Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शुक्रवार, 16 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

मोरनी किसान कम्पनी की मेहनत रंग लाई

किसान कम्पनियां दरअसल किसानों और उपभोक्ताओं को जोड़ने की वाली अहम कड़ी बनती जा रही है।

morni kisan company, naya haryana, नया हरियाणा

30 अप्रैल 2018

कमल जीत

आ गयी दुर्गा मैया , दर्शन कर लो सारे  , मोरनी किसान कंपनी में 200 किसान सदस्य हैं।सभी किसान बहुत साधारण और बड़ी मुश्किल से गुजारा करने की स्थिति  में हैं। खेतों में टमाटर और अदरक की खेती होती है। कैश किसी के पास नहीं होता है। दिल्ली चंडीगढ़ के आढ़तियों ने इन्ही में से अपने एजेंट छोडे हुए हैं, जो इनकी फसलों को अपने हिसाब से खरीदते बेचते रहते हैं। मई में सौंठ देकर एजेंट अगर दीपावली पर पैसे दे दे तो बड़ी खुशी की बात मानी जाती है। किसानों ने पाई पाई जोड़ के 2 लाख रुपये पेड अप कैपिटल जोड़ी हुई थी। दिसंबर में बात चली के गाडी ली जाये और कुछ मार्किट में पंगे लिए जाएं। गाडी 6 लाख की थी, 4 लाख रूपये और चाहिए थे। मैं कैपिटल को  छेड़ने के मूड में नहीं था। प्रैक्टिकॉली 6 लाख रुपये चाहिए थे। दिसंबर में किसान शुरू हुए बैंक दर बैंक घूमे। नहीं बात बनी, फिर एक दिन मैंने बैंक ऑफ़ बड़ौदा मुंबई में कार्यरत  मेरे मित्र श्री पुनीत चुघ जी से मदद मांगी उन्होंने बड़े ध्यान से मेरी बात सुनी और पंचकूला में एक लिंक दिया। मैं स्वयं गया और मैनेजर साहब ने मेरे सारे कागज देख कर पूछा भाई रिपेमेंट कैसे करोगे। मेरे पास कंपनी के प्लान तो थे पर कागजों में कोई ठोस कार्ययोजना नहीं थी। मुझे मैनेजर साहब की बात ठीक लगी और मैं स्वयं ही मीटिंग से उठ के आ गया। इसीबीच पता चला के हरियाणा राज्य के उद्यान विभाग में एक योजना है किसान कंपनी के लिए सब्सिडी है गाडी खरीदने पर। कंपनी के सदस्य किसान उद्यान निदेशालय में जा कर स्कीम की जानकारी ले आये 75 प्रतिशत के आस पास सब्सिडी उपलध थी। अब मुझे लगा के अब तो गंडा पाड ही लेंगे। लेकिन सब्सिडी जब मिलनी थी जब हम गाडी खरीद लें। 6 लाख रुपये फिर से मुझे पहाड़ स्वरुप दिखने लग गए थे।  मैंने 2 लाख से गिनती शुरू की जो खाते में रखे थे और अपने सर्किल में हरेक साथी को स्टोरी सुनाई और मदद मांगी । खैर पहली मदद आयी डॉ सुरेंद्र सिंह ग्रेवाल, प्रसिध्द वैज्ञानिक भूतपूर्व इंचार्ज सुखोमाजरी प्रोजेक्ट। ग्रेवाल साहब ने 1 लाख रूपये उधार देने का चेक काटा। उसके बाद पूरी टीम में जोश आ गया। पांचों डायरेक्टर्स ने 25 -25 हज़ार के चेक दे दिए। कंपनी ने हर एक किसान को मौका दिया इस यज्ञ में आहुति डालने का। इसीबीच कमल मोटर्स वाले भाई नवदीप खेड़ा से मुलाकात हुई उन्होंने भी अपने संपर्क के माध्यम से ऐसा व्यक्ति ढूंढ कर दिया जो हमें पचास हज़ार उधार पर गाडी देने को तैयार हो गया। खैर जिस दिन किसान गाडी लेने गए उनके खाते में छः लाख तेतीस हज़ार का बैलेंस था। गाडी आ गयी। मोरनी किसान कंपनी में गजब का उत्साह था पर मेरी धुक धुक बनी हुई थी क्योंकि मुझे सब्सिडी वाले केस के मंजूर होने की चिंता थी। उद्यान विभाग के महानिदेशक श्रीमान अर्जुन सिंह सैनी जो किसानों के प्रति बहुत संवेदनाएं रखते है की सहज कृपा  से सब्सिडी का केस अपनी मेरिट पर साफ पार गया। चार लाख से अधिक की सब्सिडी मोरनी किसान कंपनी को मिल गयी। कंपनी ने सभी मदद कर्ताओं का पैसा चुकाना शुरू कर दिया है। कंपनी से जुड़े किसान सच में उत्साहित है के अब कुछ कर मरेंगे। 4 क्विंटल रॉ हनी तैयार् पड़ा है उसे केवल फ़िल्टर करके रिटेल करने की तैयारी है।

उद्यान विभाग हरियाणा की पूरी टीम का हार्दिक धन्यवाद।


बाकी समाचार