Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

मंगलवार, 24 अप्रैल 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात समाज और संस्कृति समीक्षा Faking Views

सरसों की खरीद में सरकार की नीयत में खोट

किसानों के हालात देखते हुए लग रहा है कि सरकार की नीयत में ही खोट है.

mustrad policy, farmer problems, naya haryana, नया हरियाणा

20 मार्च 2018

नया हरियाणा

नीति बना देने भर से काम चल जाता तो दिक्कत कहां आनी थी. सरकार ने सरसों के दाने-दाने को खरीदने का दावा किया. जिसके लिए नीति बनाई. पर किसानों के हालात देखते हुए लग रहा है कि सरकार की नीयत में ही खोट है.

किसानों की दिक्कतें---

-फर्द के लिए पटवारी पैसे ले रहा है या देने में आना-कानी कर रहा है. सरकार की तरफ से पटवारी की डयूटी मंडी में क्यों नहीं लगाई जा रही.

-अगर किसान के पास फसल बीमा के कागज है तो फर्द की क्या जरूरत है
-25 क्विंटल एक दिन में खरीदने के नियम की जरूरत क्या है?
-हरियाणा की सभी मंडियों में खरीद नहीं हो रही है, इसके लिए जिम्मेदारी कौन लेगा, कृषि मंत्री या मुख्यमंत्री या दोनों.
-भ्रष्ट सिस्टम से किसान को दिक्कत न हो. इसके लिए सरकार ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया है.
-गांव दर गांव खरीद के लिए निर्धारित किए गए हैं तो उस दिन सभी किसानों की सारी सरसों क्यों नहीं खरीद रही है सरकार?

किसानों ने अपनी समस्याएं फेसबुक पर सांझा की हैं-

' alt=', naya haryana, नया हरियाणा'>

' alt=', naya haryana, नया हरियाणा'>

' alt=', naya haryana, नया हरियाणा'>

' alt=', naya haryana, नया हरियाणा'>

नीति सही है, पर नीयत पर सवाल उठ रहे हैं. नीयत ठीक नहीं हो तो नीति बनाने से कुछ नहीं होता.


बाकी समाचार