Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

रविवार, 15 दिसंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

फरीदाबाद में 8 बर्षीय बच्ची को उठाकर दुष्कर्म करने का प्रयास

एक बार फिर फरीदाबाद में सेवा सुरक्षा सहयोग का दावा करने वाली महिला पुलिस का असली चेहरा आया सामने.

 rape, Faridabad, naya haryana, नया हरियाणा

31 मई 2018



नया हरियाणा

फरीदाबाद खेड़ी पुल थाना क्षेत्र के नहर किनारे बसी झुग्गियों में अपनी नानी के साथ सो रही एक 8 बर्षीय बच्ची को तीन युवक उठा ले गये और उसके साथ झाडियों में दुष्कर्म करने का प्रयास किया। पता लगने पर परिजनों ने बच्ची को खोजा तो झाडियों में उन्हें बच्ची बेहोश मिली और उसके साथ एक युवक आपत्तिजनक हालत में मिला जिसे परिजनों ने रात को ही पुलिस के हवाले कर दिया बाकि दो आरोपी भाग निकले। मगर महिला थाना पुलिस ने लापरवाही बर्तते हुए 12 घंटे बाद आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया। इस बीच पुलिस का असली चेहरा भी उस वक्त सामने आया जब बच्ची के पीडित परिजनों से महिला पुलिस कर्मी धक्का मुक्की करते हुए दिखे। 

एक बार फिर फरीदाबाद में सेवा सुरक्षा सहयोग का दावा करने वाली महिला पुलिस का असली चेहरा उस वक्त सामने आया जब एक मां अपनी 8 साल की बच्ची के लिये इंसाफ मांगने के लिये महिला थाना सेक्टर 16 में पहुंची जहां महिला पुलिस कर्मी पीडित परिजनों के साथ ही हाथपाई करते हुए दिखाई दिये। इस दौरान मां थाने में ही बेहोश हो गई । दरअसल फरीदाबाद खेडी पुल थाना क्षेत्र के नहर किनारे बसी झुग्गियों में रह रहे एक परिवार घर के अंदर सो रहे था। परिजनों ने बताया कि अचानक जब उनकी नींद खुली तो देखा की बच्ची गायब है। इधर उधर तलाश की लेकिन जब नही मिली तो इसकी सूचना पुलिस कंट्रोल को दी। पुलिस बच्ची को काफी देर तक ढूंढती रही लेकिन नहीं मिली। परिजन रात भर बच्ची की तलाश करते रहे । आखिर कार परिजनों ने एक व्यक्ति को झाड़ियों में देखा जब वह उसके पास पहुंचे तो देखा कि उसकी बच्ची बेहोश घायल अवस्था में पडी हुई थी और पास में एक युवक आपत्तिजनक हालत में बैठा हुआ था, जिसे परिजनों ने पकडकर रात को ही महिला थाने में बंद करवा दिया। मगर महिला पुलिस आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करने की बजह उल्टा बच्ची को ही डरा धमका कर पूछताछ करने लगी, इस दौरान पुलिस ने न तो लीगल एडवाईजर को थाने में बुलाकर बच्ची के बयान करवाये और न ही मेडिकल करवाया। जब इसका विरोध परिजनों ने किया तो उनके साथ धक्का मुक्की की गई जिसके बाद महिला थाने में जमकर हंगामा हुआ। इस खबर को कवर करने के लिये जब पत्रकार महिला थाने में पहुंचे तो उनके साथ महिला थाने की इंचार्ज सविता रानी ने बदसलूकी की और हंगामा करवाने का आरोप लगाते हुए कहा कि अब आपके खिलाफ ही मामला दर्ज करुंगी। जिसपर पत्रकारों ने डीसीपी भूपेन्द्र सिंह से मुलाकात की और शिकायत लिखकर दी जिसके बाद पीडित परिजनों का मामला दर्ज किया गया और पत्रकार के साथ हुई बदसलूकी की जांच करवाने की बात कही। 


बाकी समाचार