Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

शुक्रवार, 30 अक्टूबर 2020

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

गुड़गांव विधानसभा का राजनीतिक इतिहास

2014 और 2019 में गुड़गांव लोकसभा सीट पर बीजेपी ने जीत दर्ज की है.

Political history of Gurgaon assembly, Gurgaon Lok Sabha, Umesh Agarwal, Rao Inderjit, naya haryana, नया हरियाणा

6 अगस्त 2019



नया हरियाणा

हरियाणा की गुड़गांव लोकसभा सीट (Gurgaon Lok Sabha Election Results 2019) पर 2014 में हुए चुनाव में BJP के इंद्रजीत सिंह राव ने जीत हासिल की थी. उन्हें 6,44,780 वोट मिले और 3,70,058 वोट पाकर दूसरे पायदान पर हरियाणा लोकदल (राष्ट्रीय) के ज़ाकिर हुसैन रहे थे. 2019 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी के रावइंद्रजीत ने बड़ी जीत दर्ज की है.

गुड़गांव लोकसभा सीट के अंतर्गत 9 विधानसभा सीटें आती हैं, जिनमें बावल, रेवाड़ी, पटौदी, बादशाहपुर, गुड़गांव, सोहना, नूह, फ़िरोजपुर झिरका और पुनहाना शामिल हैं.

गुड़गांव

गुड़गांव विधानसभा 1952 से अस्तित्व में है. पहली बार यहां से कांग्रेस के राव गजराज सिंह विधायक चुने गए थे. उन्होंने निर्दलीय मोहर सिंह को पराजित किया. 1957 में भी कांग्रेस के राव गजराज सिंह ने यहां विजय हासिल की. इस बार उन्होंने जनसंघ के रामचंद को हराया था. 1962 में कांग्रेस के कन्हैयालाल पोसवाल ने निर्दलीय महाबीर सिंह को शिकस्त दी. 1967 में जनसंघ के प्रताप सिंह ठाकरान यहां से जीते. उन्होंने कांग्रेस के कन्हैयालाल पोसवाल को शिकस्त दी. 1968 के मध्यावधि चुनाव में कांग्रेस के महाबीर सिंह ने प्रताप सिंह ठाकरान को हराया. 1972 में महाबीर सिंह दोबारा जीते और उन्होंने जनसंघ के रामचंद गुलाटी को करारी शिकस्त दी. 1977 में प्रताप सिंह ठाकरान जनता पार्टी से निर्दलीय रामचंद को पराजित किया. 1982 में कांग्रेस के धर्मबीर गाबा ने भाजपा के सीता राम सिंगला को मात दी. 1987 में भाजपा के सीताराम सिंगला ने कांग्रेस के धर्मबीर गाबा को पराजित किया. 1991 में धर्मवीर गाबा ने निर्दलीय गोपीचंद गहलौत को भी पराजित किया. 1996 में गाबा ने भाजपा के सीता राम सिंगला को हराया दोबारा यह सीट कांग्रेस की झोली में डाल दी.2000 में निर्दलीय गोपीचंद गहलौत ने कांग्रेस के धर्मबीर गाबा को पराजित किया. 2005 में गहलौत इनेलो तरफ से मैदान में उतरे. लेकिन कांग्रेस के धर्मबीर गाबा से चुनाव हार गए. भाजपा की सुधा यादव तीसरे स्थान पर रही. 2009 में निर्दलीय सुखबीर कटारिया ने कांग्रेस के धर्मवीर गाबा  को चित कर दिया. भाजपा के उमेश अग्रवाल तीसरे स्थान और इनेलो प्रत्याशी सातवें स्थान पर चलें गए. 2014 में गुड़गांव में भाजपा के पक्ष में मानो आंधी ही चल गई हो. भाजपा के उमेश अग्रवाल ने इनेलो के गोपीचंद गहलौत को 85000 वोटों से हराकर अपना रिकॉर्ड बनाया. कांग्रेस के धर्मबीर गाबा तीसरे स्थान पर खिसक आये और चौथे स्थान पर निवर्तमान विधायक सुखबीर कटारिया पहुंच गए.


बाकी समाचार