Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 17 अक्टूबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

हुड्डा की रैली के बाद समालखा में मोहन भागवत ने रखी संघ मुख्यालय की नींव!

जीटी रोड बेल्ट पर समालखा राजनीति का अखाड़ा बनता जा रहा है.

samalkha Hooda rally, Mohan Bhagwat,  foundations,  Sangh headquarter in Samalkha, naya haryana, नया हरियाणा

9 जून 2018



नया हरियाणा

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर संघचालक डा0 मोहन भागवत ने शनिवार को समालखा के पट्टीकल्याणा स्थित माधव जन सेवा न्यास, सेवा साधना एवं ग्राम विकास केन्द्र के शिलान्यास समारोह में बोलते हुए समरसता का संदेश दिया और कहा कि यह संस्थान सर्वांगीण सेवा का सबसे बड़ा केन्द्र बनकर सेवा और साधन का नया संकल्प सिद्ध होगा। राष्ट्रीय स्वयं सेवकों को समाज के हित के लिए समाज से छलकपट और दूखों को दूर करने के लिए कोने-कोने में फैलना है ताकि भविष्य में सेवा करने वालों की संख्या बढ़े और समाज में अपनत्व की भावना पनप सके। 
डा0 मोहन भागवत ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ शुरू से ही भवतु: स्व मंगलम और सर्वे भवतु सुखीन: अर्थात सबकी मंगल कामना करने और चारों और खुशियां फैलाने का कार्य करता है और यह सेवा स्वयं सेवकों की शाखाओं में जाकर झलकती है। राष्ट्रीय स्वयं सेवकों को सेवा के लिए चिंतन जरूर करना चाहिए और चिंतन करने में सेवा जरूर करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जो समर्थ है, उसे दूसरों को सामर्थ्य बनाने का प्रयास करना चाहिए। मानवता में सेवा करने का कोई नियम नही है। यह केवल अपनेपन की भावना से आती है। 
मोहन भागवत ने कहा कि घर की खाकर और समाज की सेवा करने का गुण स्वयं सेवकों के अन्दर रहता है। उन्होंने अपील की कि वे इस केन्द्र को बनाने के लिए सामाजिक रूप से आगे आए क्योंकि समाज जिसके साथ खड़ा हो जाता है तो वह लक्ष्य पूरा हो जाता है। जिस सार्वजनिक कार्य में समाज खड़ा नही होता वह कार्य सम्पूर्ण नही हो पाता है। 
उन्होंने कहा कि हमारे देश में भामाशाह राणा प्रताप, शिवाजी जैसे वीरों और राजाओं का चरित्र लिखा जाता है जिन्होंने समाज के कल्याण के लिए राज किया। उन्होंने कहा कि कार्य करने में कभी भी अहम की भावना नही आनी चाहिए बल्कि कार्य में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की तरह संकल्प की भावना होनी जरूरी है। उन्होंने कहा कि इस माधक सेवा सदन का निर्माण कार्य शुरू होने का संकल्प लिया गया है। इसलिए यह पहले चिंतन था, लेकिन अब यह प्रतिज्ञा बन गया है।


बाकी समाचार