Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

सोमवार , 17 जून 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हरियाणा में अब पशुओं का भी रजिस्ट्रेशन होगा, सीमन बेचने वाली कंपनियों के लिए सर्टिफिकेट अनिवार्य

प्रदेश में दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए सरकार ने यह कानून बनाया है.

Haryana will also have registration of animals, for companies selling seamans, certificate mandatory, Om Prakash Dhankar, naya haryana, नया हरियाणा

28 फ़रवरी 2019



नया हरियाणा

हरियाणा अब जल्द ही पशुओं का भी रजिस्ट्रेशन करने की तैयारी में है. हरियाणा पशु पंजीकरण प्रमाणीकरण और प्रजनन विधेयक-2019 बजट सत्र के दौरान पारित किया जा चुका है. इसके लिए बकायदा अलग से प्रजनन अथॉरिटी होगी. पहली पशुओं के पंजीकरण व प्रमाणीकरण के लिए होगी और दूसरी ऑथोरिटी प्रजनन के लिए काम करेगी.
कृत्रिम गर्भधारण के लिए सीमन और अंडे बेचने वाले लोगों और कंपनियों को भी सर्टिफिकेट लेना अनिवार्य कर दिया गया है. इस कानून के बाद बछड़े-बछड़ियों, कटड़े-कटड़ियों के नाम भी होंगे. यही नहीं उनके माता-पिता यानी गाय-सांड और भैंस-झोटे से ही उनका नामकरण होगा. पशुपालन विभाग पशु पालकों को दूध उत्पादन क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ पशुओं की नस्ल सुधारने के लिए उत्तम किस्म के झोटों व सांड का सीमन मुहैया कराएगा.
प्रदेश में दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए सरकार ने यह कानून बनाया है. वर्तमान में प्रति पशु औसतन दूध उत्पादन 7 किलोग्राम है. हरियाणा इस मुकाबले में इजराइल का मुकाबला करने की कोशिश में है. इजराइल में पशु प्रति दूध उत्पादन 30 किलोग्राम है. वही न्यूजीलैंड में 16 और इंग्लैंड में 15 किलोग्राम दूध उत्पादन होता है. डेयरी के मामलों में ब्राजील दुनिया में प्रथम स्थान पर है. जहां एक पशु 65 लीटर तक दूध देता है. प्राइवेट सीमन बेचने वाली कंपनियों के लिए सर्टिफिकेट अनिवार्य कर दिया गया है. जिसके तहत किस सांड और झोटे का सीमन है उन्हें इसका बकायदा पूरा ब्यौरा देना होगा. जिसकी जांच प्रजनन ऑथोरिटी करेगी और इसके बाद ही लाइसेंस दिया जाएगा.


बाकी समाचार