Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

बुधवार, 13 नवंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

मामूली कहासुनी पर मारी गोली, रोहतक बन रहा है अपराध का गढ़

मनुष्य की संवेदनाएं लगातार अपराध की आदी होती जा रही हैं.

, naya haryana, नया हरियाणा

3 मई 2018



पत्रकार धर्मेंद्र कंवारी

रोहतक पर दिल्ली का पडोसी होने का असर है या पता नहीं कुछ कारण हैं कि यहां हिंसक गतिविधियां अन्य जिलों के मुकाबले कुछ ज्यादा दिखाई दे रही हैं। मैं रोजना प्रदेशभर की खबरों के बीच से होकर गुजरता हूं तरह तरह के क्राइम भी सामने आते हैं लेकिन गोलीबारी कर हत्या रोहतक में आम बात हो चली है। अगर दाे तीन साल के क्राइम डाटा खंगाले जाएं तो शायद ये साबित भी हो जाए कि अब ये इस मामले में रोहतक सोनीपत को भी पीछे छोड चुका है।

कल ही एक 23-24 साल के युवा को मामूली कहासुनी में सीने में गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया गया। आज उसका बर्थडे था। मां पीजीआई में रोरोकर कह रही थी कोई मनमुटाव झगडा था तो पीट लेते पर मारा क्यो? अब जबाव कौन दे इस बात का। जिस युवा का मर्डर हुआ है फेसबुक पर उसे 4500 से ज्यादा मित्र हैं और अधिकतर को आज ये पता नहीं कि जिसे वे सुबह से जन्मदिन मुबारक बोल रहे हैं उसकी हत्या हो चुकी। ये आभाषी दुनिया की एक सच्चाई भी है।

रोहतक में लंबे समय तक क्राइम की खबरें कवर कर रहे मेरे साथी विजय अहलावत ने बताया कि रोहतक शहर अब खबरों का आदि हो चुका है। क्राइम अब यहां लोगों को हिलाता नहीं है, वो इग्नोर करना सीख गए है। लेकिन मेरा सवाल ये है कि क्या ये इग्नोर करने की आदत अच्छी है। क्या पेरेंट्स की ये जिम्मेदारी नहीं बनती है कि वे अपने बच्चों की गतिविधियों को लगातार ट्रैक करें या उन्हें इस तरह तैयार करें कि बच्चे उनसे अपनी बातें शेयर करें। फेसबुक पर ये लडके फोटो तो गाडियों बुलेट के ऐसे डालते हैं कि जैसे किसी बडी रिसायत के इकलौते वारिस हैं यें, इनके पेरेंटस को देखना चाहिए ये सब। अब समय आ चुका है कि एक बडे स्तर पर सामाजिक सर्वे होना चाहिए कि रोहतक, सोनीपत व झज्जर में हिंसक प्रवृति के पीछे असल कारण क्या हैं?

एनसीआर का हिस्सा होना, आर्थिक संपन्नता या कोई और कारण क्या हो सकता है इन हिंसा के पीछे। जिसकी पहचान कर कुछ बदलाव किया जा सकता है।आप भी बताएं इस संबंध में क्या कुछ हो सकता है।

Tags:

बाकी समाचार