Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

मंगलवार, 23 जुलाई 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

'मिस इंडिया' ने 'कॉलगर्ल्स' बनकर हिलाई ब्रिटेन की सरकार

खूबसूरती की दुनिया से लेकर हथियारों की दुनिया में चलता था सिक्का, अब पहचान छुपाने को मोहताज.

, naya haryana, नया हरियाणा

2 मई 2018



नया हरियाणा

पामेला सिंह एक भारतीय सेना के अधिकारी की बेटी हैं, जिनका जन्म दिल्ली में हुआ. ये जयपुर के महारानी गायत्री देवी गर्ल्स स्कूल में पढ़ाई की और उसके बाद दिल्ली के प्रसिद्ध कॉलेज लेडी श्रीराम कॉलेज से पढ़ाई की. 1982 में इन्होंने मिस इंडिया का ताज जीता और उसी साल मिस यूनिवर्स के लिए भारत की तरफ से भाग लिया. इसके बाद ये यूरोप चली गई, जहां हेनरी बोडर्स से शादी कर ली. जहां से इनका नाम पामेला सिंह से पामेला बोर्डस हो गया.

पामेला सिंह ने अमेरिका में न्यूयोर्क के पार्सन्स स्कूल ऑफ डिजाइन, फ्रांस के पेरिस स्थित अमेरिकन कॉलेज व अमेरिका के न्यूयोर्क में इंटरनेशनल सेंटर ऑफ फोटोग्राफी में अध्ययन किया. उन्हें ब्लैक एंड व्हाइट फोटोग्राफी करने का बड़ा चाव था. उन्होंने विश्व के विभिन्न हिस्सों में काम किया और विभिन्न पत्रों और पत्रिकाओं के लिए काम किया.

<?= ; ?>, naya haryana, नया हरियाणा

भारत में पैदा हुई पामेला मूलतः फोटोग्राफर बनी और 1988-89 में उस समय दुनिया भर में सुर्खियों में रही, क्योंकि इनका नाम अपने समय प्रसिद्ध व्यक्तियों के साथ जुड़ने लगे. यह बात सब जगह फैल गई कि पामेला इन फेमस लोगों की मिस्ट्रेस और एस्कोर्ट के रूप में सुर्खियों में रही. उसके पास ब्रिटिश सांसद का पास था और उसकी शादी हथियारों के एक डीलर से हुई थी लेकिन ये शादी ज्‍यादा समय तक टिक ना सकी। सबसे ज्यादा सनसनी तो उस समय फैली जब यह खबर फैली कि हथियारों के डॉन डीलर अदनान खाशोगी के साथ संबंध का खुलासा हुआ. जब 1989 में इस पूरे स्‍कैंडल का भंडाफोड़ हुआ तो वो अज्ञातवास में चली गई और ब्रिटेन की सरकार गिराने की बात कहने लगी।

एक मैगजीन ने खुलासा किया था कि पामेला बोर्डेस नाम की ये सुंदरी दोहरी जिंदगी जीती है। वो एक सत्तारूढ टोरी पार्टी के एक सांसद की रिसर्च असिस्‍टेंट के साथ-साथ कॉलगर्ल भी है जिसके बेडरूम के कारनामे किसी घोटाले से कम नहीं हैं। इस मामले में ब्रिटेन सरकार के कई बड़े नाम भी सामने आए थे जिन्‍हें पामेला का ग्राहक बताया गया था। इसमें सिर्फ टोरी सांसद ही नहीं बल्कि दो ताकतवर हैसियत वाले एडिटर, इंटरनेशन लेवल का हथियार डीलर, एक कैबिनेट मंत्री और एक प्रमुख लीबियाई खुफिया अफसर शामिल था।

क मैगजीन ने तो यहां तक दावा कर दिया था कि पामेला बोर्डेस सामान्‍य दिन पर 500 पाउंड और वीकएंड पर 2000 पाउंड में उनके एक रिपोर्टर के साथ सोने के लिए तैयार हो गई थी। जब ब्रिटिश मीडिया ने पामेला की जिंदगी को अश्‍लील तरीके से पेश करना शुरु किया तो पामेला अपना 7 लाख 50 हज़ार पाउंड का शानदार पेंटहाउस छोड़कर किसी गुमनाम जगह पर रहने चली गईं।

इसके अलावा पत्रकारिता जगत के संपादकों के साथ संबंधों को लेकर भी सुर्खियां बनती रहीं, जिनमें संडे टाइम्स के संपादक एंड्रयू नील थे, द ओबसर्वर के तत्कालीन संपादक डोनाल्ड ट्रेल्फार्ड और कनिष्ठ मंत्री कोलिन मोनिहान की भी साथी रहीं. द इवनिंग स्टैंडर्ड और डेली मेल ने आरोप लगाते हुए कहा किपामेला लीबिया के एक सुरक्षा अधिकारी अहमद गदफ अल दाइम से जुड़ी हुई थीं, इसमें 1960 के दशक में प्रोफुमो मामले से मिलते जुलते मुद्दे उठाए गये या अधिक व्यापक रूप से कहा जाए तो ये मुद्दे प्रथम विश्व युद्ध की जासूस माता हारी से मेल खाते थे.

उन्‍होंने अपने एक मित्र पत्रकार से यह लिखवाया कि वो ऐसे राज़ जानती हैं कि जिन्‍हें अगर वो उजागर कर दें तो ब्रिटेन की सरकार गिर सकती है। लोगों को लगा कि अचानक मिली शोहरत से वो इसका ज्‍यादा से ज्‍यादा फायदा उठानी चाहती हैं।

वह कोई आम लड़की नहीं थी बल्कि हर बड़े आयोजन में वो रईसों के इर्द-गिर्द मौजूद रहती थी। 3 हज़ार पाउंड की सैलरी लेने वाली लड़की का रईसों की पार्टी में होना कुछ हजम नहीं होता था। इस बात के भी सबूत मिले थे कि वो ब्रिटेन के राजनेताओं के साथ हमबिस्‍तर होने के पैसे लिया करती थीं लेकिन उनके हमबिस्‍तर होने के कोई सबूत नहीं मिले।

<?= ; ?>, naya haryana, नया हरियाणा

डेली मेल की एक स्टोरी में उन्हें गोवा में गुमनाम जिंदगी जीते हुए बताया गया है.

Tags:

बाकी समाचार