Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

मंगलवार, 20 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

बहादुरगढ़ मेट्रो के तीन स्टेशनों में बहादुरगढ़ न होने पर इनेलो ने दर्ज करवाया विरोध

बहादुरगढ़ के परनाला गांव में डीसी सोनल गोयल ने जनता दरबार लगाकर लोगों की समस्याएं सुनी और मौके पर मौजूद अधिकारियों को समस्या के समाधान के निर्देश भी दिए।

, naya haryana, नया हरियाणा

11 मई 2018

नया हरियाणा

बहादुरगढ़ के परनाला गांव में डीसी सोनल गोयल ने जनता दरबार लगाकर लोगों की समस्याएं सुनी और मौके पर मौजूद अधिकारियों को समस्या के समाधान के निर्देश भी दिए। डीसी सोनल गोयल ने ग्रामीणों से सीधा संवाद किया और लोगों की समस्याओं का जल्द से जल्द निपटारा करने का आश्वासन भी दिया। जनता दरबार के बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने परनाला गांव के स्कूल में रात्रि ठहराव भी किया। इस दौरान बहादुरगढ़ शहर और आस-पास के गांव के सैकड़ों लोगों ने अपनी समस्याएं जनता दरबार में रखी। बहादुरगढ़ शहर के सामाजिक कार्यकर्ताओं और इनेलो कार्यकर्ताओं ने मिलकर डीएमआरसी द्वारा बनाए गए 3 मेट्रो स्टेशनों के नाम बदलने की मांग भी डीसी से जनता दरबार में की और नाम नही बदलने पर बहादुरगढ़ सम्मान बचाओ आंदोलन करने की भी चेतावनी दी।

युवा इनेलो के जिलाध्यक्ष संजय दलाल ने जल्द से जल्द मेट्रो स्टेशन का नाम बदलने की मांग की। उन्होंने कहा कि अगर इन मेट्रो स्टेशनों के नाम नहीं बदले गए तो मेट्रो लाइन के उद्घाटन के कार्यक्रम के दौरान वे काले झंडे दिखाएंगे और सांसद दुष्यंत चौटाला की अगुवाई में बहादुरगढ़ सम्मान बचाओ आंदोलन की शुरुआत करेंगे। इतना ही नहीं वे स्वयं मेट्रो स्टेशनों के नाम की बदली हुई पट्टियां लगाएंगे। हम आपको बता दें कि बहादुरगढ़ शहर के लोगों को शहर में बनाए गए 3 मेट्रो स्टेशनों के नामों को लेकर आपत्ति है। क्योंकि किसी भी मेट्रो स्टेशन के नाम के साथ बहादुरगढ़ शब्द नहीं जोड़ा गया है। वही बहादुरगढ़ के ताऊ देवीलाल पार्क मैं बनाए गए मेट्रो स्टेशन का नाम सिटी पार्क लिखने पर इनेलो कार्यकर्ताओं को आपत्ति है। 

जिला उपायुक्त सोनल गोयल के जनता दरबार में विभिन्न विभागों ने अपनी स्टॉल लगाकर लोगों को जानकारियां मुहैया करवाई और उन्हें जागरुक करने का भी काम किया। इस दौरान ग्रामीण महिलाओं की केले और गोलगप्पे खाने की भी प्रतियोगिताएं आयोजित करवाई गई। केला खाओ प्रतियोगिता मैं परनाला गांव की सावित्री ने सबसे ज्यादा केले खाए और गोलगप्पा खाओ प्रतियोगिता मैं नीलम नाम की महिला ने सबको पछाड़ दिया। प्रशासन की यह पहल बेहद सराहनीय है क्योंकि अक्सर देखने में आया है कि लोग अपनी समस्याओं को लेकर अधिकारियों के चक्कर काटते रहते हैं, लेकिन समस्याओं का समाधान नहीं हो पाता। ऐसे में जिला उपायुक्त के साथ-साथ सभी विभागों के अधिकारी एक ही जगह मिल जाने पर लोगों की समस्याओं का समाधान तुरंत रूप से हो पता है। 

Tags:

बाकी समाचार