Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

सोमवार , 17 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

गांव बंद से शहर की गऊशालाओं पर पड़ा बुरा असर, अनिल विज ने कहा सरकार लगाएगी एस्मा एक्ट

सरकार पर वादाखिलाफी के आरोप लगाते हुए नाराज अन्नदाता किसान पिछले 5 दिनों सड़कों पर आंदोलनरत है।

gaon band se shhar ki gaoshalaon par pada bura asar, anil vij ne kaha sarakar lagaegi esma act, naya haryana, नया हरियाणा

5 जून 2018

नया हरियाणा

किसानों के देश व्यापी आंदोलन ने जहां आम जन मानस को हिला दिया है , वहीं गोवंशों की जो तस्वीरें हम आपको दिखाने जा रहे हैं वो आपको झकझोर कर रख देंगी ।  जिस गाय माता में 33 करोड़ देवी देवता वास करते हैं वही बेसहारा , बेजुबान गौमाता भूख के कारण बिलख रही है । बीते 5 दिन से चारा नहीं मिला ,  भूख से हाल बेहाल है लेकिन मजबूरी यह कि अनदाता  हड़ताल पर है । लड़ाई सरकार और अनदाता के बीच की है लेकिन इस सब के बीच अगर कोई पीस रहा है  तो वह है लाखों करोड़ों बेजुबान गौवंश । आस भरी आंखों से गौवंश गौशाला संचालकों की और देखते हैं लेकिन संचालक भी मजबूरी है , क्योंकि उनकी गौशाला में हरा चारा नहीं पहुंच रहा , लिहाजा वो भी गो हत्या का पाप अपने सर नहीं लेना चाहते और प्रशासन से गुहार लगा रहे हैं कि या तो उन्हें चारा उपलब्ध करवाओ या गोवंशों की जिम्मेवारी से उन्हें मुक्त करवा दो ।  इस बारे जब केबिनेट मंत्री अनिल विज  से बात की गई तो उन्होंने इस मुद्दे पर बड़ा ब्यान देते हुए कहा की सरकार ने जिला प्रशासन को ये सब चीजें मुहैया करवाने के आदेश दिए हैं लेकिन फिर भी बात न बनी तो सरकार  दूध और चारे पर एस्मा लगाने पर विचार कर  सकती है । 

 सरकार पर वादाखिलाफी के आरोप लगाते हुए नाराज अन्नदाता किसान पिछले 5 दिनों सड़कों पर आंदोलनरत है। जिस वजह से शहर से लेकर गाव में साग सब्जी और चारे की भारी किल्लत हो गई है। 10 जून तक चलने वाली इस हड़ताल का जनजीवन पर काफी असर देखा जा रहा। मानव से लेकर मवेशी तक पर इस हड़ताल की चौतरफा मार देखी जा रही है। ये तस्वीरें आपको विचलित कर सकती हैं। जिसमें आप देख रहे हैं कि किस कदर गोशालाओं में चारे की भारी किल्लत हो गई है और मवेशी भूख से बिलखने को मजबूर हैं। हमारे भारत देश मे मां का दर्जा प्राप्त गाय और गौवंश चारा न मिल पाने की वजह से भूख से बिलख रहे हैं और इस वजह से इन पर भुखमरी का खतरा भी मंडराने लगा है। गौशालाओं की चारा खुर्लियां खाली पड़ी हैं और मवेशी यहां आने वाले हर शख्श को इस उम्मीद भरी नजर से देखते हैं कि शायद कोई आया होगा जो उनके लिए चारा लाया होगा। गौशालाओं के संचालक बताते हैं कि किसान आंदोलन की वजह से गौशालाओं में चारे की भारी किल्लत हो गई है जिस वजह से गौमाता भूख से बिलख रही है। भूख से बिलखती गौमाता की चीखें कलेजे को चीर जाती हैं। मां का ये हाल देखा नहीं जाता। यदि चंद घण्टों में ये हालात ठीक न हुए और गौवंशो को चारा न मिला तो इनके प्राणों पर संकट छा जाएगा और गौशालाओं पर ताला लगाने तक की नौबत आ जाएगी। जल्दी ही कोई रास्ता न निकला तो स्थिति विकट हो जाएगी।

हरियाणा की सरकार खुद को गोपालकों की सरकार होने का दम भरती है। सरकार के कद्दावर मंत्री अनिल विज तो गाय को राष्ट्रीय पशु तक घोषित करने की वकालत कर चुके हैं। अब सरकार के सामने किसानों की हड़ताल और मवेशियों पर छाया चारे का संकट बड़ी चुनौती बनकर मुँह बाए खड़ा है। इस घोर संकट पर हरियाणा के कैबिनेट मंत्री अनिल विज का कहना है कि जो लोग चारा लेकर आ रहे हैं यदि उन्हें कोई  तत्व रोकते या परेशान करते हैं तो उन्हें ऐसा कतई नहीं करने दिया जाएगा। उन्हें पुलिस सुरक्षा मुहैया करवाई जाएगी। मवेशियों के लिए चारा अपने गंतव्य तक पहुंचे इसे सुनिश्चित किया जाएगा। एस्मा लगाए जाने के सवाल पर बोलते हुए विज ने कहा कि इस मामले पर सरकार विचार कर सकती है। फ़िलहाल प्रशासन अपने स्तर पर इससे निपटने की तैयारी कर रहा है। 


बाकी समाचार