Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 25 अप्रैल 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हनीप्रीत ने कहा उसे पुलिस ने जबरन फंसाया, कोर्ट करेगी कल फैसला

हनीप्रीत ने अपना पक्ष पंचकूला कोर्ट के सामने रखते हुए कहा कि उसकी षडयंत्र में कोई भूमिका नहीं है.

Honeypreet said that the police has forcibly implicated, court will decide tomorrow, naya haryana, नया हरियाणा

6 जून 2018



नया हरियाणा

 डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम केई सबसे बड़ी राज़दार हन्नीप्रीत की जमानत याचिका पर पंचकूला सेशन कोर्ट का फैसला कल आएगा। पंचकूला सेशन कोर्ट ने हन्नीप्रीत की जमानत याचिका पर फैसले को कल यानी 7 जून तक के लिए सुरक्षित रख लिया है। हन्नीप्रीत ने कोर्ट में महिला होने की दलील दी थी।
हनीप्रीत ने कहा कि मैं एक महिला हूं और 25 अगस्त 2017 को पंचकूला में जब हिंसा हो रही थी, तब मैं डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के साथ थी। डेरा प्रमुख को सजा होने के बाद मैं राम रहीम के साथ पंचकूला से सीधा सुनारिया जेल रोहतक चली गई। हिंसा में मेरा कहीं कोई रोल नहीं है। मेरा नाम भी बाद में एफआईआर में डाला गया। मुझे पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया, बल्कि मैं खुद 3 अक्तूबर 2017 को आत्मसमर्पण करने के लिए आ गई थी। जब इस एफआइआर नंबर 345 के अन्य 15 आरोपितों को जमानत मिल चुकी है, तो 245 दिन जेल में रहने के बाद मैं भी जमानत की हकदार हूं। इसलिए महिला होने के चलते मुझे रियायत दी जानी चाहिए। 
यह सभी बातें पंचकूला की एक अदालत में हनीप्रीत ने अपनी जमानत याचिका में कहीं हैं। हनीप्रीत के एडवोकेट ने लगाई गई जमानत याचिका में बहस करते हुए दलील दी थी कि हनीप्रीत को जबरन मामले में फंसाया जा रहा है। हनीप्रीत से पुलिस द्वारा कोई रिकवरी नहीं की गई, ना ही कोई ऐसा सामान रिकवर हुआ, जो हिंसा के लिए प्रयोग किया गया। उसका नाम भी एफआइआर में बाद जोड़ दिया गया। 
वहीं पंचकूला पुलिस ने जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा था कि हनीप्रीत इस हिंसा और देशद्रोह की मुख्य षड्यंत्रकर्ता है। जिसके कारण बड़े स्तर पर जनता का नुकसान हुआ है। 40 लोगों की हत्याएं हुई हैं, जो कि इनके षड्यंत्र से हुई है। 
जिसका विरोध करते हुए बचाव पक्ष के वकील ने कहा कि जब इन्हीं आरोपों में 15 लोगों को जमानत मिल चुकी है, तो हनीप्रीत को क्यों ना जमानत दी जाए?
 


बाकी समाचार