Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

रविवार, 15 सितंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

आप से गठबंधन टूटा, हिसार लोकसभा सीट से दुष्यंत चौटाला की हार के बने समीकरण

हिसार लोकसभा सीट से दुष्यंत चौटाला की हार लगभग तय लग रही है.

जजेेपी, आप, हिसार लोकसभा सीट, naya haryana, नया हरियाणा

3 मार्च 2019



नया हरियाणा

दिल्ली में कांग्रेस से गठबंधन न होने के बाद आम आदमी पार्टी (आप) ने लोकसभा चुनाव की घोषणा से पहले छह सीटों पर उम्मीदवारों के नाम घोषित कर दिए हैं। वहीं, हरियाणा में अाप का हाल ही में बनी जन नायक जनता पार्टी (जेजेपी) के साथ गठबंधन सिरे नहीं चढ़ पाया है। इसलिए आप ने प्रदेश में लोकसभा व विधानसभा चुनाव सभी सीटों पर अकेले लड़ने का ऐलान किया है। शनिवार को आप के प्रदेश संयोजक नवीन जयहिंद ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। दोनों पार्टी के नेताओं में काफी समय से बात चल रही थी। जींद उपचुनाव में आप ने जेजेपी समर्थित उम्मीदवार दिग्विजय चौटाला को समर्थन भी दिया। सूत्रों के अनुसार आप लोकसभा की 10 में से 5 और विधानसभा की 90 में से 45 सीटें मांग रही थी। जेजेपी ने लोकसभा की 2 और विधानसभा की 20 सीटें देने की पेशकश की थी। जेजेपी दिल्ली में भी एक सीट चाह रही थी। उधर, पंजाब में आप का गठबंधन शिअद टकसाली से हो सकता है।

आप से टूटा गंठबंधन जेजेपी के लिए फायदेमंद रहेगा या नुकसनदायक. इसको लेकर राजनीतिक गलियारों में चर्चाएं चली हुई हैं. ज्यादातर का कहना है कि जेजेपी के लिए शहरों में इस गठबंधन का टूटना नुकसानदायक रहेगा और गांव में आप पार्टी को नुकसान रहेगा. कुल मिलाकर हिसाब बराबरी का ही रहेगा. वैसे भी लोकसभा चुनाव के लिए दोनों दलों की तैयारी न के बराबर है और हरियाणा में भाजपा 10 लोकसभा सीटों पर मजबूत दिख रही है. 

हिसार लोकसभा से दुष्यंत चौटाला की हार लगभग तय है. पिछले चुनाव में दुष्यंत चौटाला का जाट-गैर जाट का पैंतरा जरूर चल गया था, परंतु इस बार वह पैंतरा कामयाब होता नहीं दिख रहा है और कांग्रेस हरियाणा में खत्म होने के कगार पर पहुंच गई है. दूसरी तरफ कांग्रेस का साइलेंट वोटर बीजेपी में शिफ्ट हो गया है. दूसरी तरफ बीजेपी का ग्राफ गांवों में आश्चर्यजनक रूप से बढ़ गया है. ऐसे में दुष्यंत की हार में इनेलो से अलग होना सबसे बड़ा फैक्टर रहेगा. गांव और शहर दोनों स्तरों पर कमजोर होने के कारण दुष्यंत की हार तय लग रही है. कांग्रेस अगर शहर में मजबूत रहती तो दुष्यंत चौटाला के लिए कोई स्पेस बन सकता था, परंतु कांग्रेस शहरों में लगातार अपना जनाधार खोती जा रही है. हिसार लोकसभा में लड़ाई जींद उपचुनाव की तरह कांग्रेस और जेजेपी में दूसरे और तीसरे नंबर के लिए है.

हिसार लोकसभा सीट में 9 विधानसभा सीटों में उचाना कलां, नारनौंद, हिसार, हांसी, आदमपुर, नलवा, बरवाला, उकलाना, बवानी खेड़ा है. जिनमें वर्तमान समय में ज्यादातर सीटों पर बीजेपी बढ़त बनाए हुए हैं. नारनौंद, हांसी, हिसार, उचाना कलां व नलवा में बीजेपी की बढ़त साफ है. आदमपुर में कांग्रेस के कुलदीप बिश्नोई की बढ़त है. उकलाना व बवानीखेड़ा में जेजेपी और इनेलो दोनों का बराबर है.

Tags:

बाकी समाचार