Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

बुधवार, 20 नवंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

आरती यादव हो सकती हैं प्रत्याशी, गुड़गांव लोकसभा की सोहना विधानसभा का इतिहास

2019 में गुड़गांव लोकसभा से बीजेपी के राव इंद्रजीत ने जीत दर्ज की है.

History of Sohna Legislative Assembly of Gurgaon Lok Sabha, Tejpal Tanwar, Kishore Yadav, Aarti Yadav, naya haryana, नया हरियाणा

6 अगस्त 2019



नया हरियाणा

हरियाणा की गुड़गांव लोकसभा सीट (Gurgaon Lok Sabha Election Results 2019) पर 2014 में हुए चुनाव में BJP के इंद्रजीत सिंह राव ने जीत हासिल की थी. उन्हें 6,44,780 वोट मिले और 3,70,058 वोट पाकर दूसरे पायदान पर हरियाणा लोकदल (राष्ट्रीय) के ज़ाकिर हुसैन रहे थे.

गुड़गांव लोकसभा सीट के अंतर्गत 9 विधानसभा सीटें आती हैं, जिनमें बावल, रेवाड़ी, पटौदी, बादशाहपुर, गुड़गांव, सोहना, नूह, फ़िरोजपुर झिरका और पुनहाना शामिल हैं. 2019 के विधानसभा चुनावों में राव इंद्रजीत की बेटी आरती यादव से चुनाव लड़ सकती हैं.

सोहना 1952 के चुनाव में विधानसभा क्षेत्र था. लेकिन अगले दो चुनावों में सोहना नामक विधानसभा नहीं थी. 1952 में यहां से स्वतंत्रता सेनानी बाबू दयाल शर्मा विधायक चुने गए थे. जमींदार पार्टी के धर्म सिंह को चुनाव में पराजित कर बाबू दयाल 1967 में भी कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में सोहना से चुनाव लड़े थे. लेकिन इस बार इन्होंने निर्दलीय राव महाबीर सिंह को पराजित कर दिया. 1968 में चुनावी जंग कांग्रेस के कन्हैयालाल पोसवाल और विशाल हरियाणा पार्टी के तैयब हुसैन के बीच हुई. पोसवाल ने हुसैन को करारी शिकस्त दी. 1972 में पोसवाल ने विशाल हरियाणा पार्टी के ही प्रताप सिंह ठाकरान को पराजित किया. 1977 में जनता पार्टी के कुंवर विजय पाल सिंह ने निर्दलीय राम महावीर सिंह को हराया. 1982 में राव महावीर सिंह के भाई विजयवीर सिंह निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में लड़े और उन्होंने कांग्रेस के ग्यासी राम को परास्त किया. 1987 में पूरे प्रदेश में देवीलाल की आंधी चली लेकिन सोहना में निर्दलीय राव धर्मपाल ने कांग्रेस के काशीलाल को पराजित किया. 1991 में राव धर्मपाल कांग्रेस से चुनाव लड़े और उन्होंने जनता पार्टी के अरिदमन सिंह को हराया. 1996 में हरियाणा विकास पार्टी के राव नरबीर सिंह ने कांग्रेस के राज धर्मपाल को मात दी. 2000 में कांग्रेस की ओर से लड़े राव धर्मपाल ने निर्दलीय सुखबीर सिंह जौनपुरिया को पराजित किया. लेकिन 2005 के चुनाव में सुखबीर जौनपुरिया ने फिर से निर्दलीय चुनाव लड़ा और कांग्रेस के राज धर्मपाल को करारी मात दी. इनेलो दूसरे और भाजपा के करतार सिंह भडाना तीसरे स्थान पर रहे. वर्ष 2009 में कांग्रेस ने अपने प्रत्याशी धर्मवीर सिंह को पैराशूट से उतारा और उनका बसपा के जाकिर हुसैन से मुकाबला करवाया. इस कड़े मुकाबले में धर्मवीर ने 20443 वोट लेकर जाकिर हुसैन को 505 वोटों से हराया. सुखबीर जौनपुरिया तीसरे स्थान पर रहे. 2014 में भाजपा प्रत्याशी तेजपाल तंवर ने सारे रिकॉर्ड तोड़ते हुए 53797 वोट हासिल करते हुए इनेलो प्रत्याशी किशोर यादव पर 24547 वोटों के अंतर से अपनी जीत दर्ज की.
सोहना से निर्दलीय विधायक चुने जाने की खासी परंपरा रही है. पिछले दो चुनावों से रोहताश खटाना तकरीबन 20 - 20 हजार वोट लेकर भविष्य का संकेत दे रहे हैं.


बाकी समाचार