Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

शुक्रवार, 26 अप्रैल 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

मुख्यमंत्री मनोहर से की महेंद्रगढ़ का नाम नारनौल बदलने की अपील

सूचना अधिकार मंच नारनौल ने आज मुख्यमंत्री महोदय को पत्र लिखकर अपील की है।

मुख्यमंत्री मनोहर,  महेंद्रगढ़ का नाम नारनौल, सूचना अधिकार मंच, संजय शर्मा, naya haryana, नया हरियाणा

25 फ़रवरी 2019



नया हरियाणा

सूचना अधिकार मंच नारनौल ने आज मुख्यमंत्री महोदय को पत्र लिखकर जिला महेंद्रगढ़ का नाम बदलकर जिला नारनौल रखने की मांग की है .मंच के अध्यक्ष संजय शर्मा ने बताया कि वर्षों से जिला महेंद्रगढ़ का मुख्यालय नारनौल ही रहा है .नारनौल में जिले के तमाम छोटे बड़े अधिकारी और उनके  कार्यालय जिला मुख्यालय होने के नाते स्थित हैं .सरकार ने हजारों करोड़ रुपए लगाकर इन कार्यालयों ,अधिकारियों के आवास ,व सरकारी भवनों का निर्माण  जिले में किया है. वर्षों से नारनौल जिले का  राजनीतिक ,संस्कृति और आर्थिक केंद्र भी रहा है . जिले की भौगोलिक स्थिति भी उसके जिला मुख्यालय का समर्थन करती है. यही नहीं नारनौल 3
राष्ट्रीय राजमार्गों से जुड़ा हुआ है. इसके अलावा नारनौल की स्थिती भी जिले के मध्य होने के कारण आवागमन सुलभ व सहज है.  क्षेत्रफल के आधार पर भी नारनौल महेंद्रगढ से बडा है. लघु सचिवालय भवन, पुलिस लाइन, पुलिस अधीक्षक कार्यालय, पासपोर्ट केंद्र ,जिला न्यायालय और तमाम जिला स्तर के कार्यालय नगर में विभिन्न स्थानों पर स्थित हैं .इन सब के बावजूद भी आगर जिले को कुछ नहीं मिला तो वह नारनौल का नाम है मंच की मांग है कि जिला महेंद्रगढ़ का नाम बदलकर जिला नारनौल रख दिया जाए . नाम बदलने की यह कार्यवाही सरकार पहले भी कर चुकी है. सत्यमेवपुरम से मेवात और मेवात से नूह तक नाम बदले जा चुके है. अगर जिला मुख्यालय नारनौल से बदलकर अन्यत्र किया जाता है तो हजारों करोड़ रुपयों का नुकसान सरकार को वहन करना पड़ेगा .इसके अतिरिक्त लोगों को भारी दिक्कत का सामना भी करना पड़ेगा .ऐसे में व्यवहारिक भी है कि जब सब कुछ नारनौल में ही स्थित है तो जिले का नाम भी जिला नारनौल किया जाना चाहिए .सूचना अधिकार मंच ने मुख्यमंत्री महोदय से इस विषय पर गंभीरता पूर्वक विचार करने की मांग की है मंच की कार्यकारिणी की बैठक में यह निर्णय लिया गया कि अन्य सामाजिक संगठनों से भी अनुरोध किया जाएगा कि वह भी इस मामले में मुख्यमंत्री महोदय से मिलकर जिले का नाम नारनौल रहने की मांग का समर्थन करें.

Tags:

बाकी समाचार