Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

मंगलवार, 17 सितंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

केजरीवाल की 'चाल' में फिर में फंसे दुष्यंत चौटाला

केजरीवाल पूरी तरह से दबाव बनाकर ही इस गठबंधन को बनाए रखना चाहते हैं।

Kejriwal, Dushyant Chautala, Jail and Politics, Village and City politics, BJP, Manohar Lal, Ajay Chautala, naya haryana, नया हरियाणा

17 जून 2019



नया हरियाणा

दुष्यंत चौटाला ने सीएम मनोहर लाल पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश में साढ़े चार साल में गुंडे और अपराधियों को सीएम मनोहर लाल और गृह विभाग ने शय दी है। उन्होंने कहा प्रदेश में हर रोज़ अपराध की घटनाएं हो रही है और कानून व्यवस्था खराब है।  फरीदाबाद में पार्टी के अरविंद भारद्वाज के जेजेपी कार्यलय पर हमला हुआ है। इसमें पुलिस से कार्रवाई की उम्मीद है।

कुछ दिनों से इस बात की चर्चाएं थी कि दुष्यंत चौटाला की तरफ से ओपी चौटाला के पास माफीनामा भेजा गया था, जिसे उन्होंने फाड़ दिया। इस पर जवाब देते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा हमनें माफी की कोई चिट्ठी नहीं लिखी और ना माफ़ी मांगेंगे। हमें पार्टी से निकाला गया था और हम क्यों माफ़ी मांगे। हम नए रास्ते पर और आगे बढ़ेंगे, पीछे मुड़कर नहीं देखेंगे।

 उन्होंने कहा कि दैनिक भाष्कर अखबार का नाम लेकर कहा कि उन्होंने अजय चौटाला के पास जेल में नशीला पदार्थ मिलने की खबर गलत छापी थी। अखबार ने अब एक स्पष्टीकरण की खबर छापकर कहा है कि उनके पास जेल में कोई नशीला पदार्थ नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि अखबार ने अगर क्लेरिफिकेशन नहीं छापी होती तो उनको कानूनी नोटिस भेजते। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी से हमारी विचारधारा मिलती है और उनसे ही हमारा गठबंधन आज भी है।

जब जेल में अजय चौटाला के पास नशीले पदार्थ वाली खबर सुर्खियों में आई थी। तभी कई विश्लेषकों ने यह कयास लगाया था कि शायद आम आदमी पार्टी से जेजेपी दूरियां बढ़ा रही है और सुनने में आ रहा था कि बसपा के साथ जेजेपी का गठबंधन हो सकता है। क्या केजरीवाल की तरफ से इस तरह की खबरें प्लांट करवाई गई थी या अब मामला मैनेज कर दिया गया है। ये दोनों सवाल आज भी यूं ही बने हुए हैं।
 हरियाणा की राजनीति की समझ रखने वाले सभी जानते हैं कि हरियाणा में केजरीवाल लगभग जीरो पर खड़े हैं, परंतु दिल्ली जेल में बंद अजय चौटाला रूपी चाबी उनके पास है। जिसका इस्तेमाल वो समय-समय पर दुष्यंत चौटाला पर दबाव बनाने के लिए करते रहते हैं। इस बार फिर उन्होंने जेल वाली चाबी का इस्तेमाल किया। दुष्यंत चौटाला को केजरीवाल की गिरफ्त से बाहर निकलकर सकारात्मक तरीके से खुद को और अपनी पार्टी को विस्तार देना होगा, अन्यथा केजरीवाल उन्हें राजनीतिक तौर पर कभी उभरने नहीं देगा।

केजरीवाल पूरी तरह से दबाव बनाकर ही इस गठबंधन को बनाए रखना चाहते हैं, क्योंकि हरियाणा के शहरी हिस्से में बीजेपी सबसे मजबूत स्थिति में है। ऐसे में केजीरवाल के लिए गांव में पैठ बनाने के लिए जेजेपी के सहारे की जरूरत है, जब ये जरूरत पूरी हो जाएगी। तब जेजेपी से गठबंधन तोड़ देंगे।


बाकी समाचार