Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 20 जून 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

रोहतक लोकसभा से चुनाव लड़ने पर जनरल सुहाग ने रखी अपनी राय

2014 में रोहतक लोकसभा से कांग्रेस के दीपेंद्र हुड्डा की जीत हुई थी.

Rohtak Lok Sabha, General Dalbir Singh Suhag, Congress MP Dipendra Hooda, BJP Haryana, naya haryana, नया हरियाणा

6 मार्च 2019



नया हरियाणा

बीजेपी हरियाणा में अबकी बार 10 लोकसभा सीटों पर नजरें गढ़ाए हुए हैं. जिसके लिए वो दमदार केंडिडेंट मैदान में उतारना चाहती है. खासकर रोहतक सीट पर बीजेपी को जीतने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ रही है, क्योंकि वहां से सांसद दीपेंद्र हुड्डा की छवि उनके लिए फायदेमंद है. ऐसे में क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग और जनरल सुहाग दोनों के नाम बीजेपी की तरफ से चले हैं. जिसमें सहवाग ने पहले साफ तौर पर मना कर दिया था.

जनरल दलबीर सिंह सुहाग 2016 में उस समय सेना प्रमुख थे जब भारतीय सेना ने म्यामांर और पाक अधिकृत कश्मीर में सीमा पार हमले बोले थे. लिहाजा, भाजपा ने आम चुनावों में हरियाणा से चुनाव लड़ने की संभावना तलाशने के लिए उनसे संपर्क साधा था. लेकिन उनके जवाब ने पार्टी के उन लोगों को स्तब्ध कर दिया जो रिटायर्ड कर्मचारियों को आराम का काम पाने के लिए गिड़गिड़ाते देखने के आदी हैं. जनरल सुहाग ने पेशकेश को ठुकराते हुए कहा कि वे राजनीति के लिए नहीं बने हैं और वे परिवार के साथ समय बिताना चाहते हैं.

कुलमिलाकर बीजेपी के दो बड़े नामों ने यहां से लड़ने से साफ मना कर दिया है. ऐसे में बीजेपी किस नाम पर विचार कर रही है. इसके कयास लगाए जा रहे हैं. एक नाम अरविंद शर्मा का भी चल रहा है और दूसरी तरफ सोनीपत के सांसद रमेश कौशिक का नाम भी लिया जा रहा है. बीजेपी अपने तरकस से कौन सा तीर चलाती है यह कहना अभी मुश्किल लग रहा है. हालांकि रोहतक लोकसभा में जातिगत समीकरण और मनोहर सरकार की कार्यशैली ने बीजेपी के जीत का समीकरण बिल्कुल तैयार कर दिया है. ऐसे में बीजेपी बड़े नाम पर दांव लगाती है या किसी सांसद को ही मैदान में उतारती है ये देखने वाली बात है.

बताया जा रहा है कि जनरल सुहाग के पूर्व सीएम से अच्छे संबंध होने के कारण भी उन्होंने चुनाव नहीं लड़ने की बात कही है.भपेंद्र हुड्डा ने वीरेंद्र सहवाग तक भी चुनाव नहीं लड़ने की मैसेज भिजवाया था. इस तरह की चर्चाओं राजनीतिक गलियारों में चलती रहती हैं. 


बाकी समाचार