Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

बुधवार, 20 मार्च 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हरियाणा लोक सभा सर्वे : जानिए भाजपा, कांग्रेस और इनेलो को मिलेंगी कितनी सीटें

10 लोक सभा सीटों पर किस पार्टी का पलड़ा रहेगा भारी और किसका रहेगा खाली!

अंबाला, कुुरुक्षेत्र, करनाल, सोनीपत, रोहतक, हिसार, सिरसा, भिवानी, गुरुग्राम, फरीदाबाद,  Ambala, Kurukshetra, Karnal, Sonipat, Rohtak, Hisar, Sirsa, Bhiwani, Gururgram, Faridabad,, naya haryana, नया हरियाणा

12 मई 2018

नया हरियाणा

जनता टीवी ने हाल ही में हरियाणा की 10 लोकसभा और 90 विधान सभा सीटों पर सर्वे करवाया है. जिसके नतीजे काफी चौंकाने वाले निकले हैं. हालांकि इन नतीजों से काफी जनता सहमत नहीं है. इसके दो कारण हो सकते हैं, पहला यह कि नाराज होने वाला नतीजे अपनी पार्टी के हक में चाहता हो. दूसरा कारण हो सकता है कि सर्वे जमीनी सच्चाई को पकड़ने में कामयाब नहीं हुए हों.
सर्वे के अनुसार 10 लोकसभा सीटों में भाजपा के खाते में 4 सीटें आ सकती हैं और 4 सीटें इनेलो के खाते में आ सकती हैं. जबकि कांग्रेस को केवल दो सीटें आ सकती हैं.
2014 के चुनाव में 10 लोकसभा सीटों में 7 भाजपा के हिस्से आई थी और 2 इनेलो व 1 कांग्रेस के हिस्से आई थी. इस तरह देखें तो भाजपा को सीधे-सीधे 3 सीटों का नुकसान और इनेलो को 2 सीटों का फायदा व कांग्रेस को 1 सीट का फायदा दिख रहा है.
इनेलो के हिस्से हिसार और सिरसा की सीट आई थी. जबकि कांग्रेस के हिस्से रोहतक सीट आई थी. भाजपा ने अंबाला, कुरुक्षेत्र, करनाल, गुडगांव, भिवानी, फरीदाबाद और सोनीपत.
अब देखना यह है कि भाजपा की आखिर कौन-सी सीटें खिसक रही हैं और कौन-सी बच रही हैं. एक अनुमान यह लगाया जा रहा है कि कांग्रेस के हिस्से रोहतक और हिसार की सीट आ सकती हैं या इन दोनों में से कोई एक कम होकर कुरुक्षेत्र की सीट आ सकती है. दूसरी तरफ इनेलो के खाते में भिवानी, सिरसा, अंबाला और कुरुक्षेत्र की सीटें आ सकती हैं. हिसार सीट को लेकर कांग्रेस और इनेलो दोनों के बीच कड़ी टक्कर है.भाजपा के हिस्से आने वाली सीटों में करनाल, फरीदाबाद, गुरुग्राम और सोनीपत लग रहे हैं. 

यह पूरा आकलन सर्वे द्वारा अनुमानित सीटों का विश्लेषण भर है. चुनाव के समय माहौल और किसे टिकट मिलेगी, हार-जीत के सबसे बड़े कारक यही होते हैं. उससे पहले के सारे कयास या अंदाजे भर होते हैं. 
 


बाकी समाचार