Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

बुधवार, 24 अप्रैल 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

जानिए आज की मनोहर कैबिनेट में कौन से होंगे फैसले, विधानसभा भंग!

हरियाणा में सबसे यक्ष प्रश्न ये बना हुआ है कि विधानसभा भंग होगी की नहीं.

Know what will be the decisive cabinet of today, the assembly dissolved!, naya haryana, नया हरियाणा

8 मार्च 2019



नया हरियाणा

लोकसभा चुनावों का कार्यक्रम जारी होने से पहले मनोहर सरकार अपने सभी अधूरी योजनाओं और बचे हुए कामों को पूरा करने में जुटी है. जहां एक तरफ राजनीतिक नियुक्तियां धड़ाधड़ हो रही है वहीं दूसरी तरफ सरकारी नौकरियों के नतीजे भी लगातार घोषित किए जा रहे हैं. कैबिनेट बैठक में राज्य की इंडस्ट्रियल लाइसेंस पॉलिसी में बदलाव सहित कई अहमं फैसले होने हैं. बैठक में कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के अनुसार एचआरए दिए जाने का फैसला भी हो सकता है. सूत्रों के अनुसार सरकार 1 अक्टूबर, 2015 को बनाई गई औद्योगिक नीति में बदलाव कर सकती है. हरियाणा इंटरप्राइजेज प्रमोशन पॉलिसी में बदलाव के लिए ऑर्डिनेंस जारी किया जाएगा. झज्जर जिला के औद्योगिक क्षेत्र सांखोल (बहादुरगढ़) में मैसर्ज नॉर्दर्न इंडिया ग्लास इंडस्ट्रीज लिमिटेड द्वारा बेचे गए अवैध प्लॉटों को लीगल करने का फैसला कैबिनेट बैठक में लिया जा सकता है. राज्य सरकार सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा कल्याण विभाग का नाम बदलकर 'अंत्योदय विभाग' करने जा रही है. इसी के साथ मुख्यालय में उद्योग और वाणिज्य विभाग के एडिशनल डायरेक्टर वजीर सिंह को रिटायरमेंट के बाद कैबिनेट में 2 वर्ष की एक्सटेंशन दिए जाने का फैसला भी हो सकता है. मनोहर सरकार कैबिनेट प्रदेश में औद्योगिक विकास के लिए लॉजिस्टिक वेयरहाउसिंग एंड रिटेल पॉलिसी को मंजूर दे सकती है. लम्बे समय से उद्योग मंत्री विपुल गोयल इस पॉलिसी को तैयार करवाने में लगे हैं. बैठक में विभिन्न प्रकार के लोन एग्रीमेंट के लिए तय की गई स्टाम्प ड्यूटी को 2000 से कम करने का भी निर्णय लिया जाएगा. सिरसा के थेड़  माउंड के ग्रामीणों के पुनर्वास का फैसला बैठक में हो सकता है. यहां पुरातत्व विभाग द्वारा करवाई जा रही खुदाई की वजह से बेघर हो गए हैं और ग्रामीण आंदोलन कर रहे हैं. बैठक में हिसार से डेयरियों को बाहर करने के लिए नगर निगम हिसार को भूमि उपलब्ध करवाने का निर्णय भी लिया जा सकता है.

हरियाणा में सबसे यक्ष प्रश्न ये बना हुआ है कि विधानसभा भंग होगी की नहीं

दरअसल विधानसभा भंग करने का विचार ही मूलतः कांग्रेसी दिमाग की उपज है। अब जो कांग्रेसी दिमाग वाले पत्रकार या राजनीतिक विश्लेषक हैं उनके द्वारा फैलाया गया विचार है। जब इस विचार की गहराई में उतरोगे तो साफ ये दिखेगा कि उन्हें लगता है कि हरियाणा की मनोहर सरकार खुद की नैया मोदी सरकार के सहारे ही पार कर सकती है। और उनकी नजर में यह एक सुनहरा मौका है। जिसे कोई भी छोड़ना नहीं चाहेगा। दरअसल सारी दिक्कत यही है। हरियाणा की जनता के दिल और दिमाग को नहीं पढ़ने वाला ही ऐसे सोच सकता है। जबकि हरियाणा में विपक्ष के पास कुछ नहीं बचा है। यही हाल रहा तो कोई भी दल दहाई का आंकड़ा नहीं पकड़ पायेगा विधानसभा चुनाव में।खैर

दूसरी तरफ 6 को कैबिनेट की मीटिंग मनोहर लाल समय नहीं दे पाए थे सो इसलिए ये 8 को रखी गयी है कैबिनेट। 7 को मुख्यमंत्री चेयरमैन नियुक्त कर रहा है। और कैसे आप ये सोच लेते हो कि 8 भंग कर देगा। कोई एक दिन के लिए चेयरमैन बनाता है क्या? बीजेपी पहले 10 लोकसभा सीट में अपना दमखम दिखाएगी। परिस्थितियां अनुकूल रही तो 10 सीट बीजेपी को जाने के पूरे संजोग बने हुए हैं।

 


बाकी समाचार