Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 22 अक्टूबर 2020

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

फिरोजपुर झिरका विधानसभा का राजनीतिक इतिहास

फिरोजपुर झिरका विधानसभा क्षेत्र भी आजादी के बाद हुए पहले चुनाव से बिना किसी बदलाव के अस्तित्व में है.

Political history of Ferozepur Jhirka Assembly, Nasim Ahmed, Maman Khan, Aman Ahmed, naya haryana, नया हरियाणा

6 अगस्त 2019



नया हरियाणा

फिरोजपुर झिरका विधानसभा क्षेत्र भी आजादी के बाद हुए पहले चुनाव से बिना किसी बदलाव के अस्तित्व में है. 1952 और 1957 में दिग्गज मेवाती नेता कांग्रेस के चौधरी मोहम्मद यासीन खां यहां से विधायक चुने गए. यासीन खां आजादी से पहले हुए 1937 के चुनाव में भी गुडगांव नॉर्थवेस्ट से विधायक चुने गए थे. 1962 में चौधरी यासीन खां के बेटे चौधरी तैय्यब हुसैन विधायक बने. लेकिन 1967 में स्वतंत्र पार्टी के दीन मोहम्मद ने तैय्यब हुसैन को करारी हार का सामना कराया. 1968 के मध्यावधि चुनाव और 1972 के नियमित चुनाव में अब्दुल रज्जाक यहां से विधायक रहे. पहली बार वे विशाल हरियाणा पार्टी के प्रत्याशी थे और कांग्रेस के इमरान खां को पराजित कर विधायक बने थे. दूसरी दफा वे निर्दलीय मैदान में उतरे और कांग्रेस के दीन मोहम्मद को हराने में कामयाब रहे. 1977 और 1982 के चुनाव में शकरुल्लाह खां विजयी रहे. पहली बार वे निर्दलीय लड़े और निर्दलीय याकूब खां को पराजित कर विधानसभा पहुंचे. दूसरी बार वे कांग्रेस के टिकट पर लड़े और निर्दलीय बनवारी लाल को पराजित किया. 1987 में लोकदल के अजमत खां ने शकरुल्लाह को मात दी. 1991 में शकरुल्लाह ने जनता दल के इशाक खां को पराजित कर यह सीट कांग्रेस की झोली में डाली. 1996 में समता पार्टी के आजाद मोहम्मद ने हविपा के अब्दुल रज्जाक को हराया. आजाद मोहम्मद के पिता अजमत खां 1987 में विधायक चुने गए थे. वर्ष 2000 में इनेलो प्रत्याशी मोहम्मद इलियास ने यहां से कांग्रेस के शकरुल्लाह को पराजित किया. 2005 में आजाद मोहम्मद कांग्रेस के प्रत्याशी थे और इस बार उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ रहे शकरुल्लाह खां को पराजित किया. इनेलो के मोहम्मद इलियास तीसरे स्थान पर रहे. निर्दलीय उम्मीदवार दया भड़ाना ने 8000 वोट हासिल कर चौथे स्थान पर अपनी पकड़ बनाए रखी. 2009 में इनेलो के नसीम अहमद ने कांग्रेस प्रत्याशी इंजीनियर मामन खां को पराजित कर जीत हासिल की. 2014 में भी नसीम अहमद यह सीट इनेलो की झोली में डालने में कामयाब रहे. इस बार मामन खां लड़े थे और नसीम अहमद के हाथों हार गए थे. निर्दलीय अमन अहमद तीसरे, भाजपा के आलम चौथे और कांग्रेस के आजाद मोहम्मद पांचवें स्थान पर रहे.


बाकी समाचार