Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

बुधवार, 20 नवंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

जेजपी की लोकसभा और विधानसभा में नहीं आएगी एक भी सीट- ओमप्रकाश चौटाला

जेजेपी ने आप पार्टी के साथ गठबंधन न करके भी सकारात्मक दिशा में कदम बढ़ाया है।

Jananayak Janata Party, Lok Sabha and Vidhan Sabha will not get any single seat, Om Prakash Chautala, naya haryana, नया हरियाणा

4 मार्च 2019



नया हरियाणा

एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में ओमप्रकाश चौटाला से जननायक जनता पार्टी बाबत सवाल पूछा गया तो उन्होंने साफ शब्दों में और बेबाकी से कहा कि जेजेपी की अगले लोकसभा चुनाव में एक भी सीट नहीं जीतेगी और विधानसभा चुनाव में भी एक सीट नहीं जीत पाएगी।

उनकी इस भविष्यवाणी से जजपा के कार्यकर्ताओं में काफी गुस्सा और रोष उत्पन्न हुआ है तो कांग्रेस व इनेलो के कार्यकर्ता ओपी चौटाला की बात से सहमत होने के साथ-साथ खुश नजर आए हैं। हालांकि ओपी चौटाला की बात लोकसभा चुनाव पर तो पूरी तरह सटीक बैठती है परंतु विधानसभा चुनाव में जब तक प्रत्याशियों की घोषणा नहीं हो जाती तब तक कहना थोड़ा जल्दबाजी होगी।

वैसे ओपी चौटाला ने कहा है तो कुछ सोच समझकर कहा होगा या किसी खास रणनीति के तहत कहा होगा। अब इसमें उनका एजेंडा है या भविष्यवाणी। खैर उनके इस बयान का असर इनेलो और जेजेपी कार्यकर्ताओं पर जरूर पड़ता है। फिलहाल जेजेपी और इनेलो की हालत देखते हुए इतना साफ लग रहा है कि विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा जमानत जब्त इन दोनों दलों की ही होने वाली हैं। अगर आप पार्टी को अलग कर दिया जाए तो क्योंकि आप पार्टी का अस्तित्व हरियाणा में न के बराबर है।

जेजेपी ने आप पार्टी के साथ गठबंधन न करके भी सकारात्मक दिशा में कदम बढ़ाया है। जेजेपी का जितना ग्राफ हिसार लोकसभा में दुष्यंत चौटाला की हार से घटेगा उससे ज्यादा फायदा जेजेपी को रोहतक लोकसभा से दीपेंद्र हुड्डा की हार से होगा। दीपेंद्र हुड्डा की हार दुष्यंत चौटाला के लिए हर लिहाज से फायदे का सौदा होगा। रोहतक, झज्जर और सोनीपत के क्षेत्र में इनेलो अपना जनाधार काफी लंबे समय से खो चुकी है और ये तीनों क्षेत्र अजय चौटाला के अधीन रहा है। ऐसे में दीपेंद्र हुड्डा की हार के बाद भूपेंद्र हुड्डा के समर्थकों का रूझान जेजेपी की तरफ बढ़ना स्वाभाविक है।


बाकी समाचार