Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

बुधवार, 16 अक्टूबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

नांगल चौधरी विधानसभा का राजनीतिक इतिहास

2008 में हुए परिसीमन के बाद यह विधानसभा क्षेत्र अस्तित्व में आया.

Political history of Nangal Chaudhary Assembly, Abhay Singh Yadav, Rao Birendra Singh, Rao Inderjit, Jatusana, Yadavindra Singh, Rao Narbir Singh,, naya haryana, नया हरियाणा

8 अगस्त 2019



नया हरियाणा

महेंद्रगढ़ जिले के अंतर्गत आने वाली विधानसभा- अटेली, महेंद्रगढ़, नारनौल व नांगल चौधरी हैं. महेंद्रगढ़ जिला भिवानी लोकसभा के अंतर्गत आता है. तीन ओर से राजस्थान से घिरा यह विधानसभा क्षेत्र नारनौल और अटेली विधानसभा क्षेत्रों का हिस्सा था. 2008 के परिसिमन के बाद नया हलका बन गया. इसके अलावा महेंद्रगढ़ जिले में जाटुसाना और साल्हावास सीटें भी होती थी, जिन्हें खत्म कर जिले में नए हलके कोसली और नांगल चौधरी बनाए गए थे.

पूर्व मुख्यमंत्री राव बीरेंद्र सिंह 1968 में जाटूसाना विधानसभा से विधायक बने थे. राव बीरेंद्र सिंह हरियाणा के दूसरे मुख्यमंत्री थे. जाटूसाना और नांगल चौधरी सीट पर हमेशा अहीर या यादव ही विधायक बने हैं. राव बीरेंद्र सिंह के बाद उनके बेटे वर्तमान गुड़गांव के सांसद जाटूसाना से 1977, 1982, 1991 और 2000 में यहां से विधायक बने थे. उनके दूसरे बेटे यादवेंद्र सिंह भी 2005 में यहां से विधायक बने थे. वर्तमान में मंत्री और बादशाहपुर से विधायक राव नरबीर सिंह भी 1987 में यहां से विधायक बने थे.

2008 में हुए परिसीमन के बाद यह विधानसभा क्षेत्र अस्तित्व में आया. 2009 में इनेलो के राव बहादुर सिंह ने कांग्रेस के राधेश्याम को पराजित किया. हजका के मूलाराम तीसरे स्थान पर रहे. 2014 में भाजपा के राव अभय सिंह यादव ने इनेलो की मंजू को पराजित किया. कांग्रेस उम्मीदवार राधेश्याम तीसरे स्थान पर रहे.

2014 का विधानसभा परिणाम

अभय सिंह यादव बीजेपी 33929
मंजू इनेलो 32948
राधे श्याम आजाद 14942
बिनोद कुमार आजाद 9364
चंद्रप्रकाश कांग्रेस 6371

पूर्व आईएएस अधिकारी अभय सिंह यादव बीजेपी की टिकट पर विजयी हुए. साल्हावास, कोसली, जाटुसाना या नांगल चौधरी सीट के इतिहास में यह भाजपा की पहली जीत थी.


बाकी समाचार