Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

बुधवार, 20 नवंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

भूपेंद्र हुड्डा के साथ राहुल गांधी के जीजा भी जेल जाने वाले हैं- अनिल विज

उन्होंने कहा कि कांग्रेसी चाहे तो अपने नाम के आगे पप्पू लगा लें.

With Bhupinder Hooda, Rahul Gandhi's brother-in-law is also going to jail, Anil Vij, naya haryana, नया हरियाणा

19 मार्च 2019



नया हरियाणा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मैं भी चौकीदार हूँ के अभियान पर विरोधियों की तल्ख टिप्णियों पर हरियाणा के कैबिनेट मंत्री विज ने भी करारा हमला बोला है। विज ने कहा कि हमने अपने नाम के आगे चौकीदार लगाया है, तुम भी पप्पू रख लो, किसने रोका है।  विज ने बाकायदा इसको लेकर ट्वीट भी किया जो राजनैतिक गलियारों में चर्चा का विषय बना हुआ है। विज ने प्रियंका गांधी द्वारा अमीरों के चौकीदार के बयान पर भी प्रतिक्रिया दी। विज ने कहा कि सारी जिंदगी अमीरी में काटने वाली प्रियंका गांधी को क्या पता अमीर गरीब का फर्क। चौकीदार की जरूरत सबको होती है, किसान भी अपने खेत मे चौकीदार रखता है, पक्षियों से अपने अनाज को बचाने के लिए उन्हें भी चौकीदार चाहिए। विज ने कहा प्रियंका अभी अभी महलों से निकल कर आई हैं उन्हें इस देश की कोई जानकारी नहीं।

हरियाणा कांग्रेस में एक बार फिर भूपिंदर सिंह हुड्डा को लोकसभा समन्वय समिति का चेयरमैन बनाने पर विज ने कहा कि भूपेंद्र हुड्डा तो जेल जाने वाले हैं, और हो सकता है उनके साथ कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी के जीजा भी जाएं। विज ने कहा कि हुड्डा और वाड्रा कई भ्रष्टाचार के मामलों में को एक्यूसड हैं, इसलिए हुड्डा का ध्यान रखना पड़ता है। विज ने कहा कि हो सकता है अब ये जेल में बैठ कर टिकट बांटे और उसके लिए ये जेल के इनमेट्स से राय भी लें।

हरियाणा के ईमानदार आईएएस अशोक खेमका की एसीआर पर हाईकोर्ट द्वारा नेगटिव टिप्णियों को हटाने के आदेश ओर विज ने कहा कि उन्होंने अपने हिसाब से खेमका को ठीक नंबर दिए थे, क्योंकि हर आदमी की अपने अलग एसेसमेंट होती है, मुझे लगता है कि ईमानदारी के अलग नंबर होने चाहिए, शराफत के अलग नंबर होने चाहिए, सच्चाई के लिए अडने के भी अलग नंबर होने चाहिए और उसी हिसाब से मैंने नंबर दिए हैं। विज से जब ये पूछा गया कि क्या मुख्यमंत्री खट्टर ने ईमानदारी के नंबर नहीं लगाए तो विज सवाल का जवाब गोल कर गए और बोले की हर आदमी की अलग अलग एसेसमेंट हैं उनकी एक्सपेक्टेशन और हो सकती हैं, क्योंकि अधिकारियों से और भी उम्मीदें होती हैं और इसीलिए उन्होंने उस हिसाब से नंबर दिए होंगे। विज के इस बयान का मतलब क्या हो सकता है ये सोचने का विषय है।


बाकी समाचार