Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

सोमवार , 14 अक्टूबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

हरियाणा के सबसे बड़े हत्याकांड को अंजाम देने वाला हुआ पैरोल से फरार!

हरियाणा के राजनीतिक इतिहास में सबसे बड़े हत्याकांड को अंजाम देने वाली बेटी और दामाद की घटना ने सबका दिल दहला दिया था.

Poonia murders, Relu Ram Poonia murder case, daughter Sonia,  her husband Sanjeev Kumar, naya haryana, नया हरियाणा

12 जून 2018



नया हरियाणा

हरियाणा के सबसे बड़े हत्याकांड को अंजाम देने वाला  पैरोल से फरार हो गया है. नाम है संजीव. ताजा खबरों के अनुसार हिसार-पूर्व विधायक रेलूराम पुनिया और उनके परिवार के हत्याकांड को अंजाम देने वाला संजीव पेरोल पर आया हुआ था. रेलूराम का दामाद हत्यारा संजीव पेरोल से  गायब होने की सूचनाएं मिल रही हैं. 

हरियाणा के राजनीतिक इतिहास में सबसे बड़े हत्याकांड को अंजाम देने वाली बेटी और दामाद की घटना ने सबका दिल दहला दिया था. जब एक राजनीतिक परिवार की बेटी ने अपने पति के साथ मिलकर परिवार के 7 सदस्यों की हत्या कर दी. 

रेलूराम का चुनाव में एक प्रसिद्ध नारा था, जो बच्चे-बच्चे की जुबान पर चढ़ा हुआ था-

"रेलूराम की रेल चली

बिन पाणी, बिन तेल चली."
1996 में बरवाला विधान सभा से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप रेलू राम पुनिया विधायक बने. भारतीय लोक दल से टिकट मिलने के कारण उन्हें आजाद चुनाव लड़ना पड़ा. जीत के बाद उन्होंने हविपा के बंसीलाल को समर्थन दिया. गरीब परिवार में जन्में रेलूराम पुनिया ने फरीदाबाद के औद्योगिक क्षेत्र में तेल की काला बाजारी से खूब पैसा कमाया और उस पैसे से जमीन खरीदी. 
धन-दौलत आने के बाद अपने पैतृक गांव लिटानी में हवेली बनाई. धन-दौलत के बूते राजनीति में अपनी पहचान बनाई और देवीलाल व ओमप्रकाश चौटाला के साथ नजदीकी संबंध रहे.
रेलूराम की पहली पत्नी ओमी देवी से उन्हें एक बेटा सुनील और दूसरी पत्नी कृष्णा से दो बेटियां सोनिया और प्रियंका(पम्मी) हुई. बेटे सुनील का विवाह शंकुतला से हुआ. जिनके एक लड़का लोकेश और दो लड़कियां शिवानी व प्रीति हुई. सोनिया का संजीव कुमार से विवाह हुआ. 
दूसरी पत्नी कृष्णा के साथ रेलूराम के संबंध अच्छे नहीं बताए जाते हैं. बताया जाता है कि सोनिया का अपने सौतेले भाई सुनील से लगभग 46 एकड़ जमीन को लेकर झगड़ा चल रहा था. जिसके कारण दोनों में आपसी दुश्मनी बढ़ती चली गई थी.
23 अगस्त 2001 को लिटानी फार्म हाऊस पर रेलूराम(40), कृष्णा(41), प्रियंका(16), सुनील(23), शंकुतला(20), पोता लोकेश(4), दो पोती शिवानी(2), प्रीति(3 महीने) की हत्या रेलूराम की बेटी सोनिया ने लोहे की छड़ से कर दी. सोनिया ने सभी की हत्या करने के बाद खुद जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी करने की कोशिश की और पत्र में लिखा था कि उसने अपने पिता को मार डाला क्योंकि वह उससे प्यार नहीं करते थे.
उसने अपने पति के साथ मिलकर पूरे परिवार की हत्या की साजिश रची थी. पुलिस जांच में पता चला था कि उसने खीर में अफीम मिलाकर परिवार को खिलाई थी .
पुनिया हत्याकांड भारतीय राजनेता रेलूराम पुनिया का दिलदहला देनी वाली घटना थी. जिसमें 7 सदस्यों की हत्या की गई थी. यह हत्या भूमि विवाद के चलते हुई. कोर्ट में मुकदमा चला और जिला न्यायालय ने संजीव और सोनिया को मौत की सजा सुनाई. हरियाणा उच्च न्यायालय ने इसे आजीवन कारावास में बदल दिया. लेकिन उच्च न्यायालय ने इसे फिर से मौत की सजा में बदल दिया. बाद में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल और प्रणव मुखर्जी के पास जीवनदान की याचिका लगाई, जिसे खारिज कर दिया गया. बाद में एक एनजीओ ने सर्वोच्च न्यायालय में याचिका लगाई गई, जिसे 2014 में स्वीकार कर लिया गया और दंपति की मौत की सजा वापस लौटा दी गई.  
 


बाकी समाचार