Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

शुक्रवार, 18 अक्टूबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

महेंद्रगढ़ विधानसभा का राजनीतिक इतिहास

महेंद्रगढ़ विधानसभा क्षेत्र 1951- 52 से अस्तित्व में आई है.

Political history of Mahendragarh Legislative Assembly, Rambilas Sharma, Rao Dan Singh, naya haryana, नया हरियाणा

8 अगस्त 2019



नया हरियाणा

महेंद्रगढ़ विधानसभा क्षेत्र 1951- 52 से अस्तित्व में आई है. पहले दो चुनाव पेप्सू के अंतर्गत संपन्न हुए. 1952 में जनसंघ के राव कहन सिंह कांग्रेस के हर लाल को पराजित कर विधायक बने. 1954 में कांग्रेस के ठाकुर मंगल सिंह ने निर्दलीय कुंदन लाल को पराजित किया. 1957 में राव निहाल सिंह ने यहां आजाद उम्मीदवार हर लाल को मात देकर अपनी जीत दर्ज की. 1962 में भी राव निहाल सिंह ने जनसंघ के हरी सिंह को हराया. 1967 और 1968 के दोनों चुनाव हरी सिंह ने जीते. पहले चुनाव में वे निर्दलीय व दूसरे चुनाव में विशाल हरियाणा पार्टी के प्रत्याशी के तौर पर लड़े थे. 1972 में कांग्रेस के राव निहाल सिंह ने हरी सिंह (विशाल हरियाणा पार्टी) को पराजित कर दिया.
आपातकाल की समाप्ति के बाद 1977 में हुए चुनाव में महेंद्रगढ़ में एक नए राजनीतिक सितारे का जन्म हुआ. यह सितारा था भारतीय जनता पार्टी का पंडित रामबिलास शर्मा, जो पहला चुनाव तो विशाल हरियाणा पार्टी के प्रत्याशी राव दलीप सिंह से हार गया था लेकिन उसके बाद उन्होंने चार बार लगातार चुनाव जीता और 18 साल विधायक रहे. रामबिलास ने ने 1982 में कांग्रेस के राव दलीप सिंह, 1987 में कांग्रेस के हरि सिंह, 1991 में हरियाणा विकास पार्टी के दलीप सिंह और 1996 में निर्दलीय राव दान सिंह को पराजित किया. रामबिलास की जीत को 2000 में ब्रेक लगा जब कांग्रेस के राव दान सिंह ने उन्हें शिकस्त दी. दान सिंह ने ही रामबिलास को अगले 2 चुनाव में हराया. चार लगातार जीत व तीन लगातार पराजय के बाद 2014 में रामबिलास शर्मा के भाग्य ने पलटा खाया और वे दान सिंह को पटखनी देकर विधानसभा पहुंचे.
 

2014 विधानसभा का इतिहास

रामबिलास शर्मा बीजेपी 83724
राव दान सिंह कांग्रेस 49233
निर्मला तंवर इनेलो 3396


बाकी समाचार