Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

गुरूवार, 13 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

देवीलाल- भजनलाल सरकार बनाएं, कर्नल राम सिंह कभी घूंसा दिखाए तो कभी पैर पकड़े!

राम सिंह 1977 से 1987 तक हरियाणा सरकार में शिक्षा मंत्री, अध्यक्ष और परिवहन मंत्री बने थे.

devi lal, bhajan lal, colonel ram singh rewari, governer tapse, 1982 ka chunav, bhajan lal ki sarkar, devi lal ki sarkar, rajaypal ko mara thappad, naya haryana, नया हरियाणा

7 जून 2018

नया हरियाणा

हरियाणा की राजनीति के दो बड़े लालों की चकरी कटाने वाले आजाद उम्मीदवार कर्नल राम सिंह को आज कम लोग जानते हैं. 1982 के विधानसभा चुनाव में इन्होंने चुनाव जीता.

चुनाव जीतने के बाद इन्होंने देवीलाल को समर्थन दिया. भजनलाल ने जोड़तोड़ करके राज्यपाल तापसे के सामने बहुमत होने की बात कही और तापसे ने भजनलाल को मुख्यमंत्री की शपथ दिला दी. और एक महीने में विश्वास मत हासिल करने को कहा.

उस समय कर्नल साहब देवीलाल के साथ थे. पूरे जोश के साथ वो देवीलाल के साथ राज्यपाल तापसे के पास गए और तापसे को घूंसा दिखाते हुए कहा कि “तू बिक गया है.” तूने भजनलाल को सीएम बना दिया. घूंसा देखकर राज्यपाल की हवाइयां उड़ गई.

भजनलाल ठहरे जोड़तोड़ के बादशाह. उन्होंने कर्नल साहब को भी सैट कर लिया और अगले दिन उन्हें मंत्री बना दिया.  मंत्री पद की शपथ लेने के बाद उसी राज्यपाल के पैर छुए, जिसे कुछ दिन पहले घुसा दिखाया था. पत्रकारों ने पूछा कर्नल साहब आपका हृदय परिवर्तन कैसे हो गया. कर्नल साहब को सांप सूंघ गया. उन्हें समझ ही नहीं आया क्या जवाब दें.

हाजिर जवाब भजनलाल ने बात को संभालते हुए कहा कि बेचारे का उस दिन ब्लड प्रैशर बढ़ गया था. अब ब्लड प्रैशर ठीक सै. मंत्री बणे पाछै एटोनोल की गोली दे दी सै. अगले चुनाव में कर्नल साहब भाजपा में जंप मार गए.

कर्नल राम सिंह का सफर

20 जून, 1 9 44 को सेना में कमीशन करने वाले राम सिंह ने अराकान बर्मा (1 944-45), जम्मू-कश्मीर (1 947-48), चीनी युद्ध (1 9 62) और पाक युद्ध(1965) में  अपना योगदान दिया।

वह 18 नवंबर, 1968 को सेना सेवा से सेवानिवृत्त हुए जिसके बाद वह राजनीति में उतर गए और मई 1977 में जनता पार्टी के उम्मीदवार के रूप में रेवाड़ी से विधायक चुने गए. उन्हें 1982 में रेवाड़ी से आजाद विधायक चुने गए.

राम सिंह 1977 से 1987 तक हरियाणा सरकार में शिक्षा मंत्री, अध्यक्ष और परिवहन मंत्री बने थे. वह 1991 में महेंद्रगढ़ निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में संसद के लिए चुने गए थे और जुलाई 1992 में ग्रामीण विकास राज्य मंत्री बने. बाद में, वह 1996 में बीजेपी टिकट पर फिर से सांसद चुने गए.


बाकी समाचार