्चा हुई , जिसमें हनुमान जी ने बताया कि आज उनको इनेलो , रालोद , समाजवादी पार्टी सभी चुगा डालने की कोशिश कर रहें हैं कि हमारे साथ आ जाओ , क्या किया जाए ? इस पर मैंने उन्हें यही सुझाव दिया कि यदि आपको नेता बनना है तो अकेले चलो और आज हनुमान का नाम है इसलिए ये लोग चुगा डाल रहें हैं , और दूसरी बात ये कि ये सभी बरगद के पेड़ है और बरगद के पेड़ के नीचे घास भी नहीं उगती और हनुमान अभी पौधा है , अगर ग़लती से भी ये पौधा किसी भी बरगद के पेड़ के नीचे गया तो वही सूख जाएगा । फिर हनुमान जी बोले कि राकेश जी नई पार्टी बनाने के लिए संसाधन चाहिए वो तो नहीं है ! मैंने कहा जब एक अग्रवाल बनिया केजरीवाल जिनकी आबादी मुट्ठी भर है वो दिल्ली का मुख्यमंत्री बन सकता है तो फिर हनुमान तो जाट बिरादरी से है , वो बिरादरी जो वाघा से लेकर मुज़फ़्फ़रनगर , कश्मीर से भोपाल तक भरी पड़ी है , इतनी आबादी है कि डला मारो तो जाट पर जाकर पड़े , और इन जाटों को एक बार मुद्दे की समझ आ गई तो बाक़ी की किसान कमेरी जातियाँ ज़रूर साथ आएँगी और फिर ये सभी अपने आप संसाधन जुटा देंगे । केजरीवाल बन सकता है तो हनुमान क्यों नहीं ? अगले दिन कुचामन में उनकी रैली थी मुझे बोले आप भी चलो , मैंने किसी कारण जाने से मना कर दिया परकेजरीवाल वाली जो बात मैंने बोली वही बात रैली में बोलते सुने ।

ख़ैर , इस मुलाक़ात के बाद मेरी कभी उनसे मुलाक़ात नहीं हुई बस दो तीन दफ़ा फ़ोन पर ही बातचीत हुई । उस मुलाक़ात के बाद से मैं उन्हें फ़ेसबूक पर फ़ॉलो करता रहता हूँ । फ़ेसबूक पर ही मैंने उन्हें बार-बार तीसरा मोर्चा शब्द बोलते सुना , जिस पर मैंने कई बार पोस्टों में लिखा कि शायद यहाँ पढ़कर कोई उन्हें बता दे कि तीसरा कुछ नहीं होता । ये बात मैं उन्हें फ़ोन पर या मिलकर भी बता सकता था , मिला इसलिए नहीं कि साथ मिलकर जो पार्टी बनाने की बात हुई थी उस पर उनकी ना कोई प्रतिक्रिया और ना ही कोशिश हुई , सिर्फ़ रैली पर रैली , ऐसा करने से लोगों में अविश्वास पैदा होता है कि पता नहीं पार्टी बनाएगा या ख़ुद ही किसी पार्टी में जाएगा । और ये अविश्वास मेरे मन में भी कई बार आया , तरह-तरह के सवाल आए कि जब अलग पेड़ बनना ही है तो देरी क्यों ? इंतज़ार किस बात का ? या रैली करके ख़ुद की क़ीमत तैयार की जा रही है ? ख़ैर , सवाल दिमाग़ में चलते रहते हैं पर फिर भी मेरी उम्मीद भाई पर टिकी हुई है और जैसा कि भाई कि हर स्पीच को ध्यान से सुनता रहता हूँ । सीकर रैली से कुछ दिन पहले झुनझुनू के पिलानी , नवलगढ़ के live प्रोग्राम देख रहा था जिसमें बार-बार तीसरा मोर्चा रट लगाई हुई थी , मुझसे रहा नहीं गया और उन्हें फ़ोन पर मेसिज किया कि तीसरा कुछ नहीं सिर्फ़ ख़ुद की मानसिक हार है । शायद बात भाई के समझ आई होगी , सीकर रैली में ये तीसरे मोर्चे की रट सुनने को नहीं मिली । पर इस रैली में दो नई बात छेड़ दी , पहली JMM वाली और दूसरी दूल्हा नहीं बना तो बारात में ज़रूर जाऊँगा ।

अब ये JMM की सलाह किसने दी कौन राजनीतिक ज्ञानी है मुझे नहीं पता । JMM यानी जाट मुस्लिम मेघवाल , कोई पूछे कि ये क्या और कैसा समीकरण है ? जाति और धर्म ? क्या जाट और मेघवाल मुस्लिम नहीं ? जाति और धर्म की राजनीति तो पहले ही उन लोगों ने पेटेंट करवा रखी हैं तो फिर आप उन्हीं के रास्ते को पकड़ कर उनकी काट कैसे कर पाओगे ? राजनीति मतलब वर्गीकरण , किसान की बात करते हो तो फिर चौधरी छोटूराम की तरह वर्ग की ही राजनीतिक करो , कमेरे-लूटेरे का वर्गीकरण करो , और जो कोई जाट भी इस वर्गीकरण का विरोध करे उसे फिर लूटेरे वर्ग का समझो । लड़ाई व्यवस्था की है तो व्यवस्था का वर्गीकरण करो ।

यह सब बातें खुले में लिख कर मैं हनुमान बेनीवाल का विरोध या ख़ुद को उनसे ज़्यादा होशियार दिखाने की कोशिश नहीं कर रहा । यहाँ यह सब लिखने का मेरा सिर्फ़ इतना ही मक़सद है कि उनके इर्द-गिर्द रहने वाले इन बातों को पढ़े , ध्यान में रखें , इन पर विचार करें और नेता जी को सही सुझाव देते रहें हैं क्योंकि ज़रूरी नहीं एक ही व्यक्ति के दिमाग़ में सभी विचार आएँ । और नेता जी का हौंसला बढ़ाए और बताएँ कि हनुमान जी बात दूल्हा बनने की है बाराती बनने की नहीं , बाराती तो पहले भी बहुत बन चुके , हम आपको बाराती बनाने नहीं आपके बाराती बनने आए हैं , अब बात सिर्फ़ दूल्हा और दुल्हें की ख़ुद की बारात की बात होगी , अब बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना नहीं बनेगा । अब से कोई तीस साल पहले दूल्हा बनने का एक मौक़ा आया था पर उस घोड़ी पर ताऊ देवी लाल ने किसी और को बैठा दिया था , तीस साल बाद फिर से दूल्हा बनने की एक उम्मीद जगी है तो अब माड़ी बात करके इस उम्मीद को मार मत देना , अगर अब नहीं तो फिर भविष्य में कोई भी दूल्हा बनने का ख़्वाब भी नहीं लेगा । और ये ख़्याल रखना इस दूल्हे पर सिर्फ़ राजस्थान ही नहीं , हरियाणा , वेस्ट-यूपी, दिल्ली , पंजाब , एमपी तक के लोगों की नज़र टिकी हुई है , हनुमान जी दूल्हा बन घोड़ी पर बैठने की तैयारी करो ये सब लोग बाराती बनने की बाँट देख रहें हैं ।


बाकी समाचार