Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

बुधवार, 24 अप्रैल 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हरियाणा में कांग्रेस की बस यात्रा हुई फ्लॉप!

हरियाणा प्रभारी गुलाम नबी आजाद रहे नदारद।

congress bus yatra in haryana, congress bus trip, congress bus rally, naya haryana, नया हरियाणा

26 मार्च 2019



नया हरियाणा

गुरूग्राम । प्रदेश भर में अपनी एकजुटता का ढ़ोल पीटने के लिए आज गुरूग्राम से शुरू हुई कांग्रेस की 15 सदस्यीय प्रांतीय को-आर्डीनेशन कमेटी की बस यात्रा पहले ही दिन टांय-टांय फिस्स हो गई । प्रदेश कांग्रेस के तीन बड़े नेताओं ने इस बस में चढ़ने से परहेज रखा और बाकी बचे नेताओं में से भी ज्यादातर कुछ मिनट भी एक साथ नहीं बैठ सके और चंद मिनट में ही बस से उतर गए और अपनी अपनी गाड़ियों में बैठ कर रफूचक्कर हो गये ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कांग्रेस की ‘एकता दिखाओ’ बस यात्रा आज पूरी तरह फ्लॉप रही और पार्टी के नेता परस्पर एकजुटता का दिखावा करने में भी असफल रहे । हरियाणा कांग्रेस के तीन दिग्गज नेता – पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी शैलजा , कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला और हरियाणा जनहित कांग्रेस (भजनलाल) का कांग्रेस में विलय करने वाले पूर्व सांसद कुलदीप बिश्नोई इस बस यात्रा से दूर ही रहे । कुलदीप बिश्नोई कांग्रेस आलाकमान द्वारा गठित प्रांतीय को-आर्डीनेशन कमेटी की अब तक हुई किसी भी बैठक में शामिल तक नहीं हुए हैं जबकि कुमारी शैलजा व रणदीप सिंह सुरजेवाला का आज के कार्यक्रम में शामिल न होने का फैसला भी काफी हैरानीभरा कहा जा सकता है । किसी को भी उनका इस कार्यक्रम से दूर रहना गले नहीं उतर पाया ।


गौरतलब है कि कांग्रेस आलाकमान ने हरियाणा कांग्रेस में चल रही गुटबाजी और आपसी खींचतान को मिटाने और सभी गुटों को एकजुट करने के उद्देश्य से हाल ही में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की अगुवाई में प्रांतीय को-आर्डीनेशन कमेटी गठित करने का फॉर्मूला निकाला था । इस फॉर्मूले के तहत प्रदेश के सभी दिग्गज कांग्रेसी नेताओं को को-आर्डीनेशन कमेटी में शामिल किया गया था और उन्हें आपसी तालमेल और एकजुटता का प्रदर्शन करते हुए एक साथ कदम ताल करके चलने का निर्देश दिया गया था । लेकिन कांग्रेस के इन नेताओं ने आज अपनी हरकतों से आलाकमान के सारे किए धरे पर पानी फेर दिया ।

हैरानी तो तब हुई कि जब दिल्ली गुरूग्राम सीमा पर इस बस यात्रा को झंडी दिखाई गई । कुछ देर के लिए कांग्रेस नेता इस बस में सवार हुए और बस के रवाना होने के कुछ मिनट बाद ही ज्यादातर बड़े नेता बस से उतर गये और बस के पीछे पीछे चल रही अपनी अपनी गाड़ियों में बैठ कर चलते बने । बस में को-आर्डीनेशन कमेटी के गिनती के सदस्य ही बच रहे या फिर बड़े नेताओं के नजदीकी । यह सब देख कर कांग्रेस के आम कार्यकर्त्ता एक दूसरे का मुंह ताकते रह गये । कुछेक मुंहफट कार्यकर्त्ताओं ने तो त्वरित टिप्पणी भी कर डाली कि “लो जी हो गई कांग्रेस की एकता । जो लोग चार कदम भी साथ नहीं चल सकते वे जनता को क्या संदेश देंगे ? ऐसे तो कांग्रेस ने कर लिया बीजेपी की चुनौती का मुकाबला ?”

मजेदार तथ्य यह है कि कांग्रेस के दिग्गज नेता बस के अगले पड़ाव पर पहुंचने से पहले फिर से बस में चढ़ गये , ताकि कार्यकर्त्ताओं के सामने एकजुटता का ढ़ोल पीटा जा सके , लेकिन ये नेता शायद यह नहीं जानते कि ये जो पब्लिक है न , वह सब पैंतरों को खूब अच्छी तरह जानती है ।

सोहना में यात्रा के दौरान दिखाई दी गुटबाजी

यूँ तो कांग्रेस पार्टी द्वारा आयोजित परिवर्तन बस यात्रा कार्यकर्ताओं में जोश व एकता का सन्देश देने के लिए निकाली जा रही है| किन्तु बावजूद इसके सोहना कस्बे में स्थानीय नेताओं ने अपने-अपने तरीकों से अपने नेताओं के समर्थन में शक्ति प्रदर्शन किया| नेताओं के समर्थकों ने अपनी टी-शर्ट्स पर अपने नेताओं के फोटो तो लगा ही रखे थे, साथ ही अपने नेताओं के होर्डिंग्स भी हाथों मेें उठाए हुए थे। कार्यकर्ताओं की गाड़ियों पर भी स्टीकर द्वारा यह प्रदर्शित किया जा रहा था कि वे किस नेता के अनुयायी है।

गुलाम नबी आजाद भी रहे नदारद

गुरूग्राम से सोहना पहुंची परिवर्तन यात्रा के दौरान कांग्रेस के हरियाणा के प्रभारी गुलाम नबी आज़ाद भी इस कार्यक्रम से नदारद रहे| इसके अलावा तालमेल कमेटी के कई सदस्य भी वहां पहुंचते पहुंचते गायब हो गए| इन सब बातों को लेकर कार्यकर्ताओं में भिन्न-भिन्न तरह की चर्चाएं चलती रही।


बाकी समाचार