Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

शनिवार, 20 अप्रैल 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

48 साल से पहले कर्मचारी की मौत हुई तो परिवार के सदस्य को देंगे नौकरी- मनोहर लाल

हरियाणा में 13 साल बाद मनोहर लाल सरकार फिर एक्सग्रेसिया पॉलिसी को लागू करने जा रही है.

Before the 48th year, the employee died, the family member will give job, Manohar Lal, naya haryana, नया हरियाणा

23 फ़रवरी 2019



नया हरियाणा

हरियाणा में 13 साल बाद मनोहर लाल सरकार फिर एक्सग्रेसिया पॉलिसी को लागू करने जा रही है. हरियाणा में वर्ष 2006 में एक्सग्रेसिया पॉलिसी को तत्कालीन सरकार ने खत्म कर दिया था. जिसके चलते आज तक सेवारत कर्मचारियों के आकस्मिक निधन पर उनके परिजनों को सरकारी नौकरी का लाभ नहीं मिला, जबकि इस संदर्भ में आश्रित को पेंशन इत्यादि भी पुराने पैटर्न पर ही मिलती रही है. अनुग्रह नीति के बंद हो जाने से ऐसे कर्मियों के परिजन संगठन बनाकर अनुग्रह नीति को फिर से लागू करवाने के लिए सरकार से मांग कर रहे थे. आश्रितों ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल को भी ज्ञापन सौंपा था. चुनाव के दौरान भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में कर्मचारियों से इस नीति को लागू करने का वादा किया था. मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विधानसभा बजट सत्र में कहा कि इस नीति को नयी शर्तों के साथ लागू किया जाएगा.

एक्सग्रेसिया पॉलिसी की नई शर्तें:-

◆ यदि सेवारत कर्मचारी की मृत्यु 48 वर्ष या इससे कम वर्ष की आयु के दौरान होती है तो उसके परिवार में किसी को नौकरी दी जाएगी.
◆ आश्रित परिवार के पास यह विकल्प रहेगा कि वह इस पॉलिसी के तहत नौकरी लेना चाहते हैं या मृतक कर्मचारी की रिटायरमेंट तारीख (58 वर्ष) तक उसकी निर्धारित पूरी सैलरी चाहते हैं.
◆ यदि सेवारत कर्मचारी की मृत्यु 48 वर्ष की आयु के बाद होती है तो आश्रित परिवार को उसके रिटायरमेंट तारीख तक केवल पूरी सैलरी मिलेगी, नौकरी नहीं.
◆ पहले मृतक कर्मचारी जिस विभाग में काम करता था उसी विभाग में उसके आश्रित को नौकरी मिलती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा.
◆ अब आश्रित परिजन को उसकी योग्यता के अनुसार किसी भी विभाग में मृतक कर्मचारी के पद से वन स्टेप डाउन पद पर नौकरी मिलेगी.


बाकी समाचार