Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

शनिवार, 7 दिसंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

अब भजनलाल के बेटे चंद्रमोहन बिश्नोई कहेंगे कांग्रेस को अलविदा!

चंद्रमोहन को लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं कि वो इनेलो या भाजपा में हो सकते हैं शामिल.

Chandramohan Bishnoi, Abhay Singh Chautala, Bhajan Lal, Kuldeep Bishnoi, panchkula, kalka, , naya haryana, नया हरियाणा

7 जून 2018



नया हरियाणा

हरियाणा के पूर्व उपमुख्यमंत्री और पांच बार विधायक रह चुके चंद्रमोहन एक बार फिर चर्चा में बने हुए हैं. इस बार चर्चा का कारण है अभय सिंह चौटाला की उनके घर पर हुई मुलाकात. इस मुलाकात का बहाना भले ही चंद्रमोहन के बेटे की शादी की शुभकामनाएं देना रहा हो लेकिन  सियासी खेल में हर चाल के पीछे एक सोची समझी रणनीति होती है. राजनीति में वैसे भी कुछ स्वाभाविक नहीं होता.
हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कद्दावर कांग्रेसी नेता रहे स्वर्गीय भजनलाल के छोटे बेटे कुलदीप बिश्नोई ने अपनी पार्टी हजकां का कांग्रेस में विलय कर दिया है और अब वो अपनी राजनीतिक पारी कांग्रेस में ही खेल रहे हैं. वहीं दूसरी ओर भजनलाल के बड़े बेटे चंद्रमोहन अपनी टेढ़ी चाल के लिए जाने जाते हैं. जब भजनलाल ने कांग्रेस को छोड़कर हजकां पार्टी बनाई थी, उस समय चंद्रमोहन ने कांग्रेस पार्टी में उपमुख्यमंत्री की कुर्सी पर विराजमान होना स्वीकार किया था. वो भी अपने परिवार के राजनीतिक दुश्मन भूपेंद्र हुड्डा के साथ.
प्रदेश के बड़े राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखने वाले चंद्रमोहन खुद भी सियासत के माहिर खिलाड़ी माने जाते हैं. इसकी चलते वह पांच बार विधायक चुने जाने के बाद हुड्डा सरकार में उपमुख्येमंत्री के पद तक पहुंच गए थे. इस बार देखना यह होगा कि वो किस पार्टी में अपना राजनीतिक भविष्य तलाशते हैं. इनेलो नेता अभय सिंह से उनकी मुलाकात के बाद राजनीतिक गलियारों में उनको लेकर चर्चाएं तेज हो गई हैं. दो तरह के कयास लगाए जा रहे हैं कि चंद्रमोहन इनेलो में शामिल हो सकते हैं या भाजपा में. उनके भाजपा में शामिल की संभावनाएं ज्यादा लग रही हैं, क्योंकि भाजपा गैर जाट की राजनीति को मजबूती देने के लिए और कांग्रेस गैर जाट की राजनीति न कर सके, इसके लिए चंद्रमोहन का भाजपा में शामिल किया जाना फायदे का सौदा हो सकता है.

ऐसे में चंद्रमोहन कब कांग्रेस को अलविदा कहेंगे और किस दल में शामिल होंगे, यह कयास तब तक लगते रहेंगे, जब तक वो विधिवत घोषणा नहीं कर देते. 


बाकी समाचार