Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 20 जून 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

कुरुक्षेत्र के सांसद गुलजारी लाल नंदा रहे दो बार कार्यवाहक प्रधानमंत्री

कुरुक्षेत्र संसदीय क्षेत्र से चुने गए गुलजारी लाल नंदा को कार्यवाहक प्रधानमंत्री बनने का गौरव मिला था.

gulzari lal nanda, kurukshetra mp gulzari lal nanda, pm of india, naya haryana, नया हरियाणा

26 मार्च 2019



नया हरियाणा

कुरुक्षेत्र का नाम केवल गीता में ही नहीं बल्कि राजनीति में भी अपना महत्व रखता है. कुरुक्षेत्र संसदीय क्षेत्र से चुने गए गुलजारी लाल नंदा को कार्यवाहक प्रधानमंत्री बनने का गौरव मिला था. इसके साथ ही कुरुक्षेत्र से सांसद बने गुरदयाल सिंह सैनी में कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने पर लोकसभा अध्यक्ष को त्याग पत्र दे दिया था और सीधे अपने घर पहुंच गए थे. दो बार कार्यवाहक प्रधानमंत्री रहे स्वर्गीय गुलजारी लाल नंदा कुरुक्षेत्र से 1967 और 1971 में सांसद बने थे. गुलजारीलाल नंदा, नेहरू की मृत्यु के बाद 27 मई से 9 जून, 1964 और लाल बहादुर शास्त्री के निधन के बाद 11 से 24 जनवरी, 1966 में कार्यवाहक प्रधानमंत्री रहे. देश में जब गौहत्या आंदोलन हुआ उस समय नंदा केंद्र सरकार में गृह मंत्री थे. गौहत्या रोकने के लिए आंदोलनकारी जब संसद के बाहर पहुंचे, तो नंदा ने आंदोलन से प्रभावित होकर मंत्री पद से त्याग दे दिया और आंदोलनकारियों में शामिल हो गए. 1989 में कुरुक्षेत्र से जनता दल के उम्मीदवार के रूप में लोकसभा के लिए चुने गए गुरदयाल सिंह सैनी ने 1990 में केवल इस विरोध में सांसद पद से त्याग दिया था कि चंद्रशेखर ने कांग्रेस के समर्थन से सरकार बना ली थी. सैनी त्याग पत्र देकर और अपने एमपी फ्लैट में सामान समेट कर सीधे कुरुक्षेत्र आ गए थे. हरियाणा सरकार के विधायक और मंत्री रहे हरपाल सिंह 1984 में कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में यहां से सांसद बने. साथ ही मंत्री रहे सरदार तारा सिंह कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में 1991 में सांसद बने. 
कुरुक्षेत्र से दो महिलाएं भी सांसद रह चुकी हैं. 1952 में सबसे पहले यहां से कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में सुभद्रा जोशी सांसद बनी थी और 1998-99 के लोकसभा चुनाव में इंडियन नेशनल लोकदल के उम्मीदवार के रूप में कैलाशो सैनी सांसद बनी थी.

1952 से 1971 तक यह सीट कैथल के नाम से रही. 1977 में इसका नाम कुरुक्षेत्र रखा गया.

साल             सांसद                   पार्टी
1952-57     सुभद्रा जोशी          कांग्रेस
1957-62     मूलचंद जैन            कांग्रेस
1962-67     देवदत्त पुरी             कांग्रेस
1967-71     गुलजारी नन्दा         कांग्रेस 
1971-77     गुलजारी नन्दा         कांग्रेस
1977-80     रघुबीर सिंह             जनता पार्टी
1980-84     मनोहर लाल सैनी    जनता पार्टी
1984-89     हरपाल सिंह            कांग्रेस
1989-90     गुरदयाल सैनी          जनता दल
1990-96     तारा सिंह                 कांग्रेस
1996-98     ओमप्रकाश जिंदल    हविपा
1998-99      कैलाशो सैनी           इनेलो
1999-2004   कैलाशो सैनी         इनेलो
2004-09       नवीन जिंदल         कांग्रेस
2009-14       नवीन जिंदल         कांग्रेस
2014             राजकुमार सैनी        भाजपा


बाकी समाचार