Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

रविवार, 22 सितंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

बीजेपी ने कैथल में इनेलो को दिया करड़ा झटका

कैथल से रणदीप सुरजेवाला के खिलाफ लड़ सकते हैं चुनाव.

Big blow given to BJP, Kaithal Assembly, Manohar Lal, Inelo, naya haryana, नया हरियाणा

4 मार्च 2019



नया हरियाणा

लोकसभा और विधानसभा चुनावों के नजदीक आते ही बीजेपी ने धमाके करने शुरू कर दिए हैं। कैथल हलके से इनेलो से तीन बार रहे उम्मीदवार कैलाश भगत भाजपा में शामिल हो गए है। इसकी जानकारी मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर दी है। कैथल से कई बार विधानसभा का चुनाव लड़ चुके हैं। कैथल से रणदीप सुरजेवाला के खिलाफ कैलाश भगत उम्मीदवार हो सकते हैं। 

2014 में रणदीप सुरजेवाला विजयी रहे थे परंतु 2019 में रणदीप सुरजेवाला की राह आसान नहीं रहने वाली है। 2014 में क्या रहे थे समीकरण-

पूर्व मंत्री रणदीप सिंह सुरजेवाला कैथल से दूसरी बार इनेलो प्रत्याशी कैलाश भगत और भाजपा उम्मीदवार राव सुरेंद्र सिंह को चुनाव मैदान में पछाड़ने में सफल रहे। इनेलो प्रत्याशी कैलाश भगत जहां इनेलो वोट बैंक के साथ-साथ पंजाबी बिरादरी का शत-प्रतिशत समर्थन जुटाने का दावा कर रहे थे, वहीं भाजपा प्रत्याशी भी गुर्जर बिरादरी के दम पर चुनाव मैदान में उतरे। 

कैथल हलके के कुल 158 बूथों में से 116 बूथों पर रणदीप सुरजेवाला ने जीत दर्ज की। यही नहीं गुर्जर बिरादरी के गांव क्योड़क में जहां सुरजेवाला सभी बूथों पर कैलाश भगत को पछाड़ दूसरे स्थान पर रहे, वहीं नौच, बलवंती, दयोरा, कुलतारन में सुरजेवाला ने लीड हासिल की। गुर्जर बहुलक डयोढख़ेड़ी, कठवाड़, धौंस गांवों में भी सुरजेवाला दूसरे स्थान पर रहे। भाजपा के राव सुरेंद्र सिंह अपने बिरादरी के गांवों से भी बड़ी लीड हासिल नहीं कर पाए, जिस कारण रणदीप सुरजेवाला मात्र पहले राउंड में पिछड़े। शहर से प्रत्याशी के भाग्य का फैसला करने वाले आईटीआई के सभी छह बूथों पर सुरजेवाला की रिकार्ड जीत हुई। चुनावी दंगल जीतने के लिए अग्रवाल समाज के आईटीआई बूथों पर प्रत्याशियों की खास नजर थी। 

कम लोगों को पसंद आया चश्मा 

इनेलोप्रत्याशी कैलाश भगत इस बार बेशक दूसरे स्थान पर रहे, लेकिन वे मात्र 21 बूथ चुनावी दंगल में फतेह कर पाए। हालांकि कैलाश भी पंजाबी बिरादरी और इनेलो वोट बैंक के दम पर जीत का दावा कर रहे थे, लेकिन वे जातिगत समीकरणों पर खरे नहीं उतर पाए। कैलाश भगत नौच के बूथ नंबर दो, जगदीशपुरा, पट्टी अफगान के बूथ 22, छौत के बूथ नंबर 54, डोगरा गेट के बूथ नंबर 86 88, क्योड़क गेट के बूथ 89 और 90 पर चुनाव जीते। बूथ नंबर 98, 106, 109, 111, 112, 117, 119 में भी अन्य प्रत्याशियों से आगे रहे। प्रताप गेट के बूथ नंबर 136, 141 ग्योंग के बूथ 144 145 पर कैलाश आगे रहे। 

सिर्फ इन बूथों पर जीते राव 

जसवंती,क्योड़क के सभी आठ बूथ, उझाना, पाडला के बूथ नंबर 41, सजूमा के बूथ नंबर 51, दीवाल, जाट स्कूल के बूथ नंबर 118, डयोढखेड़ी, सांपलीखेड़ी, कठवाड़ और धौंस गांव में भाजपा का कमल खिला। गुर्जर बिरादरी के दबदबे वाले गांव क्योड़क समेत उक्त सभी बूथों पर रणदीप सुरजेवाला दूसरे स्थान पर रहे। 


बाकी समाचार