Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

शुक्रवार, 26 अप्रैल 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हरियाणा बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला दीपा मलिक को करवाएंगे बीजेपी में शामिल!

रियो पैरालिंपिक की रजत पदक विजेता दीपा मलिक (Deepa Malik) का  जन्म 30 सितम्बर को सन 1970 सोनीपत, हरियाणा में हुआ था।

Haryana BJP State President Subhash Barla, Para Olympic Champion Deepa Malik, included in BJP, naya haryana, नया हरियाणा

25 मार्च 2019



नया हरियाणा

अपने जज्बे और जुनून के लिए लोकप्रिय दीपा मलिक आज हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल होंगी और अपने राजनीतिक कैरियर की शुरूआत करेंगी। आज लगभग 3 बजे के करीब वो भाजपा मुख्यालय में बीजेपी पार्टी को विधिवत रूप में ज्वाइन करेंगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर प्रसिद्ध क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर और निशानेबाज़ अभिनव बिन्द्रा जैसे दिग्गज खिलाड़ियों ने इतिहास रचने वाली दीपा मलिक की जमकर प्रशंसा की है। दीपा पैरालंपिक खेलों में पदक जीतकर यह कारनामा करने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हो गई हैं. दीपा मलिक को अर्जन अवार्ड भी मिला हुआ है।

रियो पैरालिंपिक की रजत पदक विजेता दीपा मलिक (Deepa Malik) का  जन्म 30 सितम्बर को सन 1970 सोनीपत, हरियाणा में हुआ था। दीपा मलिक शॉटपुट एवं जेवलिन थ्रो के साथ-साथ तैराकी एवं मोटर रेसलिंग से जुड़ी एक विकलांग भारतीय खिलाड़ी हैं जिन्होंने 2016 पैरालंपिक में शॉटपुट में रजत पदक जीतकर इतिहास रचा।

परिचय

• पूरा नाम - दीपा मलिक
• जन्म -30 सितम्बर सन 1970
• स्थान - सोनीपत, हरियाणा
• खेल-क्षेत्र - शॉटपुट, जेवलिन थ्रो एवं मोटर रेसलिंग 
• प्रसिद्धि - भारतीय ऐथलीट 
• नागरिकता- भारतीय 
• पुरस्कार-उपाधि- 'अर्जुन पुरस्कार'

 दीपा मलिक को वर्ष 1999 में पता चला कि उनके रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर है। जिसकी वजह से वह चल नहीं सकती। उन्हें अपनी कमर के नीचे का कोई अंग महसूस नहीं होता। रीढ़ की हड्डी का ट्यूमर ठीक करने के लिए उनकी 31 सर्जरी करनी पड़ी। दीपा मलिक शॉटपुट एवं जेवलिन थ्रो के साथ-साथ तैराकी एवं मोटर रेसलिंग से जुड़ी एक विकलांग भारतीय खिलाड़ी हैं दीपा मलिक ने 30 की उम्र में तीन ट्यूमर सर्जरी और शरीर का निचला हिस्सा सुन्न हो जाने के बावजूद शॉटपुट एवं जेवलिन थ्रो में राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में पदक जीते हैं, दीपा मलिक ने तैराकी एवं मोटर रेसलिंग में भी कई स्पर्धाओं में हिस्सा लिया है। दीपा ने भारत की राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में 33 स्वर्ण तथा 4 रजत पदक प्राप्त किये हैं। वे भारत की एक ऐसी पहली महिला है जिसे हिमालय कार रैली में आमंत्रित किया गया।

भारत की दीपा मलिक के नाम दर्ज है ये उपलब्धियां

वर्ष 2008 तथा 2009 में दीपा मलिक ने यमुना नदी में तैराकी तथा स्पेशल बाइक सवारी में भाग लेकर 2 बार लिम्का बूक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराया।
दीपा मलिक ने 2007 में तथा 2008 में बर्लिन में जेवलिन थ्रो तथा तैराकी में भाग लेकर रजत एवं कांस्य पदक प्राप्त किया। दीपा ने 2009 में शॉट पुट में अपना पहला पदक (कांस्य) जीता था। इसके अगले ही साल ऐसा कमाल किया कि इंग्लैंड में शॉटपुट, डिस्कस थ्रो और जेवलिन तीनों में गोल्ड मेडल जीते। भारत की दीपा मलिक चाइना में पैरा एशियन गेम्स में कांस्य पदक जीता। वहां कांस्य जीतने वाली दीपा पहली भारतीय महिला बनीं।
वर्ष 2010 को चीन में हुए पैरा एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता।
गोला फेंक और चक्का फेंक में दीपा मलिक ने 2011 में विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीते थे। दीपा का रजत पदक भारत का पैरालंपिक खेलों में तीसरा पदक है।
दीपा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वीमिंग में मेडल जीत चुकी हैं। 2012 में उन्हें 'अर्जुन पुरस्कार' से नवाजा जा चुका है।
रियो पैरालिंपिक खेल- 2016 में दीपा मलिक ने शॉट-पुट में रजत पदक जीता, दीपा ने 4.61 मीटर तक गोला फ़ेंका और दूसरे स्थान पर रहीं।
भारतीय महिला एथलीट दीपा मलिक सामाजिक कार्य और लिखने में रुचि रखती हैं-

रियो पैरालिंपिक की रजत पदक विजेता दीपा मलिक खेल में ही आगे नहीं है, वह सामाजिक कार्य करने के साथ-साथ लेखन में भी रुचि रखती हैं। गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए कैंपेन चलाती है और सामाजिक संस्थाओं के कार्यक्रमों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेती हैं। दीपा को लिखने का शौक है और वह अपनी बायोग्राफी से लेकर खिलाड़ियों के बारे में लिखती हैं।

 

 


बाकी समाचार