Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

रविवार, 19 अगस्त 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

महिला सबइंस्पेक्टर सुनिता के खिलाफ रिश्वत लेने के आरोप में हुआ मामला दर्ज

गुरुग्राम जिला में पुलिस कर्मचारियों,अधिकारियों के भ्रष्ट्चार का ये कोई पहला मामला नहीं है.

Case against woman Sub-Inspector Sunita for taking bribe, सोहना, naya haryana, नया हरियाणा

19 मई 2018

नया हरियाणा

सोहना सिटी थाना में तैनात महिला सबइंस्पेक्टर सुनिता के खिलाफ रिश्वत लेने के आऱोप में मामला दर्ज हुआ है...आपको बता दें कि महिला सबइंस्पेक्टर सोहना सिटी थाना में ही तैनात है...पुलिस कमिश्नर के आदेश पर मामला दर्ज कर आरोपी पुलिस अधिकारी के खिलाफ जांच की जा रही हैा......

ये वही सोहना सिटी थाना है जिसमें महिला सबइंस्पेक्टर सुनिता तैनात थी.....महिला सब इंस्पेक्टर सुनिता पर उसी के थाना में उसके खिलाफ आईपीसी की कई धाराओं के तहत मामला दर्ज हुआ है...पुलिस पीआरओ,रविंद्र कुमार की माने तो  गुरुग्राम के पुलिस आयुक्त के आदेश पर सोहना सिटी थाना में शुक्रवार को महिला एसआई के खिलाफ सात हजार रुपये रिश्वत लेने का मामला दर्ज किया गया है। जबकि महिला एसआई पर 30 हजार रुपये रिश्वत मांगने का आरोप है।  जानकारी के मुताबिक सोहना के गांव गांव धुनेला के रहने वाले राजेन्द्र ने पुलिस कमिश्नर को दी  शिकायत में सोहना सिटी थाना में महिला एसआई पर सात हजार रुपये रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था..जिसकी जांच के बाद पुलिस कमिश्नर ने तथअय सही पाया और महिला सब इंस्पेकट्र सुनिता के खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश दिया..... पुलिस कमिश्नर को दी लिखित शिकायत में पीड़ित परिवार ने आऱओप लगाया है कि  उसकी बेटी सोहना के राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल में पढ़ती है। उसका बेटा गुरूवार की सुबह अपनी बहन को बाइक से छोड़ने के लिए गया था। बेटी को स्कूल के बाहर छोड़ने के दौरान उसके बेटा की बाइक दूसरी बाइक से टकरा गई। जिसको लेकर वहां पर विवाद हो गया। स्कूल की शिक्षक ने मौके पर पुलिस को बुलाया। सिटी थाना से सूचना पर एसआई सुनीता उसके बेटे को थाना ले गई। जहां  दोनों पक्षों का आपसी राजीनामा हो गया। लेकिन एसआई महिला ने उसके बेटे को रात आठ बजे तक थाने में बिठा कर रखा।  बेटे को छोड़ने के नाम पर महिला एसआई ने उनसे 30 हजार रुपये की रिश्वत मांगी। लेकिन उसके पास इतनी रकम नहीं थी। उसने सात हजार रुपये महिला एसआई को दे दिए। सात हजार रुपये लेने के बाद महिला एसआई ने उनसे शुक्रवार को शेष 23 हजार रुपये देने की शर्त पर उसके बेटे को छोड़ दिया। महिला एसआई उसके नाबालिग बेटे को झूठे केस में फंसा देने की बात कह रही थी। सिटी थाना में मामला दर्ज करने पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

गुरुग्राम जिला में पुलिस कर्मचारियों,अधिकारियों के भ्रष्ट्चार का ये कोई पहला मामला नहीं है...हालांत तो ये है कि प्रदेश में इमांदार सरकार का दावा करने वाली खट्टर सरकार की पुलिस बिना रिश्वत का कोई काम ही नहीं करती ...कई बार आरोप लगते है लेकिन पुलिस अपना पल्ला झाड़ लेती है..ऐसे में देखना होगा कि इस बार महिला सबइंस्पकेटर के खिलाफ क्या वाकई कारर्वाई होती है या फिर पुलिस अपने अधिकारी की गारगुजारी पर लीपापोती कर देती है.....

Tags:

बाकी समाचार