Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 20 जून 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

किरण चौधरी ने हुड्डा खेमे को चकमा देते हुए विपक्ष के नेता बनने संबंधी पत्र स्पीकर को सौपा

अभय चौटाला के बाद नेता प्रतिपक्ष पद के लिए कांग्रेस की अंदरूनी कलह का भांडाफोड़ करता एक नया मोड़ सामने आया है

kiran choudhary, who is the next leader of opposition in haryana, leader of opposition in haryana, naya haryana, नया हरियाणा

5 अप्रैल 2019



नया हरियाणा

अभय चौटाला के बाद नेता प्रतिपक्ष पद के लिए कांग्रेस की अंदरूनी कलह का भांडाफोड़ करता एक नया मोड़ सामने आया है. जहाँ कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी नेता प्रतिपक्ष पद की दौड़ में दो कदम आगे बढ़ती दिख रही हैं. किरण चौधरी ने हुड्डा खेमे को चकमा देते हुए चुपचाप अपने विपक्ष के नेता बनने संबंधी पत्र स्पीकर कंवरपाल गुर्जर को दे दिया है. इस चिट्ठी को स्पीकर ने फिलहाल होल्ड पर रखा है. 
सूत्रों से पता चला है कि चिट्ठी लिखने को लेकर कांग्रेस में खलबली मची हुई है. क्योंकि बिना विधायक दल की जानकारी के ही यह चिट्ठी लिखी गई है. इसका प्रमाण चिट्ठी पर प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर के हस्ताक्षर का न होना और साथ ही किसी अन्य विधायक की कोई अनुशंसा नहीं दिख रही है. चिट्ठी मिलने के बाद विधान सभा सचिवालय किरण चौधरी के तमाम संवैधानिक पदों की पड़ताल करने में जुट गया है. विधानसभा स्पीकर के सामने इस पत्र के आने के बाद ही कोई फैसला होगा .तब तक किरण चौधरी का विपक्ष के नेता पद की दावेदारी वाला पत्र होल्ड पर रहेगा.
गौरतलब है कि पहले विधानसभा में भाजपा के 48, कांग्रेस के 17 और इनेलो के 19 विधायक थे. जिसमें बदलाव आते ही इनेलो के विधायकों की संख्या घटकर 11 रह गई.  इनेलो के 2 विधायक दिवंगत हो गए. जबकि 4 जननायक जनता पार्टी में चले गए. इसके अलावा 2 भाजपा के साथ जुड़ गए. ऐसे में विपक्ष के नेता का पद स्वाभाविक तौर से इनेलो की बजाय कांग्रेस के पास जाएगा.

किरण चौधरी और हुड्डा के बीच इस प्रकार का मामला पहले भी सुर्खियां बटोर चुका है. जिसमें हुड्डा ने किरण चौधरी को अपनी कैबिनेट से हटा दिया था और किरण अपने राजनीतिक प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए 1 घंटे के भीतर दोबारा मंत्री पद हासिल करने में कामयाब हो गई थी. इस बार भी मामला कुछ ऐसा ही दिखाई पड़ रहा है.

मीडिया को पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा विपक्ष के नेता पद के नाम को लेकर यह बयान दे रहे हैं कि पार्टी में अभी नेता प्रतिपक्ष के लिए फिलहाल कोई जल्दबाजी नहीं है. सभी विधायक लोकसभा चुनाव में व्यस्त हैं. तो ऐसे में दूसरी तरफ किरण चौधरी का नेता प्रतिपक्ष के पद के लिए गुपचुप पत्र लिखने कांग्रेस की एकजुटता की कलई खोलता है.


बाकी समाचार