Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शनिवार, 23 जून 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

भारत में मौत के वायरस का कहर, हो चुकी हैं 9 की मौत

ये हैं कुछ खास लक्षण- तेज बुखार के साथ सिर दर्द, थकान, भटकाव, मेंटल कंफ्यूजन जैसी स्थितियां बनती हैं।

nipah virus, maut ka virus,, naya haryana, नया हरियाणा

23 मई 2018

नया हरियाणा

इन दिनों निपाह नाम के एक लाइलाज वायरस का खतरा केरल के कोझिकोड में मंडरा रहा है। जिसके चलते 9 लोगो की मौत और लगभग 25 लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, निपाह वायरस (NiV) एक नई उभरती हुई बीमारी है, जो जानवरों और मनुष्यों दोनों में गंभीर बीमारी की वजह बनता है। इसे 'निपाह वायरस एन्सेफलाइटिस' भी कहा जाता है।
निपाह नाम का वायरस संक्रामक बीमारी है। ये 1998 में मलेशिया और 1999 में सिंगापुर में फैल चुकी है।
ये  वायरस चमगादड़ों से फैलता है। ये वायरस न केवल चमगादड़ों के मूत्र में मौजूद रहते हैं बल्कि उनकी लार और शरीर से निकलने वाले द्रव में भी पाए जाते हैं। 2004 में बांग्लादेश में जब यह वायरस फैला तब पता लगा कि ये बीमारी उन लोगों में देखने को मिली, जिन्होंने उस कच्चे ताड़ का रस पिया था जहां चमगादड़ों का डेरा था। जिससे लगभग 45 लोगो की मौत हुई।
अब तकरीबन 14 साल बाद ये कोझीकोड में सामने आई है। बर्ड फ्लू, स्वाइन फ्लू की तरह निपाह वायरस भी एक जानलेवा बीमारी है। फर्क इतना है कि बर्ड फ्लू और स्वाइन फ्लू के लिए वेक्सिनेशन तैयार किया जा चुका है जबकि  निपाह से निपटने के लिए फिलहाल कोई वेक्सीन नहीं है।
निपाह के लक्षण-
 तेज बुखार के साथ सिर दर्द, थकान, भटकाव, मेंटल कंफ्यूजन जैसी स्थितियां बनती हैं। इससे ब्रेन में सूजन आ जाती है। निपाह वायरस के रोगी 24-48 घंटों के भीतर कोमा में भी जा सकते हैं। सही इलाज या समय से न पता लगने पर मौत भी हो सकती है।


बाकी समाचार