Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

सोमवार , 19 अगस्त 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

एग्जिट पोल ने दिए भूपेंद्र हुड्डा व दीपेंद्र हुड्डा की हार के संकेत

23 मई को एग्जिट पोल के नतीजों से अलग करिश्मा हरियाणा में होने की उम्मीद न के बराबर है.

रोहतक लोकसभा, सोनीपत लोकसभा, हरियाणा लोकसभा 2019, भूपेंद्र हुड्डा, दीपेंद्र हुड्डा, naya haryana, नया हरियाणा

20 मई 2019



नया हरियाणा

2019 के लोकसभा चुनावों को लेकर कल विभिन्न चैनलों पर एग्जिट पोल के सर्वे आए हैं. हरियाणा लोकसभा को लेकर कुछ सर्वे का अनुमान है कि हरियाणा लोकसभा की 10 सीटें बीजेपी के खाते में जा सकती हैं. हालांकि कांग्रेस वर्कर और हुड्डा समर्थक अभी मानने को तैयार नहीं हैं, परंतु इसके संकेत रोहतक और सोनीपत लोकसभा में साफ सुनाई दे रहे थे. 23 मई को एग्जिट पोल के नतीजों से अलग करिश्मा हरियाणा में होने की उम्मीद न के बराबर है.

कांग्रेस का जिसे मूल वोटर माना जाता रहा है वह अब बीजेपी की तरफ शिफ्ट हो चुका है. इसकी झलक नगर निगम के मेयर चुनाव व जींद उपचुनाव में साफ दिख रहे थे. दूसरी तरफ जिस बीजेपी को शहरी पार्टी समझा जाता था, उसने अपनी पैठ गांव के भीतर जबरदस्त तरीके से की है. जहां कांग्रेस, इनेलो और जेजेपी अलग-अलग हिस्सों में अपनी पैठ रखते हैं, वहीं बीजेपी ने पूरे हरियाणा के गांवों में अपनी पैठ बनाई है. जिसमें ईमानदारी से दी गई नौकरियों का सबसे बड़ा योगदान रहा है. 

भूपेंद्र हुड्डा व दीपेंद्र हुड्डा दोनों जाट वर्कर और अपने खास वर्करों तक लगातार सीमित होते गए और 2016 के दंगों में उनके नजदीकियों का नाम आने से शहरी वोटर दोनों से लगातार छिटकता रहा और इनके राजनीतिक सलाहकार इन्हें भरोसा दिलाते रहे कि जनता में बीजेपी के खिलाफ लहर है. जबकि हरियाणा में विपक्षियों की जमीन लगातार खिसकती रही और विपक्षी मनगढ़ंत तरीके से बीजेपी को कमजोर मानकर चलते रहे.

बीजेपी वर्करों की नाराजगी को जनता की नाराजगी समझने की भूल फेसबुकियों से लेकर पार्टी के सलाहकारों तक पसरी साफ दिख रही थी. नतीजे आने के बाद ईवीएम को कोसने के अलावा विपक्ष के पास कुछ नहीं बचेगा. यही आलम रहा तो आने विधानसभा में विपक्ष का संपूर्ण सफाया तय होगा. नकारात्मक राजनीति के भरोसे जनता का दिल नहीं जीता जा सकता भले ही फेसबुक पर लाइक, कमेंट व शेयर बढ़ते रहें परंतु जनाधार घटता रहता है.

Tags:

बाकी समाचार